हमने क्या सीखा: टोक्यो 2020 ओलंपिक से रोइंग का पूरा लेखा-जोखा

एम्मा ट्विग और न्यूजीलैंड के शानदार प्रदर्शन से लेकर आयरलैंड और ग्रीस के पहले गोल्ड जीतने तक, हम टोक्यो 2020 में रोइंग के सबसे यादगार पलों को फिर से याद कर रहे हैं। इसके अलावा पेरिस 2024 का बेेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।

फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

सी फॉरेस्ट वाटरवे पर टोक्यो 2020 ओलंपिक रोइंग रेगाटा में रोमांच, थ्रिल और सरप्राइज काफी देखने को मिले।

आयरलैंड और ग्रीस ने पहली बार गोल्ड जीता तो चीन भी पोडियम के टॉप पर दोबारा पहुंचने में कामयाब रहा। इसके अलावा 49 सालों में न्यूजीलैंड के तीन गोल्ड ने भी सुर्खियां बटोरी।

वहीं दूसरी तरफ रोइंग सुपरपावर ग्रेट ब्रिटेन ने केवल दो पदक जीते, वहीं संयुक्त राज्य अमेरिका को खाली हाथ लौटना पड़ा। यूएसए की वूमेंस मेडल जीतने की रेस में चौथे स्थान पर रही, जिसके बाद उनके खाते में कोई पदक नहीं आया।।

अब रोइंग के कुछ यादगार पलों को फिर से याद करें और इसके साथ ही पदक विजेताओं का संक्षिप्त विवरण और पेरिस 2024 में किस खिलाड़ी पर होनी चाहिए आपकी नजर, ये भी पढ़े।

टोक्यो 2020 में टॉप 5 रोइंग पल

यहां 2021 में हुए टोक्यो 2020 ओलंपिक खेलों के कुछ हाइलाइट्स के बारे में जानकारी दी गई है।

1.एम्मा ट्विग और हामिश बॉन्ड ने न्यूजीलैंड का ओलंपिक रेगाटा में दबदबा बनाया

टोक्यो में न्यूजीलैंड को पहला स्वर्ण वूमेंस पेयर्स में ग्रेस प्रेंडरगैस्ट और केरी गॉलर ने दिलाया, इस इवेंट में उन्हें आरओसी और कनाडा से कड़ी टक्कर मिली।

लंदन 2012 और रियो 2016 की स्वर्ण पदक विजेता ग्रेट ब्रिटेन की हेलेन ग्लोवर ने तीन बच्चे होने के बाद खेल में वापसी की और वह चौथे स्थान पर रही।

पिछले दो ओलंपिक गेम्स में असफल होने के बाद एम्मा ट्विग ने सिंगल स्कल्स में यादगार सफलता हासिल की।

आयरलैंड की दो बार की विश्व चैंपियन सुनीता पुसपुरे क्वालीफाई करने में असफल रही तो आरओसी की हन्ना प्रकात्सेन धीमी शुरुआत के बाद भी ट्विग को टक्कर दे रही थी।

ट्विग लंदन 2012 और रियो 2016 में चौथे स्थान पर रही थी लेकिन 500 मीटर की दूरी तय करने के बाद उन्होंने यहां पीछे मुड़कर ही नहीं देखा। प्रकात्सेन ने ऑस्ट्रिया की मैग्डेलेना लोबनिग के साथ तीसरा स्थान हासिल किया।

34 वर्षीय कीवी ने रियो के बाद खेल से समय निकाला और पढ़ाई के लिए स्विट्जरलैंड चली गई। इसके बाद उन्होंने आईओसी के लिए काम किया और आयरनमैन ट्रायथलॉन पूरा किया।

उन्होंने दुनिया भर में बाइक राइडिंग की लेकिन 2018 प्योंगचांग शीतकालीन खेलों के कारण उन्हें न्यूजीलैंड लौटना पड़ा और उन्हें ट्रेनिंग के लिए राजी किया गया।

