बीजिंग 2022: ओलंपिक विंटर खेलों में प्रमुख एथलीट और टीमों पर डालें एक नजर (भाग I)

हमारे इस आर्टिकल के दो भाग के पहले भाग में, हम बीजिंग 2022 में अल्पाइन स्कीइंग, फिगर स्केटिंग, फ्रीस्टाइल स्कीइंग, स्नोबोर्डिंग, आइस हॉकी, ल्यूज, शॉर्ट ट्रैक और स्पीड स्केटिंग खेलों पर चलिए एक नजर डालें।

लेखक सतीश त्रिपाठी
फोटो क्रेडिट 2014 Getty Images

4 फरवरी 2022 को दुनिया के बेहतरीन एथलीट विंटर ओलंपिक गेम्स के लिए बीजिंग में इकट्टा होंगे। जहां करीब 3,000 एथलीट 109 इवेंट में हिस्सा लेंगे। इस दौरान बहुत सारे स्कीयर, स्केटर्स और स्लाइडर्स होंगे। इसके साथ ही सभी प्रतिस्पर्धी खेलों में स्वर्ण पदक हासिल करने के लिए एक दूसरे को चुनौती देंगे। इस दौरान आप यहां बीजिंग 2022 में सभी 15 खेलों के लिए, संभावित टॉप एथलीटों और टीमों पर हमारी दो भागों में रिपोर्ट पढ़ेंगे!

मिकाएला शिफरीन - अल्पाइन स्कीइंग

 Mikaela Shiffrin
फोटो क्रेडिट 2018 Getty Images
  • राष्ट्रीयता: यूएसए | जन्म तिथि: 13 मार्च 1995
  • ओलंपिक डिसिप्लिन/विशेषताएं: स्लैलम, जाइंट स्लैलम, संयुक्त

करियर में पदकों की संख्या

ओलंपिक: डबल गोल्ड मेडलिस्ट (स्लैलम - सोची 2014, जायंट स्लैलम - प्योंगचांग 2018), सिल्वर मेडलिस्ट (संयुक्त - प्योंगचांग 2018)

विश्व चैंपियनशिप: छह बार की विश्व चैंपियन, कुल 11 पदक

विश्व कप: 106 पोडियम, 69 रेस जीत, आठ डिसिप्लिन खिताब और ओवरऑल तीन खिताब

आपको बता दें कि मिकाएला शिफरीन अभी अल्पाइन स्कीइंग में सबसे प्रमुख एथलीटों में से एक हैं। वह दो बार की ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता रह चुकी हैं, उन्होंने अपने खेल करियर में 2021 वर्ल्ड चैंपियनशिप में चार खिताब अपने नाम किए हैं। जिसमें (अल्पाइन संयुक्त में स्वर्ण सहित) चार पदक शामिल हैं। बताते चलें कि ओलंपिक अल्पाइन स्कीइंग इतिहास में उन्होंने सबसे कम उम्र की स्लैलम चैंपियन का खिताब भी अपने नाम किया है। जहां खेल के इतिहास में शिफरीन ने सबसे अधिक वर्ल्ड कप स्लैलम रेस (45) अपने नाम किए है। इसके साथ ही वह लगातार चार चैंपियनशिप में एक ही डिसिप्लिन (स्लैलम) में विश्व चैंपियनशिप जीतने वाली पहली अल्पाइन स्कीयर का रिकॉर्ड है।


शिफरीन ने प्योंगचांग 2018 में जायंट स्लैलम में स्वर्ण पदक अपने नाम किया, और (स्लैलम और संयुक्त) इवेंट में रजत पदक हासिल किया था। वहीं अगर 26 वर्षीय एथलीट बीजिंग 2022 में शानदार प्रदर्शन जारी रखती हैं तो वह ऐसा करने वाली पहली महिला एथलीट होंगी।


मिकाएला शिफरीन ने 66वें वर्ल्ड कप रेस जीतने के बाद एनबीसी से बात करते हुए कहा, "जिस चीज पर मुझे अभी सबसे अधिक गर्व है, वह यह है कि मुझे पता है कि स्लैलम, [जायंट स्लैलम], सुपर-जी और डाउनहिल में कैसे जीतना है, जिसकी मुझे कभी उम्मीद नहीं थी कि वास्तव में ऐसा होगा।"

हन्यू युजुरु - फिगर स्केटिंग

Hanyū Yuzuru
फोटो क्रेडिट 2018 Getty Images
  • राष्ट्रीयता: जापान | जन्म तिथि: 7 दिसंबर 1994
  • ओलंपिक डिसिप्लिन/विशेषताएं: पुरुष एकल

करियर में पदकों के संख्या

ओलंपिक: दो बार की स्वर्ण पदक विजेता (सोची 2014, प्योंगचांग 2018)

विश्व चैंपियनशिप: दो बार की विश्व चैंपियन, कुल सात पदक

चार महाद्वीप चैंपियनशिप: स्वर्ण पदक विजेता, तीन बार रजत पदक विजेता

ग्रैंड प्रिक्स फाइनल: चार बार की चैंपियन, दो बार की रजत पदक विजेता

हन्यू युज़ुरु पुरुष एकल प्रतियोगिता में मौजूदा ओलंपिक चैंपियन हैं। वह निश्चित रूप से बीजिंग में एक प्रबल दावेदार हैं, जहां उन्हें अपने खेल में लगातार तीसरे खिताब की तलाश है - एक उपलब्धि जो 1928 के बाद से हासिल नहीं हुई है। जहां ये जापानी खिलाड़ी अपने खेल में कोई अंजान नही है, ये एक अनुभवी एथलीट है। बता दें कि युजुरु ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले एशियाई पुरुष एकल स्केटर हैं। इसके साथ ही 1948 के बाद से स्वर्ण पदक जीतने वाले सबसे कम उम्र के पुरुष स्केटर का रिकॉर्ड भी उन्होंने अपने नाम किया है। यही नहीं सुपर स्लैम हासिल करने वाले पहले और एकमात्र पुरुष एकल स्केटर भी हैं। युजुरु ने अपने सीनियर और जूनियर करियर में सभी प्रमुख प्रतियोगिताएं जीती हैं।

आपको जानकर हैरानी होगी की हुन्यो ने 19 बार ये वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़े हैं, और जिन्हें इतिहास में सबसे दिग्गज पुरुष फिगर स्केटर के रूप में जाना जाता है। अगर सीधे शब्दों में कहें तो वह टेलीविजन पर अपनी छाप छोड़ने में मिस नहीं कर सकते।

हन्यू युजुरु ने कहा, "मैं दो बार जीतने में कामयाब रहा, लेकिन ओलंपिक मेरे लिए खास है। ओलंपिक खेल वह है, जिसे हर एथलीट और फिगर स्केटर जीतना चाहता है। जहां उसे जीतना आपको एक शानदार चैंपियन बनाता है। मैं यह सोचने के लिए उत्सुक हूं कि बीजिंग खेलों में कौन जीतेगा।"

सुज़ैन शल्टिंग - शॉर्ट ट्रैक स्पीड स्केटिंग

Suzanne Schulting 
फोटो क्रेडिट 2018 Getty Images
  • राष्ट्रीयता: नीदरलैंड | जन्म तिथि: 25 सितंबर 1997
  • ओलंपिक डिसिप्लिन/विशेषताएं: 1000मी, 1500मी, 3000मी रिले

करियर में पदकों की संख्या

  • ओलंपिक: स्वर्ण पदक विजेता (1000 मीटर - प्योंगचांग 2018), कांस्य पदक विजेता (महिला 3000 मीटर रिले - प्योंगचांग 2018)
  • विश्व चैंपियनशिप: सात बार की विश्व चैंपियन, कुल 10 पदक
  • यूरोपीय चैंपियनशिप: 13 बार की यूरोपीय चैंपियन, कुल 18 पदक

