आइए एक नज़र डालते हैं ओलंपिक आइस हॉकी इतिहास के 10 सबसे यादगार पलों पर

इस सूची में, हम कुछ सबसे प्रतिष्ठित पलों के बारे में पढ़ेंगे जो कि पिछले वर्षों में शीतकालीन खेलों में आइस हॉकी के मैदान पर हुए हैं। तो चलिए अब और इंतजार नहीं करते और एक नजर डालते हैं -

लेखक William Imbo

आइस हॉकी शीतकालीन ओलंपिक कार्यक्रम में मुख्य खेलों में से एक है और वर्षों से, इसने ऐसे मैच और परिणाम प्रदर्शित किए हैं जिनके बारे में वर्षों से एक साथ बात की गई है।

बल्कि, ओलंपिक में इतने महान आइस हॉकी पल आए हैं कि 10 की सूची तैयार करना काफी चुनौतीभरा था।

तो बिना देर किए, आइए एक नज़र डालते हैं टॉप टेन मोमेंट्स पर।

जब आइस हॉकी ने ग्रीष्मकालीन खेलों में अपना ओलंपिक पदार्पण किया

आपको लग रहा होगा कि चूंकि आइस हॉकी में 'आइस' शब्द है, इसलिए यह खेल शीतकालीन ओलंपिक में मूल आयोजनों में से एक होगा; हालांकि आइस हॉकी शैमॉनिक्स 1924 में पहले ओलंपिक शीतकालीन खेलों के कार्यक्रम में था, इसने वास्तव में चार साल पहले एंटवर्प में ओलंपिक ग्रीष्मकालीन खेलों में अपना ओलंपिक पदार्पण किया - जहां कनाडा ने पुरुषों की प्रतियोगिता में अपने नौ स्वर्ण पदकों में से पहला जीता था।

हालाँकि, आइस हॉकी को 1924 में स्थायी रूप से शीतकालीन कार्यक्रम में स्थानांतरित कर दिया गया था।

नागानो 1998

महिला आइस हॉकी टूर्नामेंट पहली बार 1998 के शीतकालीन ओलंपिक में जापान के नागानो में आयोजित किया गया था, जहां कनाडा ने स्वर्ण पदक मैच में यूएसए का सामना किया था।

उस शानदार फाइनल में, यूएसए विजेता के रूप में सामने आया; टीम की गोलकीपर Sarah Tueting, जिन्होंने 21 स्वेस किए थे, और Sandra Whyte, जिन्होंने पहले दो गोल में एसिस्ट किया और मुकाबला जीतने के लिए अंतिम सेकेंड में एक गोल भी दागा, वे दोनों उस मैच के सुपरस्टार थे।

ग्रेट ब्रिटेन ने जीता गोल्ड

ग्रेट ब्रिटेन ने कुल मिलाकर शीतकालीन ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा के अपने इतिहास में 11 स्वर्ण पदक जीते हैं, जिसमें 1936 में Garmisch-Partenkirchen खेलों में पुरुषों की आइस हॉकी टूर्नामेंट में उनकी जीत भी शामिल है।

Great Britain end Canada's reign
फोटो क्रेडिट IOC

उस समय के दौरान ग्रेट ब्रिटेन में खेल में सुविधाओं और भागीदारी में कमी को देखते हुए, फाइनल में कनाडा पर उनकी स्वर्ण पदक जीत (2-1) सही माईने में आश्चर्य की बात है।

लेकिन जब आपको पता चलेगा कि ब्रिटेन की 12-सदस्यीय टीम में से आठ खिलाड़ी वास्तव में कनाडा में ही पैदा हुए थे, कनाडाई (जो उस समय तक ओलंपिक प्रतियोगिता में अपराजित थे) पर उनकी यह आश्चर्यजनक जीत इस पिच्चर को थोड़ा और स्पष्ट कर देती है।

जब सोवियत प्रभुत्व शुरू हुआ

सोवियत संघ ने 1956 में कॉर्टिना में ओलंपिक में पुरुष हॉकी में अपना ओलंपिक पदार्पण किया, जहां उन्होंने कनाडा (जिसने पिछले सात ओलंपिक टूर्नामेंट में से छह जीते थे) को 2-0 से हराकर स्वर्ण का दावा किया।

यह तब था जब सोवियत प्रभुत्व शुरू हुआ - उस जीत के बाद उन्होंने नौ में से सात ओलंपिक टूर्नामेंट जीते।

Marie-Philip Poulin ने कनाडा के लिए ओवरटाइम में स्वर्ण पदक जीता

सोची, 2014

सोची में स्वर्ण पदक मैच में संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा का सामना हुआ, जो 2010 वैंकूवर में हुए फाइनल का दोहराव था, जहां कनाडा ने अपने पड़ोसियों को 2-0 से हराकर लगातार तीसरा स्वर्ण पदक जीता था।

