अपनी भाषा को सेलेक्ट करें
Loading...
टोक्यो 2020

टोक्यो 2020द मैस्कट

नाम

मिराइतोवा

ओलंपिक मैस्कॉट को मिराइतोवा कहा जाता है, जो जापानी शब्द "मिराइ" (भविष्य) और "तोवा" (अनंत काल) से लिया गया है। इस नाम को पूरी दुनिया में लोगों के दिलों में अनंत आशा से भरे भविष्य को बढ़ावा देने के लिए चुना गया था।

विवरण

अपनी पारंपरिक और भविष्यवादी शैली के साथ, मैस्कॉट पुराने और नए दोनों का प्रतीक है, जो "सद्भाव से नवीनता" की अवधारणा को प्रतिध्वनित करता है। इसका माथा टोक्यो 2020 गेम्स का प्रतीक है, जिसका पारंपरिक बिसात मोटिफ तीन अलग-अलग आकारों के इंडिगो ब्लू आयतों से बना है।

निर्माता

रियो तानिगुची

क्या आपको मालूम था?

अगस्त 2017 में टोक्यो 2020 आयोजन समिति ने 2,042 डिजाइन प्राप्त किए, जो प्रतियोगिता के भाग के रूप में प्रस्तुत किए गए, जो 18 वर्ष या उससे अधिक आयु के जापान में रहने वाले लोगों के लिए ओपन थे। फिर कई चरणों में चयन प्रक्रिया के माध्यम से तीन फाइनलिस्टों तक सीमित किया गया, जिन्हें दिसंबर 2017 की शुरुआत में घोषित किया गया था।

तीन फाइनल प्रोजेक्ट्स में से विजेता का चुनाव करने का काम जापानी प्राथमिक स्कूलों के बच्चों को दिया गया था, जिसमें प्रत्येक कक्षा में एक वोट था। मतदान अवधि 11 दिसंबर 2017 से 22 फरवरी 2018 तक और 16,769 स्कूलों के 205,755 कक्षाओं ने भाग लिया। रियो तानिगुची की परियोजना ने कुल 109,041 मतों से जीत हासिल की।

Tokyo_2020_mascot
(TOKYO 2020)
टोक्यो
2020

गेम को खोजिए

द ब्रांड

ओलंपिक खेलों के प्रत्येक संस्करण के पहचान के रूप में प्रतीक बनाई जाती है।

ब्रांड

ब्रांड

पदक

ओलिव व्रिथ से शुरुआत करने के बाद हम उस सदी में पहुंचे जहां पदक डिजाइन होते हैं।

पदक

पदक

द मैस्कट

एक ओरिजनल तस्वीर ओलंपिक स्प्रीट को ठोस रूप देता है।

मैस्कट

मैस्कट

द टॉर्च

प्रत्येक मेजबान अपना अनूठा संस्करण पेश करता है, जो ओलंपिक खेलों का एक प्रतिष्ठित हिस्सा माना जाता है।

टॉर्च

टॉर्च