टोक्यो ओलंपिक में मिली शानदार जीत की वजह से नीरज चोपड़ा  वर्ल्ड रैंकिंग में टॉप 2 में शामिल

अपने करियर के यादगार प्रदर्शन की वजह से नीरज चोपड़ा वर्ल्ड नंबर वन जोहान्स के करीब पहुंचे।

लेखक प्रभात दुबे

टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड जीतने के बाद पुरुषों की भाला फेंक में नीरज चोपड़ा वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर 2 पर आ गए हैं।

बता दें कि 23 साल के नीरज चोपड़ा इस समय अपने करियर के सर्वश्रेष्ठ रैंकिग पर हैं, ग्रीष्मकालीन खेलों से पहले भारत का यह एथलीट विश्व में 16वें स्थान पर था।

टोक्यो 2020 में नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) ने स्वतंत्र भारत के लिए पहला ट्रैक एंड फील्ड ओलंपिक पदक जीतकर इतिहास रच दिया। निशानेबाज अभिनव बिंद्रा (Abhinav Bindra) के बाद देश के लिए ओलंपिक गोल्ड जीतकर इस कड़ी में नीरज चोपड़ा दूसरे खिलाड़ी बने हैं।

नीरज ने ओलंपिक गोल्ड हासिल करने के लिए 87.58 मीटर की दूरी तक भाला फेंका। खास बात ये रही कि फाइनल में उनका दूसरा थ्रो (87.03) था जो उन्हे गोल्ड दिलाने के लिए काफी था।

विश्व रैंकिंग में नंबर 1 जर्मनी के जोहान्स वेटर (Johannes Vetter) के बाद नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) ही है, लेकिन खास बात ये है कि टोक्यो ओलंपिक में पुरुषों की भाला फेंक में जोहान्स नौवे स्थान पर रहे थे।

इस बीच, भारत के शिवपाल सिंह (Shivpal Singh) कुछ खास प्रदर्शन ना कर पाने की वजह से विश्व पायदान पर दो अंक नीचे गिरकर दुनिया के 20वें नंबर के खिलाड़ी बन गए। बता दें कि शिवपाल सिंह ने भी टोक्यो में अपना पहला ओलंपिक खेला, लेकिन फाइनल में जगह बनाने में नाकाम साबित रहे।

पुरुषों की भाला फेंक में रोहित यादव (Rohit Yadav) (विश्व नंबर 56), यशवीर सिंह (Yashvir Singh) (विश्व नंबर 63) और डीपी मनु (DP Manu) (विश्व नंबर 84) टॉप 100 में शामिल होने वाले भारतीय खिलाड़ी बने।

वहीं दूसरी तरफ महिलाओं की भाला फेंक में राष्ट्रीय रिकॉर्ड धारक, अन्नू रानी (Annu Rani), जो कि हाल में दुनिया की 16वें नंबर की खिलाड़ी है। उन्होंने भी टोक्यो 2020 में अपना पहला ओलंपिक खेला, कुछ खास ना कर पाने की वजह से फाइनल के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाई।