अपनी भाषा को सेलेक्ट करें
Loading...
Balbir

बलबीर सिंह दोसांज

India
टीमIndia
जन्म का साल1924
सोशल मीडिया

बायोग्राफी

भारतीय हॉकी के दिग्गज बलबीर सिंह सीनियर को अब तक का सबसे अच्छा सेंटर-फॉरवर्ड खिलाड़ी माना जाता है। 1948, 1952 और 1956 में भारतीय हॉकी टीम की ओलंपिक गोल्ड की दूसरी हैट्रिक के बाद उनके खेल कौशल ने देश को कई बार खुशियां मनाने का अवसर दिया और आज़ादी के बाद के वर्षों में एक अलग पहचान बनाने में मदद की।

पंजाब में एक स्वतंत्रता सेनानी करम कौर और दलीप सिंह दोसांज के घर जन्मे बलबीर सिंह के शुरुआती कई साल उनके पिता के बिना ही बीते, जो अक्सर उस दौरान यात्रा करते रहते थे और कई बार जेल चले जाते थे।

हॉकी ने उन्हें कम उम्र से ही मंत्रमुग्ध कर दिया था। वह जब पांच साल के थे, तभी से उन्होंने इस खेल को खेलना शुरू कर दिया था। फिर जब 12 वर्ष की आयु में उन्होंने 1936 में भारतीय हॉकी टीम को तीसरा ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतते हुए देखा तो बलबीर सिंह सीनियर को पता चल चुका था कि उन्हें अपने जीवन में आगे क्या करना रहेगा।

उन्होंने एक गोलकीपर के तौर पर अपनी शुरुआत की और फिर बैक फोर में खेलने लगे। लेकिन उन्हें अपने हुनर का सही अंदाज़ा पहली बार तब हुआ, जब एक स्ट्राइकर के तौर पर उन्हें स्थानीय टूर्नामेंट में खेलने का मौका मिला। अपनी असली पहचान मिली।

You May Like