शॉर्ट ट्रैक स्पीड स्केटिंग में बहुत सारे बड़े नाम हैं, जो बीजिंग 2022 के विंटर ओलंपिक गेम्स में देखने को मिलेंगे। जिनमें लिम ह्यो-जून (KOR), एरियाना फोंटाना (ITA), और हंगेरियन भाई शाओलिन सैंडोर और शाओंग लियू (HUN) शामिल हैं। हालांकि, 2021 विश्व चैंपियनशिप में सुज़ैन शल्टिंग ने जो प्रदर्शन दिखाया उसके बाद उन्होंने खेल जगत में सनसनी मचा दी।

23 वर्षीय इस एथलीट ने प्रतियोगिता के हर इवेंट में स्वर्ण पदक हासिल किया है। उसके बाद वह चैंपियनशिप में बोर्ड को स्वीप करने वाली इतिहास की दूसरी महिला और चौथी स्केटर बन गईं। हालांकि वह बीजिंग में इस उपलब्धि को दोबारा करने का प्रयास करेंगी।

सुजैन शल्टिंग ने Olafhussein.com से बात करते हुए कहा, "मेरे लिए स्वर्ण पदक जीतने की भावना अब तक की सबसे अच्छी बात है। आप पूरी गर्मी में इतनी मेहनत करते हैं कि पहले फिनिश लाइन पार करने की आपकी कोशिश रहती है।जब मैं जीतती हूं तो मैं अपनी हिम्मत से चिल्लाती हूं। यह भावना वास्तव में मुझे प्रेरित करती है। आप गेम्स में और अधिक से अधिक ऐसा करना चाहते हैं।"

कनाडा - आइस हॉकी

Sidney Crosby #87 of Canada scores in the men's ice hockey gold medal match at Sochi 2014
फोटो क्रेडिट 2014 Getty Images

पदकों की संख्या - पुरुष

  • ओलंपिक: नौ बार के ओलंपिक चैंपियन (1920, 1924, 1928, 1932, 1948, 1952, 2002, 2010, 2014), चार बार के रजत पदक विजेता (1936, 1960, 1992, 1994), तीन बार के कांस्य पदक विजेता (1956) , 1968, 2018)
  • विश्व चैंपियनशिप: 26 बार के विश्व चैंपियन, 15 बार के रजत पदक विजेता, नौ बार के कांस्य पदक विजेता

पदकों की संख्या - महिला

  • ओलंपिक: चार बार ओलंपिक चैंपियन (2002, 2006, 2010, 2014), दो बार के रजत पदक विजेता (1998, 2018)
  • विश्व चैंपियनशिप: 10 बार के विश्व चैंपियन, आठ बार के रजत पदक विजेता, 2019 के कांस्य पदक विजेता

आपको बताते चलें कि कनाडाई पुरुष और महिला आइस हॉकी टीमें बीजिंग 2022 में स्वर्ण पदक के लिए प्रबल दावेदार हो सकती हैं। हालांकि यह कहा जाना चाहिए कि कोई भी टीम मौजूदा ओलंपिक चैंपियन नहीं है। प्योंगचांग 2018 में एनएचएल सुपरस्टारों की अनुपस्थिति ने पुरुषों की टीम को 'केवल' कांस्य पदक जीतने में योगदान दिया, जबकि महिला टीम को स्वर्ण पदक मैच में संयुक्त राज्य अमेरिका से हार का सामना करना पड़ा था। इस प्रक्रिया में सीधे-सीधे चार ओलंपिक खिताबों की एक लकीर टूट गई। इसी तरह, प्योंगचांग में तीसरे स्थान पर रहने से पहले पुरुषों की टीम वैंकूवर 2010 और सोची 2014 में जीत हासिल की थी।

