ओलंपिक सफलता के बाद दुनिया में शीर्ष पर बने रहने के लिए हाशिमोटो डाइकी ने अपना ध्यान दूसरी ओर लगा

इस खिलाड़ी ने जापान को ओलंपिक पुरुषों के जिम्नास्टिक पोडियम में शीर्ष पर रखा लेकिन अब हाशिमोटो डाइकी को एक अलग तरह की चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। इनमें शीर्ष पर रहना और हमवतन और पूर्ववर्ती उचिमुरा कोहेई के समान अपनी विरासत को बनाए रखना अहम है। अगर टोक्यो गेम्स 2020 में होते, तो जापानी स्टार को विश्वास नहीं है कि वह गोल्ड मेडल जीत पाते या नहीं। लेकिन 20 साल के इस खिलाड़ी ने अपने दिल की बात शेयर करते हुए कहा कि वह अपनी कम-पसंदीदा इवेंट्स पर और काम कर रहे हैं और उनका लक्ष्य है कि वह पहला वर्ल्ड टाइटल जीत सकें और सभी विरोधियों से बेहतर प्रदर्शन कर सके।

ओलंपिक सफलता के बाद दुनिया में शीर्ष पर बने रहने के लिए हाशिमोटो डाइकी ने अपना ध्यान दूसरी ओर लगा

इस खिलाड़ी ने जापान को ओलंपिक पुरुषों के जिम्नास्टिक पोडियम में शीर्ष पर रखा लेकिन अब हाशिमोटो डाइकी को एक अलग तरह की चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। इनमें शीर्ष पर रहना और हमवतन और पूर्ववर्ती उचिमुरा कोहेई के समान अपनी विरासत को बनाए रखना अहम है। अगर टोक्यो गेम्स 2020 में होते, तो जापानी स्टार को विश्वास नहीं है कि वह गोल्ड मेडल जीत पाते या नहीं। लेकिन 20 साल के इस खिलाड़ी ने अपने दिल की बात शेयर करते हुए कहा कि वह अपनी कम-पसंदीदा इवेंट्स पर और काम कर रहे हैं और उनका लक्ष्य है कि वह पहला वर्ल्ड टाइटल जीत सकें और सभी विरोधियों से बेहतर प्रदर्शन कर सके।

संबंधित कंटेंट