नीरज चोपड़ा

भारत IND

एथलेटिक्स

  • मेडल्स
    1 G
  • पहला प्रतिभागी
    टोक्यो 2020
  • जन्म का साल
    1997
ओलंपिक रिजल्ट

बायोग्राफी

नीरज चोपड़ा

इतनी कम उम्र के बावजूद भारतीय जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने ओलंपिक पदक जीतकर पहले और एकमात्र ट्रैक एंड फील्ड एथलीट बनकर इतिहास की किताबों में अपना नाम दर्ज करा लिया है - वो भी एक स्वर्ण पदक के साथ।

टोक्यो 2020 में नीरज चोपड़ा का स्वर्ण पदक बीजिंग 2008 में निशानेबाज अभिनव बिंद्रा की 10 मीटर एयर राइफल में स्वर्ण पदक के बाद भारत का दूसरा व्यक्तिगत ओलंपिक स्वर्ण पदक था।

टोक्यो ओलंपिक में प्रवेश करने वाले, नीरज चोपड़ा, पुरुषों की जैवलिन थ्रो प्रतियोगिता में सबसे पसंदीदा खिलाड़ियों में से एक थे, हालांकि उनक साथ दुनिया भर के फैंस के सबसे पहले पसंदीदा जोहान्स वेटर, विश्व चैंपियन एंडरसन पीटर्स, लंदन 2012 के स्वर्ण पदक विजेता केशोर्न वालकॉट प्रतिस्पर्धा कर रहे थे।

जब मुख्य इवेंट शुरू हुआ, तो भारतीय ने शानदार तरीके से शुरुआत की। नीरज चोपड़ा 86.65 मीटर थ्रो के साथ क्वालीफाइंग दौर में शीर्ष पर रहे, जहां वेटर सिर्फ 85.64 मीटर का थ्रो ही कर पाए थे।

जहां अधिकांश लोग फाइनल में नीरज चोपड़ा को पछाड़ने के लिए जर्मन वेटर का समर्थन कर रहे थे, वहीं भारतीय ने जोरदार अंदाज में अपने ही प्रयास से सभी को गलत साबित कर दिया। जहां वेटर ने संघर्ष किया और अंतिम आठ में जगह बनाने में असफल रहे, नीरज चोपड़ा शुरू से अंत तक मैदान पर सबसे आगे रहे।

87.03 मीटर के उनके पहले थ्रो ने उन्हें शीर्ष पर रखा, नीरज चोपड़ा ने 87.58 मीटर के दूसरे प्रयास के साथ अपना स्वर्ण पदक पक्का करने की ओर एक और कदम बढ़ा दिया। दूसरा थ्रो अंततः वो थ्रो साबित हुआ, जिसने उन्हें ऐतिहासिक स्वर्ण पदक दिला दिया।

नीरज चोपड़ा ने अपनी जीत के बाद कहा, "मेरा लक्ष्य हमेशा टोक्यो ओलंपिक था। मैंने कड़ी मेहनत की और प्रक्रिया पर भरोसा किया क्योंकि जब सबसे बड़े स्तर पर सफलता की बात आती है तो हर एक प्रयास मायने रखता है।”

ये जीत यादगार जरूर है लेकिन कई छोटी छोटी जीत के बाद मिलने वाला परिणाम है, जिसकी शुरुआत एक 13 वर्षीय मोटे बच्चे ने वजन कम करने और आत्मविश्वास हासिल करने के लिए खेल शुरू करने के साथ की थी।

पानीपत के शिवाजी स्टेडियम में खेल देखने के बाद नीरज चोपड़ा ने जल्द ही जेवेलिन थ्रो करना शुरू कर दिया। बिना किसी ट्रेनिंग के 40 मीटर से अधिक थ्रो करने के साथ, इस खेल के लिए उन्होंने अपनी प्रतिभा की झलक दिखाई थी।

भारतीय जेवलिन थ्रो जयवीर चौधरी ने उनकी क्षमता को पहचाना और नीरज चोपड़ा को अपनी देख-रेख में ट्रेनिंग देनी शुरू कर दी। जब सही कोचिंग लगी, तो हरियाणा के इस लड़के ने फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

नीरज चोपड़ा ने यूथ स्तर पर नेशनल डीविजन पर अपना दबदबा बनाया और कई अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार जीते। उन्होंने पोलैंड के ब्यडगोस्ज़कज़ में 2016 IAAF विश्व U20 चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने के बाद प्रसिद्धि हासिल की।

पोलैंड में उनका 86.48 मीटर का विजयी थ्रो अभी भी अंडर -20 जेवलिन थ्रो रिकॉर्ड बना हुआ है और इस तरह वो किसी भी स्तर पर विश्व चैंपियन बनने और विश्व रिकॉर्ड बनाने वाले पहले भारतीय ट्रैक एंड फील्ड एथलीट बन गए।

रियो 2016 के लिए पुरुषों की जेवलिन थ्रो के लिए क्वालीफाइंग कट ऑफ 83.00 मीटर था, नीरज चोपड़ा ने अपने पहले ओलंपिक के लिए लगभग क्वालीफाई कर लिया था, लेकिन दुर्भाग्य से क्वालीफिकेशन विंडो बंद होने के एक सप्ताह बाद उनका ये प्रयास देखने को मिला था। इससे पहले, चोट की वजह से नीरज चोपड़ा रियो क्वालीफिकेशन अभियान से दूर रहे थे।

हालांकि, नीरज चोपड़ा ने अंतरराष्ट्रीय मंच पर शानदार प्रदर्शन करना जारी रखा। गोल्ड कोस्ट 2018 राष्ट्रमंडल खेलों और जकार्ता 2018 एशियाई खेलों में स्वर्ण जीतने से पहले वो 2017 में एशियन चैंपियन बने।

नीरज चोपड़ा कोहनी की चोट के कारण 2019 विश्व चैंपियनशिप से चूक गए, जिसके लिए सर्जरी की आवश्यकता थी और उन्हें 16 महीने के लिए एक्शन से दूर रहना पड़ा था। हालांकि, भारतीय ने जनवरी 2020 में दक्षिण अफ्रीका के पोटचेफस्ट्रूम में एक मीट में टोक्यो 2020 के लिए क्वालीफाई करने के लिए अपनी वापसी की।

टोक्यो ओलंपिक के पहले नीरज चोपड़ा ने मार्च में इंडियन ग्रां प्री में 88.07 मीटर का नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया। 2018 के अर्जुन पुरस्कार विजेता ने 2016 से पुरुषों के जेवलिन थ्रो में भारतीय राष्ट्रीय रिकॉर्ड पर वर्चस्व बनाए रखा है और लगातार अपने खुद के रिकॉर्ड को सुधारा है।

शुरुआती 20 के दशक में नीरज चोपड़ा से उनकी टोक्यो 2020 की उपलब्धि के बाद बहुत कुछ की उम्मीद की जाएगी। जब वो प्रतिस्पर्धा नहीं कर रहे होते हैं, तब नीरज चोपड़ा भारतीय सेना में एक कमीशन अधिकारी के रूप में कार्य कर रहे होते हैं।

ओलंपिक रिजल्ट

और
ओलंपिक रिजल्ट
परिणाम इवेंट खेल

टोक्यो 2020

G
Men's Javelin Throw
Men's Javelin Throw Athletics

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स