हालांकि, ओलंपिक हॉकी में कुलीन एनएचएल प्रतिभा की वापसी की संभावना के साथ, कनाडा विश्व स्तरीय खिलाड़ियों (जैसे दो बार के शीतकालीन ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता और तीन बार के स्टेनली कप चैंपियन सिडनी क्रॉस्बी) को बुलाने में सक्षम होगा। महिलाओं के टीम में, बहुत कम अनुपात में उलटफेर को छोड़कर, कनाडा एक बार फिर संयुक्त राज्य अमेरिका से स्वर्ण पदक के मैच में भिड़ेगा। चाहे कुछ भी हो जाए, कनाडा अपने ओलंपिक खिताब को हासिल करने के लिए बेहतरीन प्रदर्शन की उम्मीद करेगा।

सिडने क्रॉस्बी ने NHL.com के साथ बात करते हुए 2010 पुरुष आइस हॉकी ओलंपिक फाइनल में अपने स्वर्णिम लक्ष्य पर चर्चा की और बताया कि,  "एक बच्चे के रूप में ओलंपिक खेल को देखकर बड़ा हुआ। जहां टीम कनाडा के लिए खेलने का सपना देखा। वहीं, इस पूरे अनुभव का हिस्सा बनने के लिए और जिस तरह से यह सब हुआ वह वास्तव में मेरे लिए खास था।"

नताली गीज़ेनबर्गर - ल्यूज

Natalie Geisenberger 
फोटो क्रेडिट 2018 Getty Images
  • राष्ट्रीयता: जर्मनी | जन्म तिथि: 5 फरवरी, 1988
  • ओलंपिक इवेंट/विशेषताएं: महिला एकल, टीम रिले

करियर में पदकों की संख्या

  • ओलंपिक: चार बार की स्वर्ण पदक विजेता (सिंगल, टीम रिले - प्योंगचांग 2018, सोची 2014), कांस्य पदक विजेता (सिंगल - वैंकूवर 2010)
  • विश्व चैंपियनशिप: नौ बार की विश्व चैंपियन, कुल 16 पदक
  • यूरोपीय चैंपियनशिप: छह बार की यूरोपीय चैंपियन, कुल 12 पदक

ओलंपिक में ल्यूज प्रतियोगिता में हमेशा से जर्मनी का दबदबा रहा है, जिन्होंने अब तक 42 पदक जीते हैं। जबकि वहीं, फेलिक्स लोच और टोबियास वेंडल और टोबियास अर्ल्ट ने पुरुषों के ल्यूज प्रतियोगिता में अपना शानदार प्रदर्शन दिखाया है। वहीं, उनकी हमवतन नताली गीज़ेनबर्गर ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिप इतिहास में सबसे सफल महिला हैं।

वहीं, अगर ये 33 वर्षीय एथलीट बीजिंग में स्वर्ण पदक हासिल करती हैं तो वह लगातार तीन स्वर्ण पदक जीतने वाली इतिहास की एक सफल एथलीट बन जाएंगी। इसके साथ ही वह आर्मिन जोगलर (ITA) की बराबरी कर लेंगी। जहां वह अपने छह पदक के साथ एक सफल एथलीट हैं। अगर गीज़ेनबर्गर और उनके जर्मन साथी रिले प्रतियोगिता में भी अपने खिताब को डिफेंड करती हैं, तो वह सात पदक के साथ इतिहास में सबसे अधिक खिताब हासिल करने वाली ओलंपिक खिलाड़ी बन जाएंगी।

प्योंगचांग 2018 में महिला एकल में स्वर्ण पदक जीतने के बाद नताली गीसेनबर्गर ने कहा, "मुझे ओलंपिक स्वर्ण पदक मिला है और मुझे विश्व खिताब मिले हैं। जाहिर तौर पर मैं स्वर्ण पदक जीतने का सपना देख रही थी, लेकिन मैं इसे लेकर काफी निश्चिंत थी। जो अब मुझे यह मिल गया है।"

मिकेल किंग्सबरी - फ्रीस्टाइल स्कीइंग

Mikaël Kingsbury
  • राष्ट्रीयता: कनाडा | जन्म तिथि: 24 जुलाई 1992
  • ओलिंपिक इवेंट/विशेषताएं: मोगुल