ट्विग ने कहा, "यह एक लंबी और पथरीली यात्रा रही है। लाइन को पार करना और स्वर्ण पदक जीतना बहुत ही शानदार और स्पेशल था। ”

अगर आप खुद पर विश्वास रखते हैं और सपने देखते रहते हैं, तो यह रिजल्ट मिल सकता है। - एम्मा ट्विग

एम्मा ट्विग वूमेंस सिंगल स्कल्स पोडियम टोक्यो
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

वूमेंस डबल स्कल्स और वूमेंस आठ में सिल्वर के बाद, न्यूजीलैंड ने मेंस आठ में अपना तीसरा स्वर्ण पदक जीता। इस दल में हामिश बॉन्ड थे जिन्होंने लंदन 2012 और रियो 2016 में एरिक मरे के साथ पेयर्स में स्वर्ण पदक जीता था।

जब मरे ने रियो के बाद संन्यास लिया, तब तक उन्होंने आठ साल के नाबाद रिकॉर्ड को बनाए रखा, तो बॉन्ड ने रोड साइक्लिंग की ओर रुख किया और 2018 में ओशिनिया टाइम ट्रायल खिताब जीता।

मार्च 2019 में, हालांकि बॉन्ड ने टोक्यो में न्यूजीलैंड आठ का हिस्सा बनने के लिए पानी में लौटने का फैसला किया।

खेलों के एक साल के लिए स्थगित किए जाने की वजह से निश्चित रूप से 35 साल का ये खिलाड़ी युवा और प्रतिभाशाली साथियों के साथ तालमेल बैठाने में कामयाब रहा।

रेस के हाफ तक न्यूजीलैंड रेस जीतने का प्रबल दावेदार ग्रेट ब्रिटेन और जर्मनी के साथ बेहद करीबी मुकाबले में था, लेकिन कीवी टीम ने फिर बढ़त हासिल कर ली, उन्होंने 500 मीटर की लीड लेकर खुद को मजबूत स्थिति में पहुंचा लिया।

जर्मनों ने ब्रिटेन को पीछे छोड़ने के लिए काफी मेहनत की लेकिन वह न्यूजीलैंड को नहीं पछाड़ पाए। इसके बाद न्यूजीलैंड ने म्यूनिख 1972 के बाद से इस आयोजन में देश की पहली जीत का जश्न मनाया।

1964 के टोक्यो ओलंपिक खेलों में, मध्यम दूरी की दौड़ के दिग्गज पीटर स्नेल ने 800 मीटर और 1500 मीटर में जीत हासिल कर अपने देश झंडा फहराया।

इतिहास ने अपने आप को एक बार फिर दोहराया और बॉन्ड और सह-ध्वजवाहक, रग्बी सेवन्स की स्टार खिलाड़ी सारा हिरिनी ने गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

बॉन्ड ने कहा, "हमने पूरे साल दिखाया कि हम खिताब जीत सकते हैं और खुद पर विश्वास करना भी शुरु कर दिया कि हम मेडल अपने नाम कर सकते हैं। अपने इन साथियों के साथ ऐसा प्रदर्शन करना सच में शानदार है।”

इसके अलावा उन्होंने कहा कि “इस टीम में 21 और 21 साल के खिलाड़ी हैं और इनके साथ ओलंपिक फाइनल तक पहुंचना और मेडल जीतना बेहद खास है। पूरे साल शानदार प्रदर्शन करने पर मैं अपनी टीम के हर खिलाड़ी को बधाई देता हूं।”

न्यूजीलैंड के रोअर्स का तीन स्वर्ण और दो रजत पदक ओलंपिक खेलों में उनका अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था।

हामिश बॉन्ड न्यूजीलैंड मेंस आठ टोक्यो
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