Marie-Philip Poulin wins gold for Canada
फोटो क्रेडिट 2014 Getty Images

लेकिन इस बार रूस में स्क्रिप्ट कुछ अलग थी, अमेरिका ने तीसरे और अंतिम दौर में 2-0 की बढ़त बना ली थी। तो वहीं दूसरी ओर कनाडा की टीम ने भी हार मानने से इनकार कर दिया; जहां मैच ख़तम होने के साढ़े तीन मिनट पहले Brianne Jenner ने टूर्नामेंट का अपना पहला गोल दागा तो वहीं मैच समाप्त होने में 60 सेकंड से भी कम समय पहले Marie-Philip Poulin ने अपने देश के लिए एक महत्वपूर्ण गोल करके मैच को ओवर टाइम में पहुंचा दिया। 

ओवर टाइम में, पहले स्कोर करने वाली टीम प्रतियोगिता जीत जाएगी।

Poulin, जो सिर्फ एक गोल से संतुष्ट नहीं दिख रहीं थीं, उन्होंने एक और गोल किया और अपनी टीम को एक और फाइनल और स्वर्ण पदक मैच में जीत दिलाई।

जब Dominik Hasek चेक गणराज्य को गौरव की ओर ले जाता है

NHL खिलाड़ियों ने पहली बार नागानो 1998 खेलों में ओलंपिक आइस हॉकी टूर्नामेंट में भाग लिया था, उदाहरण के लिए, कनाडा में भविष्य के हॉल ऑफ फेमर्स से भरा एक रोस्टर था, जिसमें Wayne Gretzky, Eric Lindros और Patrick Roy शामिल थे।

हालाँकि चेक गणराज्य के खिलाड़ी अमेरिका की शीर्ष पेशेवर हॉकी लीग में प्रतिस्पर्धा कर रहे थे, फिर भी उनके दस्ते को नागानो में 'कमजोर' माना गया था। 

शायद सभी ने सोचा होगा कि वे सिर्फ कांस्य पदक जीत सकते हैं, स्वर्ण नहीं।

लेकिन फिर जो हुआ उसने सभी को चौंका दिया।

चेक गोलकीपर Dominik Hasek पदक के प्रबल दावेदार कनाडा के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबले में उभर के सामने आए, न केवल उन्होंने सभी शॉट्स बचाए और एक भी गोल नहीं होने दिया, उन्होंने अपनी टीम को पेनल्टी शूटआउट में जीता दिलाई और फाइनल में पहुंचने में मदद की जहां उन्हें स्वर्ण पदक के लिए रूस का सामना करना था।

इतना ही नहीं, फाइनल में भी, Hasek ने गेंद को एक बार भी (21 शॉट्स में से) अपने पास से नहीं जाने दिया; जबकि Petr Svoboda के एकमात्र गोल के लिए धन्यवाद, चेक गणराज्य ने ओलंपिक पुरुषों की आइस हॉकी में अपना पहला स्वर्ण पदक जीता। 

तो वहीं Hasek का पेशेवर करियर तीन दशकों तक चला, लेकिन बाद में उन्होंने स्वीकार किया कि नागानो में स्वर्ण पदक जीतना "उनके जीवन का सबसे बड़ा पल" था।

जब टीम यूएसए ने लिया अपना बदला

प्योंगचांग 2018 में महिला आइस हॉकी टूर्नामेंट में प्रवेश करते हुए, यूएसए की नज़र कनाडा के साथ रीमैच पर टिकी हुई थी, वह टीम जिसने उन्हें पिछले दो ओलंपिक फाइनल में हराया था।

और जब कनाडा ने ग्रुप प्ले में यूएसए के खिलाफ़ एक बार फिर 2-1 से जीत दर्ज की, तो टीम यूएसए के प्रशंसकों को लगा होगा कि उनके पड़ोसी एक बार फिर इतिहास दोहराने जा रहे हैं।

हालांकि, दोनों टीमों ने शीतकालीन ओलंपिक में दोनों देशों के बीच पांचवां स्वर्ण पदक टकराव स्थापित करने के लिए अपने-अपने सेमीफाइनल मैच जीते।

फ़ाइनल में, यूएसए ने पहली अवधि के अंत में पहला गोल दागा तो वहीं कनाडा ने वापसी की और दो गोल किए, इस प्रकार मैच में बढ़त बना ली। टीम यूएसए ने ज्यादा इंतज़ार किये बिना एक गोल और किया और मैच को ओवर-टाइम में पहुंचाया।

हालांकि ओवर-टाइम के दौरान दोनों टीमें एक-दूसरे पर हावी रहीं, उन दोनों में से कोई गोल नहीं कर सकीं। नतीजतन, विजेता का फैसला अब पेनल्टी शूटआउट के जरिए ही किया जाना था। अपने पक्ष में 3-2 के स्कोर के साथ, टीम यूएसए शूटआउट में विजेता बनकर उभरी - जिसका अर्थ यह भी था कि उन्होंने न केवल 20 वर्षों में इस अनुशासन में अपना पहला स्वर्ण पदक जीता, बल्कि उन्होंने अपने पड़ोसियों और पूर्व चैंपियन कनाडा से बदला भी लिया।