करियर में पदकों की संख्या

  • ओलंपिक: स्वर्ण पदक विजेता (मोगल्स - प्योंगचांग 2018), रजत पदक विजेता (मोगल्स - सोची 2014)
  • विश्व चैंपियनशिप: छह बार की विश्व चैंपियन, कुल 11 पदक
  • विश्व कप: 93 पोडियम, 65 जीत, नौ डिसप्लिन खिताब, कुल नौ खिताब

बीजिंग 2022 में फ्रीस्टाइल स्कीइंग प्रतियोगिता में 13 इवेंट होंगे। इसक मतलब साफ है कि अलग-अलग इवेंट में कई बेहतरीन एथलीटों के प्रदर्शन आपको देखने को मिलेंगे। जिसमें, डेविड वाइज (हाफपाइप), सारा होफ्लिन (स्लोपस्टाइल), और पेरिन लाफोंट (मोगुल) सहित कई बेहतरीन एथलीट हैं, लेकिन इन सबके बीच मिकेल किंग्सबरी अपने शानदार प्रदर्शन की वजह से नेतृत्व करते हुए नजर आएंगे।

आपको बता दें कि यह कनाडाई एथलीट अब तक के सबसे ज्यादा खिताब हासिल किए हुए मोगुल स्कीयर है। इन्होंने मुगल विश्व कप खिताब और करियर विश्व कप मोगुल खिताब अपने नाम किए हुए हैं। इसके साथ ही इतिहास में किसी भी पुरुष प्रतियोगी के फ्रीस्टाइल विश्व चैंपियनशिप में सबसे अधिक पदक हासिल करने वाले एथलीट भी हैं। वहीं, मोगुल में अपना दबदबा कायम रखने वाला एक ओलंपिक और विश्व चैंपियन भी है, तो क्या आप बीजिंग 2022 में मोगुल प्रतियोगिता में किंग्सबरी को याद नहीं करना चाहते हैं।

मिकेल किंग्सबरी ने कहा, "वास्तव में मैं अपनी सफलता की व्याख्या नहीं कर सकता। मैं जिम में और स्की पर कड़ी मेहनत करता हूं। हर बार जब मैं किसी प्रतियोगिता में जाता हूं, तो मेरा लक्ष्य इसे जीतना होता है, और मैं वास्तव में जो करता हूं उसका आनंद लेता हूं। मुझे लगता है कि यह इन सभी चीजों का एक संयोजन है, जो मुझे अच्छे परिणाम प्राप्त करने में सक्षम बनाता है। जब मैं स्की करता हूं तो मैं एक पूर्णतावादी हूं ... और मैं पूरी तरह से उस पर ध्यान केंद्रित करता हूं, जो मैं लंबे समय से कर रहा हूं।"

च्लोए किम - स्नोबोर्डिंग

Chloe Kim
  • राष्ट्रीयता: यूएसए | जन्म तिथि: 23 अप्रैल 2000
  • ओलिंपिक डिसिप्लिन/विशेषताएं: हाफपाइप

करियर में पदकों की संख्या

  • ओलंपिक: स्वर्ण पदक विजेता (हाफपाइप - प्योंगचांग 2018)
  • विश्व चैंपियनशिप: दो बार की विश्व चैंपियन
  • विंटर एक्स गेम्स: छह स्वर्ण पदक, एक रजत, एक कांस्य

स्नोबोर्डिंग और फ़्रीस्टाइल स्कीइंग के खेल में कई इवेंट होते हैं- प्रत्येक इवेंट में बेहतरीन एथलीटों की एक अपनी अलग जगह होती है। इसलिए किसी एक प्रतियोगी तक सीमित रहना मुश्किल काम है, लेकिन च्लोए किम हाफपाइप में किस तरह अपना प्रदर्शन करती हैं, इस पर कहना आसान है।