2: आयरलैंड और ग्रीस का पहला गोल्ड मेडल

रोइंग में पहले स्वर्ण पदक की वास्तविक उम्मीदों के साथ आयरलैंड टोक्यो पहुंचा था। इसकी सबसे बड़ी उम्मीद मेंस लाइटवेट डबल स्कल्स में फिंटन मैकार्थी और पॉल ओ'डोनोवन थे। पॉल ने भाई गैरी के साथ मिलकर रियो 2016 में रजत पदक अपने नाम किया था।

ओ'डोनोवन्स की तरह, मैककार्थी भी काउंटी कॉर्क में स्कीबेरेन से हैं। यह खिलाड़ी 2019 में भाइयों की जोड़ी से अलग हुआ और गैरी ने रिजर्व के रूप में टोक्यो की यात्रा समाप्त की।

सेमीफाइनल में वर्ल्ड रिकॉर्ड स्थापित करने के बाद मैकार्थी और ओ'डोनोवन शुरू में आक्रामक शुरुआत करने वाले जर्मनी और इटली के खिलाड़ियों से थोड़ा पीछे रहकर भी संतुष्ट थे।

500 मीटर के बाद, आयरिश जोड़ी ने इटली को पीछे छोड़ दिया, लेकिन 40 प्रति मिनट की स्ट्रोक दर के बावजूद जर्मनी को पछाड़ पाना उनके लेकिन मुश्किल चुनौती साबित हो रही थी।

लेकिन ऐसा ज्यादा देर तक नहीं हो सका और आखिरी 250 मीटर में आयरिश खिलाड़ियों ने अपना पूरा जोर लगाया।  ओ'डोनोवन्स द्वारा स्कीबेरेन रोइंग क्लब को मानचित्र पर रखने के पांच साल बाद उन्होंने लंबे समय तक याद रहने वाली सफलता हासिल की।

और जबकि पॉल ओ'डोनोवन्स ने खिताब जीतकर ओलंपिक चैंपियन का तमगा हासिल किया तो उन्होंने दुनिया को दिखा दिया कि उनमें कितना दम है।

गोल्ड मेडलिस्ट ने कहा, "इस तरह की चीज़ों के बारे में आप कितना अच्छा और हमेशा खुशी महसूस कर सकते हैं, इसकी एक सीमा होती है। हम हर समय उस जगह के बारे में खुश रहने की कोशिश करते हैं।

इसके अलावा उन्होंने कहा कि " निश्चित रूप से, यह आपको आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है  लेकिन आप बाद में उत्साह और खुशी के साथ आप अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकते। आप जानते हैं?"

आयरलैंड ने वूमेंस कॉक्सलेस फोर में भी कांस्य पदक जीता। वह पहली बार ओलंपिक रोइंग रेगाटा में ग्रेट ब्रिटेन से आगे रहीं।

ओ डोनोवन मैकार्थी आयरलैंड लाइटवेट डबल स्कल्स टोक्यो
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

ग्रीस ने भी रचा इतिहास

स्टेफानोस नटौस्कोस ने सिंगल्स स्कल्स सेमीफाइनल में सभी को चौंका दिया था, जिस तरह से उन्होंने शुरुआती चरणों में अपने प्रतिद्वंद्वियों को पीछे छोड़ा, वह सच में शानदार था।

क्या वह फाइनल में भी ऐसा कमाल दिखा पाए?

और इसका जवाब है, हां... 24 साल के इस खिलाड़ी ने नॉर्वे के तेज-तर्रार केजेटिल बोर्च और डेनमार्क के सेवर्री नीलसन को मिडवे पॉइंट से पहले ही काफी पीछे छोड़ दिया था।

300 मीटर के बाद जब बोर्च ने आक्रामक रुख अपनाया तब तक उन्होंने अच्छी खासी बढ़त बना ली थी। नटौस्कोस ने इसके बाद भी कोई ढिलाई नहीं बरती और एक यादगार जीत की तरफ बढ़ते रहे।

