ISSF वर्ल्ड कप 2022 काहिरा: भारतीय वूमेंस टीम ने एयर पिस्टल इवेंट में जीता स्वर्ण पदक

ईशा सिंह ने टूर्नामेंट का दूसरा मेडल जीता। इसके साथ ही भारत के खाते में दो गोल्ड और एक सिल्वर पदक शामिल हो गया है।

लेखक मनोज तिवारी
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

मिस्र के काहिरा में जारी ISSF विश्व कप में बुधवार को महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल टीम ने भारत के खाते में एक और स्वर्ण पदक शामिल किया।

ईशा सिंह, श्री निवेथा परमनाथम और रुचिरा विनरकर की भारतीय टीम ने गोल्ड मेडल मैच में जर्मनी की सांद्रा रिट्ज, कैरिना विमर और एंड्रिया हेकनर को 16-6 से शिकस्त दी।

इसके साथ ही भारत ने इस प्रतियोगिता में अब तक दो गोल्ड और एक सिल्वर मेडल अपने नाम कर चुका है। टीम इंडिया मेडल टैली में एक बार फिर शीर्ष पर पहुंच गयी है।

वहीं, युवा ईशा सिंह का टूर्नामेंट का दूसरा मेडल है, जिन्होंने पहले महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल में व्यक्तिगत सिल्वर मेडल जीता था। भारत के लिए सीनियर स्तर पर यह उनका पहला पदक है।

भारतीय महिलाओं ने पहले क्वालीफिकेशन स्टेज में 856 अंक हासिल किये और शीर्ष स्थान पर कब्जा किया। उसके बाद उन्होंने दूसरे चरण में 600 में से 574 का स्कोर किया, जिसके बदौलत उन्होंने मेडल मैच में तूफानी अंदाज में प्रवेश किया और फिर आठ टीमों में शीर्ष स्थान हासिल किया।

जर्मन टीम ने 571 अंक के साथ भारतीय टीम के बाद दूसरे स्थान पर कब्जा किया। जबकि चीनी ताइपे और सिंगापुर के बीच ब्रॉन्ज मेडल मुकाबला हुआ, जिसमें चीनी ताइपे ने जीत दर्ज की।

फाइनल में ईशा सिंह ने 10.8 का शानदार शॉट लगाते हुए बेहतरीन शुरुआत की। भारतीय टीम ने जल्द ही 6-0 की लीड हासिल कर ली, क्योंकि सभी निशानेबाजों ने तीसरी सीरीज के सिंगल शॉट में 10 या उससे अधिक का अंक हासिल किया।

चौथे राउंड में जर्मनी ने वापसी करते हुए लीड को 2-6 कर दिया, लेकिन भारतीय टीम ने दबाव बनाए रखा। 8-4 से भारतीय टीम ने सीधे 12-4 की बढ़त बना ली और जल्द ही ये लीड 16-6 हो गयी। श्री निवेथा व रुचिरा विनेरकर ने निर्णायक शॉट लगाया।

चौथे स्थान पर रही भारतीय मेंस पिस्टल टीम

एक ही दिन में राइफल और पिस्टल इवेंट में छह टीम प्रतियोगिता का फाइनल देखने को मिला। जिसमें भारत केवल मेंस की 10 मीटर एयर पिस्टल टीम प्रतियोगिता में पदक के करीब पहुंचा। सौरभ चौधरी, गौरव राणा और बालकृष्ण उचगानवे की तिकड़ी को ब्रॉन्ज मेडल मुकाबले में इटली की टीम से 6-16 से हारकर चौथे स्थान पर रहे। 

भारतीय मेंस टीम क्वालीफिकेशन के दो राउंड से गुजरी थी, क्वालीफिकेशन के पहले राउंड में 12 टीमों में से चौथे स्थान पर रही और फिर दूसरे राउंड में शीर्ष आठ टीमों में से तीसरे स्थान पर रही और इस तरह टीम पदक हासिल करने में एक कदम से चूक गई। 

आपको बता दें कि सौरभ, गौरव और बालकृष्ण ने दूसरे क्वालीफिकेशन राउंड में 600 में से 581 का संयुक्त स्कोर बनाया, जो शीर्ष दो टीमों जर्मनी और तुर्की के बराबर था। हालांकि, जर्मनी ने इनर 10 में 25 के स्कोर के साथ आसानी से शीर्ष स्थान हासिल किया। तुर्की ने भारत को सबसे कम अंतर से पीछे किया। भारत इनर 10-रिंग में 19 जबकि तुर्की ने 20 अंक हासिल किये।

जर्मनी ने फाइनल मुकाबले में तुर्की को 16-0 से हराकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया। 

10 मीटर एयर पिस्टल मिक्स्ड टीम इवेंट में ईशा और बालकृष्ण क्वालीफिकेशन राउंड से आगे नहीं बढ़ सके और 567 अंकों के साथ 44 टीमों में 19वां स्थान हासिल किया।

राइफल में भारत को नहीं मिला पदक

राइफल इवेंट में आयुषी गुप्ता और रुद्राक्ष बालासाहेब पाटिल ने 10 मीटर एयर राइफल मिक्स्ड टीम इवेंट के पहले सेमीफाइनल में जगह बनाई। 51 टीमों से 630.2 अंक के साथ भारतीय जोड़ी संयुक्त रूप से क्वालिफिकेशन में तीसरे स्थान पर रही। वे सेमीफाइनल में 22.5 अंकों के साथ चौथे स्थान पर रहे और बाहर हो गए।

टोक्यो ओलंपियन दिव्यांश सिंह पंवार, रुद्राक्ष पाटिल और सृंजॉय दत्ता ने भी क्वालीफिकेशन के दूसरे राउंड में जगह बनाई, भारतीय टीम ने 942.1 का स्कोर किया और पहले राउंड में 19 टीमों के बीच दूसरे स्थान पर रहे। वे दूसरे राउंड में 0.1 अंक से पीछे होने कारण चेक रिपब्लिक के बाद पांचवें स्थान पर रहे। मेडल राउंड में भारतीय टीम ने 624.2 का स्कोर किया और चौथा स्थान हासिल किया, लेकिन वे पदक से चूक गये।

महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल टीम इवेंट में भारत की राजश्री संचेती, श्रेया अग्रवाल और आयुष गुप्ता ने भी 20 टीमों के बीच हुए मैच में चौथा स्थान हासिल किया। उन्होंने दूसरे सेमीफाइनल में जगह बनाने के लिए 942.7 का स्कोर किया, जहां उन्होंने कुल मिलाकर 625 अंक का स्कोर किया और सातवें स्थान पर रहे।

इसके अलावा भारतीय मेंस व वूमेंस टीम सोमवार को भी 10 मीटर राइफल इवेंट में में खाली हाथ रही थी।

भारत के अलावा आठ अन्य देशों ने अब तक गोल्ड मेडल जीता है, लेकिन अभी तक किसी के पास एक से अधिक गोल्ड नहीं है। जर्मनी और इटली ने एक-एक गोल्ड, दो सिल्वर और एक ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया है और मेडल टैली में दोनों टीमें दूसरे स्थान पर हैं। अब तक कुल 17 देशों ने मेडल जीते हैं।

60 देशों के 500 से अधिक एथलीट काहिरा वर्ल्ड कप में भाग ले रहे हैं। जिसमें 20 मेडल सेट हैं। गुरुवार को कोई फाइनल निर्धारित नहीं है।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स