आपको बता दें कि किम ने प्योंगचांग 2018 में एक अलग इतिहास रचा। जब वह ओलंपिक स्नोबोर्डिंग में स्वर्ण पदक जीतने वाली सबसे कम उम्र की महिला एथलीट बन गईं। बता दें कि उन्होंने केवल 17 साल की उम्र में महिलाओं के स्नोबोर्ड हाफपाइप में स्वर्ण पदक अपने नाम किया था। हाफपाइप खेल में किम राज करती है, दुनिया भर के अलावा वह ओलंपिक और एक्स गेम्स चैंपियन भी हैं, साथ ही इन तीनों प्रमुख इवेंट के साथ-साथ युवा ओलंपिक खेलों में भी खिताब जीतने वाली पहली महिला एथलीट हैं। वहीं, प्रशंसकों को उम्मीद है कि किम एक बार फिर बीजिंग के इस विंटर गेम्स में सुर्खियां बटोर सकती हैं।

च्लोए किम ने बीजिंग 2022 में होने वाली प्रतिस्पर्धा पर कहा, "मैं पिछले मुकाबले के माइंडसेट के साथ इस विंटर ओलंपिक खेल में हिस्सा लेने जा रही हूं। बस कोई दबाव नहीं है। मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने जा रही हूं और हम देखेंगे कि क्या होता है।"

इरीन वुस्ट - स्पीड स्केटिंग

Ireen Wust
फोटो क्रेडिट 2018 Getty Images
  • राष्ट्रीयता: नीदरलैंड | जन्म तिथि: 1 अप्रैल 1986
  • ओलंपिक डिसिप्लिन/विशेषताएं: 1000 मीटर, 1500 मीटर, 3000 मीटर, 5000 मीटर, टीम परस्यूट

करियर में पदकों की संख्या

  • ओलंपिक: पांच बार की स्वर्ण पदक विजेता (1500 मीटर - प्योंगचांग 2018 और वैंकूवर 2010, 3000 मीटर - सोची 2014 और ट्यूरिन 2006, टीम परस्यूट - सोची 2014), पांच बार की रजत पदक विजेता (1000 मीटर - सोची 2014, 1500 मीटर - सोची 2014, 3000 मीटर - प्योंगचांग 2018, 5000 मीटर - सोची 2014, टीम परस्यूट प्योंगचांग 2018), कांस्य पदक विजेता (1500 मीटर - ट्यूरिन 2006)
  • विश्व ऑलराउंड चैंपियनशिप: सात बार की विश्व चैंपियन, कुल 13 पदक
  • यूरोपीय चैंपियनशिप: सात बार की यूरोपीय चैंपियन, कुल 13 पदक

नीदरलैंड विंटर ओलंपिक में स्पीड स्केटिंग पर पूरी तरह से हावी रहा है, जहां इस खेल में कुल 121 पदक जीते हैं। वहीं, इस सूची में नॉर्वे (कुल जीते गए पदकों के आधार पर) दूसरे स्थान पर है। जिसके पास 84 पदक हैं। जहां उसने प्योंगचांग 2018 में, डच स्केटर्स में 42 में से 16 पदक जीते थे।

आपको बता दें कि इरीन वुस्ट ने उन 121 पदकों में से 11 पदक अपने नाम किए हैं। वह विंटर ओलंपिक के इतिहास में सबसे अधिक खिताब हासिल करने वाली स्पीड स्केटर हैं। बता दें कि वह चार अलग-अलग विंटर खेलों में एक व्यक्तिगत स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली एथलीट हैं। वहीं, अगर वुस्ट ने बीजिंग में फिर से स्वर्ण पदक जीता, तो वह खेलों के पांच संस्करणों (समर गेम्स सहित) में स्वर्ण जीतने वाली पहली और एकमात्र एथलीट हो जाएंगी।

इरीन वुस्ट ने कहा, "जितनी बड़ी दौड़ है, उतनी ही मेरे लिए यह महत्वपूर्ण है। मैं अपने शरीर से अधिक से अधिक लाभ उठाने में सक्षम हूं। मुझे स्केटिंग पसंद है जब यह वास्तव में मायने रखता है। मुझे कभी डर नहीं लगता। मुझे इससे प्यार है।"

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स
यहां साइन अप करें यहां साइन अप करें