बोर्च ने क्रोएशिया के अनुभवी दामिर मार्टिन के साथ रजत पदक जीता। मार्टिन रियो में माहे ड्रिस्डेल से हारकर गोल्ड की रेस से बाहर हो गए थे। नीलसन को कांस्य से संतोष करना पड़ा।

नटौस्कोस ने कहा, “मैं 750 मीटर की दूरी पर तीसरे स्थान पर था। स्ट्रोक के साथ ऊपर जाने के लिए वेरिएशन की जरुरत थी। मैंने अपनी लय और ताकत बदली और इसके बाद क्या हुआ आपके सामने है।

"यह एक बहुत ही कठिन दौड़ थी। मैंने उनसे संपर्क बनाए रखने की कोशिश की। मुझे पता था कि विरोधी बहुत कठिन थे।"

ग्रीस का यह पहला ओलंपिक रोइंग गोल्ड था। इसके अलावा टोक्यो 2020 में देश का पहला पदक था। इसके बाद लॉन्ग जम्पर मिल्टियाडिस टेंटोग्लू ने गोल्ड सहित तीन और पदक जीते।

स्टेफानोस नटौस्कोस टोक्यो में सिंगल स्कल्स में जश्न मनाते हुए  
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

3: सिंकोविक ब्रदर्स का डबल्स

क्रोएशिया के मार्टिन और वैलेंट सिंकोविच ने रियो 2016 के बाद टोक्यो में भी डबल स्कल्स खिताब जीतकर इतिहास रच दिया।

ज्यादातर रोवर स्कलिंग (दो ओअर) और स्वीपिंग (एक ओअर) के बीच सफलतापूर्वक स्विच नहीं कर पाते हैं। इसे एक चुनौतीपूर्ण इवेंट माना जाता है। यह आमतौर पर 8 के स्कलिंग इवेंट के साथ कंबाइंड किया जाता है।

इससे पहले, केवल कनाडा की कैथलीन हेडल और मार्नी मैकबीन ने बार्सिलोना 1992 में महिलाओं की जोड़ी में और अटलांटा 1996 में डबल स्कल्स में टू टू-पर्सन इवेंट्स जीते थे।

सिंकोविच भाइयों ने रियो के बाद पेयर्स में स्विच किया। इसके बाद उन्हें 2017 विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक से संतोष करना पड़ा। इटली के माटेओ लोडो और ग्यूसेप विसिनो ने उनके गोल्ड जीतने के सपने को तोड़ा था।

उसके बाद से वे काफी हद तक प्रभावी रहे हैं, हालांकि उन्हें पिछले अक्टूबर की यूरोपीय चैंपियनशिप में रोमानिया के मारियस कोज़मीक और सिप्रियन टुडोसा से हार का सामना करना पड़ा था।

कोज़मीक और टुडोसा ने फाइनल के लिए सबसे तेजी से क्वालीफाई किया, लेकिन क्रोएट्स ने कड़ी मेहनत की और मिडवे पॉइंट पर दो सेकंड की बढ़त स्थापित की।

रोमानियन रेस के दूसरे भाग में वापसी करने के लिए जाने जाते हैं। लेकिन सिंकोविच भाइयों ने तीसरे 500 मीटर में भी अपनी बढ़त बनाए रखी और कोज़मीक और टुडोसा को वह लगातार पीछे छोड़ने में सफल रहे।

सिंकोविच भाइयों का मिशन सफल हुआ और जिस सपने के साथ वह टोक्यो पहुंचे थे, वह उन्होंने पूरा किया।

वैलेंट सिंकोविच ने बाद में कहा, "अब हमारा प्लान आराम करने का है। हम अब पेयर्स में हिस्सा नहीं लेंगे। पांच साल काफी होते हैं। हम बेहतर स्कलर हैं।”