Sidney Crosby का गोल्डन गोल

कई वर्षों से, कनाडा हमेशा ओलंपिक पुरुषों की आइस हॉकी में राजा रहा है, जिसने 22 पदक जीते हैं, जिनमें से 13 स्वर्ण पदक हैं, और बर्फ पर संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ उनकी प्रतिद्वंद्विता काफी एकतरफा रही है।

वास्तव में, इन दोनों देशों के बीच हुए 18 ओलंपिक मैचों में, यूएसए केवल तीन मौकों पर शीर्ष पर आया है। इसलिए जब कनाडा एक बार फिर संयुक्त राज्य अमेरिका से वैंकूवर 2010 में स्वर्ण पदक के मैच में भिड़ा, तो कनाडा हॉकी प्लेस के अंदर बैठे प्रशंसक सोच रहे होंगे कि अंतिम परिणाम कुछ अलग नहीं होगा।

और कुछ ऐसा ही हुआ।

दूसरी अवधि में कनाडा ने पहले ही 2-0 की बढ़त बना ली थी। ऐसा लग रहा था कि कनाडा की टीम इस प्रतियोगिता को फिर से बहुत आसानी से जीत लेगी। हालांकि, Ryan Kesler और Zach Parise के दो गोलों की बदौलत अमेरिका ने वापसी कर ली और मैच ओवरटाइम में चला गया।

फिर, खिलाड़ियों और प्रशंसकों सहित सभी लोग थोड़े तनाव में दिखे। हालांकि, उन्होंने उस घबराहट को अपने खेल को प्रभावित नहीं होने दिया। ओवरटाइम में सात मिनट के अंदर, ऑल-टाइम महान खिलाड़ी, कनाडा के Sidney Crosby ने गोल्डन गोल कर के अपनी टीम को मैच और स्वर्ण पदक जीतने में मदद की।

महान Peter Forsberg की महानता

Peter Forsberg को इतिहास के सबसे महान हॉकी खिलाड़ियों में से एक माना जाता है, जो उनके इस सरल उपनाम: पीटर द ग्रेट की व्याख्या भी करता है।

अपने पूरे करियर में अर्जित की गई कई ट्राफियों और प्रशंसाओं के बीच, Forsberg ने स्वीडन को आइस हॉकी में अपना पहला स्वर्ण पदक जीतने में मदद करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जब उन्होंने लिलेहैमर 1994 ओलंपिक शीतकालीन खेलों में कनाडा के खिलाफ फाइनल में एक शानदार शूटआउट गोल किया। वो गोल वास्तव में इतना अच्छा था की इसने उन्हें स्वीडिश डाक टिकट पर एक स्थान दिलाया और एक हॉकी किंवदंती के रूप में उनकी विरासत को मजबूत किया।

‘द मिरेकल ऑन आइस’ - बर्फ पर चमत्कार

आइस हॉकी का कोई भी प्रशंसक निस्संदेह 'द मिरेकल ऑन आइस', या फिर 'बर्फ पर चमत्कार' की इस कहानी को जानता होगा। राजनीतिक और राष्ट्रीय प्रतिद्वंद्विता के इर्द-गिर्द घूमती हुई इस लड़ाई में, एक अमेरिकी टीम ने लेक प्लासिड 1980 विंटर ओलंपिक में पुरुषों के स्वर्ण पदक के खेल में सोवियत संघ की टीम का सामना किया।

The Miracle on Ice

इस मैच से दो दिन पहले, मैडिसन स्क्वायर गार्डन में एक प्रदर्शनी मैच में दोनों टीमों का आमना-सामना हुआ, जहां सोवियत ने अमेरिकियों को 10-3 से हराया। उस मैच के परिणाम के अनुसार, सोवियत संघ इस मैच को जीतने के लिए पसंदीदा था।

फिर भी यूएसए की टीम फाइनल में सोवियत को 4-3 के अंतर से हराने में सफल रही। हालांकि विपक्षी टीम ने तीन गोल किए जरूर, लेकिन अमेरिकी गोलकीपर Jim Craig मैच के स्टार रहे, जिन्होंने 36 सेव किए।

'मिरेकल ऑन आइस', जैसा कि यह मैच ज्ञात हो गया, एक पौराणिक लड़ाई में स्थानांतरित हुआ, जिसमें कई किताबें (और यहां तक ​​कि एक फिल्म) यूएसए की जीत के बारे में बनाई गई थीं। 2000 में, एसोसिएटेड प्रेस ने जीत को 20वीं सदी के शीर्ष खेल क्षण का नाम दिया।