एशियन चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी के विजेता: भारत, पाकिस्तान और दक्षिण कोरिया का रहा है दबदबा

भारत और पाकिस्तान ने तीन-तीन बार पुरुष एशियन चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब जीता है। दक्षिण कोरिया तीन खिताब के साथ सबसे सफल महिला टीम है।

लेखक विवेक कुमार सिंह
फोटो क्रेडिट Hockey India

एक दशक पहले शुरू हुई एशियन चैंपियंस ट्रॉफी (Asian Champions Trophy) तेजी से महाद्वीप के सबसे रोमांचक हॉकी टूर्नामेंटों में से एक बन गई है और यह दुनिया का ध्यान आकर्षित करने वाला टूर्नामेंट बन गया है।

इस टूर्नामेंट में एशिया के शीर्ष छह देश शामिल हैं, जो सबसे अधिक प्रतिस्पर्धी हॉकी आयोजनों में से एक माना जाता है।

पिछले 10 वर्षों में एशियन चैंपियंस ट्रॉफी में भी काफी बदलाव हुए हैं। पहले ये एक वार्षिक टूर्नामेंट के रूप में शुरू हुआ था लेकिन बाद में द्विवार्षिक रूप से आयोजित किया जाने लगा और महिलाओं के आयोजन में टीमों की संख्या भी बढ़ा दी गई।

पहली एशियन चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी 2010 में बुसान में एकमात्र आयोजन के रूप में आयोजित की गई थी। हालांकि, तब एशिया की शीर्ष चार महिला टीमें - जापान, भारत, दक्षिण कोरिया और चीन ने पहले संस्करण में भाग लिया था।

ली सियोन ओके के नेतृत्व में मेजबान दक्षिण कोरिया फाइनल में जापान को हराकर पहली महिला चैंपियन बनी। भारत ने चीन को हराकर उद्घाटन संस्करण में तीसरा स्थान हासिल किया।

महिला टूर्नामेंट की सफलता के बाद पुरुषों का टूर्नामेंट 2011 में शुरू किया गया था। ये चीन के ऑर्डोस में आयोजित किया गया था।

भारत, पाकिस्तान, मलेशिया, जापान, दक्षिण कोरिया और चीन ने 2010 एशियन खेलों की शीर्ष छह टीमें पहली पुरुष एशियन चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब जीतने के लिए मैदान पर उतरीं।

दिग्गज राजपाल सिंह (Rajpal Singh) की कप्तानी में भारत ने कट्टर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को फाइनल में हराया। पुरुषों की एशियन चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी के पहले विजेता का फैसला पेनल्टी शूट-आउट से हुआ।

हालाँकि, पाकिस्तान ने 2012 में अगला संस्करण जीता, जिसमें गत चैंपियन भारत को हराया और दोनों देशों के बीच फाइनल में खेल प्रतिद्वंद्विता का एक और यादगार अध्याय लिखा गया।

पुरुषों का खिताब दो एशियन हैवीवेट टीमों के पास जा रहा है और कोई अन्य टीम इस दबदबे को तोड़ने में अभी तक कामयाब नहीं हो पाई हैं।

तीन-तीन खिताबों के साथ, भारत और पाकिस्तान पुरुषों की एशियन चैंपियंस ट्रॉफी में सबसे सफल टीम हैं। दिलचस्प बात ये है कि चैंपियंस ट्रॉफी 2018 का खिताब दोनों टीमों के बीच साझा किया गया था क्योंकि लगातार बारिश के कारण फाइनल मैच रद्द करना पड़ा।

पुरुषों का टूर्नामेंट 2011 और 2013 के बीच सालाना आयोजित किया गया था, लेकिन 2016 से हर दो साल में आयोजित किया जाने लगा। हालाँकि, 2020 संस्करण को COVID-19 महामारी के कारण स्थगित कर दिया गया था और जिसे 2021 में आयोजित किया गया।

मेंस एशियन चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी के विजेता

मेंस एशियन चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी के विजेता
साल विजेता उप-विजेता
2011 भारत पाकिस्तान
2012 पाकिस्तान भारत
2013 पाकिस्तान जापान
2016 भारत पाकिस्तान
2018 भारत और पाकिस्तान (संयुक्त विजेता)
2021 दक्षिण कोरिया जापान

दूसरी ओर महिला एशियन चैंपियंस ट्रॉफी में दक्षिण कोरिया का दबदबा रहा है, जो तीन बार खिताब जीतने में सफल रही है, दक्षिण कोरिया जब भी फाइनल में पहुंची है, उन्होंने जीत हासिल की है।

उद्घाटन संस्करण जीतने के बाद, दक्षिण कोरिया ने 2011 में खिताब को डिफेंस किया और 2018 में फिर से खिताब अपने नाम किया।

भारतीय महिला हॉकी टीम भी तीन बार फाइनल में पहुंच चुकी है लेकिन सिर्फ एक बार 2016 में ही उन्हें जीत मिली है। जापान एक अन्य ऐसी टीम है जिसने महिलाओं का खिताब जीता है।

महिला एशियन चैंपियंस ट्रॉफी 2010 और 2011 में और फिर 2013 में आयोजित की गई थी। इसे 2016 से द्विवार्षिक आयोजन में तब्दील कर दिया गया।

2016 में महिला टूर्नामेंट में टीमों की संख्या चार से बढ़ाकर पांच कर दी गई थी। 2021 संस्करण में छह देश इस टूर्नामेंट में हिस्सा लिए।

महिला एशियन चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी की विजेता

महिला एशियन चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी की विजेता
साल विजेता उप-विजेता
2010 दक्षिण कोरिया जापान
2011 दक्षिण कोरिया चीन
2013 जापान भारत
2016 भारत चीन
2018 दक्षिण कोरिया भारत
2021 जापान दक्षिण कोरिया

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स