मार्टिन ने कहा, "हम स्कलर्स हैं और इसके अनुसार बदल पाना थोड़ा मुश्किल था। हमारे सामने बहुत सारी चुनौतियाँ थीं। हम भाई हैं, इससे हमें काफी मदद मिली। यदि नहीं, तो मुझे लगता है कि नाव में हमारे पास और अधिक प्रतिद्वंद्विता होगी। मैं वास्तव में खुश हूं कि हमने यह किया है।"

4: स्टीवन रेडग्रेव की बदौलत चीन रोइंग महाशक्ति के रूप में उभरा

बीजिंग में घरेलू धरती पर अपने पहले गोल्ड के 13 साल बाद, चीन ने रोइंग में अपना दूसरा ओलंपिक स्वर्ण जीता।

चेन युनक्सिया, झांग लिंग, ल्यू यांग और सीयू शियाओतोंग ने महिलाओं की क्वाडपल स्कल्स में जबरदस्त प्रदर्शन कर गोल्ड मेडल अपने नाम किया। मुश्किल परिस्थितियों में भी उन्होंने गजब का प्रदर्शन किया। उन्होंने आक्रामक शुुरुआत की और मिडवे पॉइंट तक जर्मनी को पीछे छोड़ दिया था।

जर्मनी सिल्वर जीत सकता था लेकिन जब रेस खत्म होने से 250 मीटर पहले डेनिएला शुल्त्स को केकड़े के कारण काफी परेशानी का सामना करना पड़ा और एक समय नाव को लगभग रोकना ही पड़ गया था।

हालांकि उन्होंने अच्छी वापसी की और अंत में वह पांचवें स्थान पर रहे। पौलेंड और ऑस्ट्रेलिया पदक जीतने में सफल रहे।हालांकि चीन को गोल्ड जीतने में किसी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा क्योंकि चीन ने 6: 05.13 के नए वर्ल्ड रिकॉर्ड से खिताब अपने नाम किया। पिछले रिकॉर्ड से वह 6 सेकंड बेहतर थे।

चीन ने वूमेंस आठ में भी कांस्य पदक जीता। वहीं मेंस डबल स्कल्स में लियू झियु और अनुभवी झांग लियांग भी कांस्य जीतने में सफल रहे।

ग्रेट ब्रिटेन के पांच बार के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता स्टीवन रेडग्रेव ने इस ओलंपिक के लिए चीन के प्रमुख कोच और परफॉर्मेंस डायरेक्टर की भूमिका निभाई और वह कम से कम पेरिस 2024 तक अपने पद पर बने रहेंगे।

उन्होंने कहा, "स्वर्ण पदक, विश्व-रिकॉर्ड समय के साथ, इसमें गलती की कोई गुंजाइश नहीं हो सकती। पांच सेकंड से अधिक की जीत, ओलंपिक रेसिंग में अविश्वसनीय है। चीन को अपने प्रदर्शन पर गर्व होना चाहिए लेकिन चीन हमेशा अच्छा प्रदर्शन करने और अधिक से अधिक पदक जीतने के लिए जाना जाता है। कांस्य पदक जीतने वाले आठ स्वर्ण पदक जितने बड़े हैं, जिससे अधिक लोग खेल में आएंगे। इससे उनका आत्मविश्वास बढ़ता है, इसलिए हमारी टीम को मजबूती से आगे बढ़ना चाहिए।”

"हमारे पास एथलीट हैं, हमारे पास पैसा है। उनमें दुनिया में सर्वश्रेष्ठ होने की क्षमता है।"

वहीं दूसरी तरफ म्यूनिख 1972 के बाद से ब्रिटेन का सबसे खराब ओलंपिक रेगाटा था, जहां उन्होंने सिर्फ एक रजत और एक कांस्य जीता था।

पिछले तीन दशकों में रेडग्रेव और ब्रिटेन की सफलता के पीछे के मास्टरमाइंड, मुख्य कोच जुर्गन ग्रोबलर के पिछले साल आश्चर्यजनक तरीके से पद छोड़ने के बाद टीम पर इसका मिलाजुला असर पड़ा। मेंस आठ के सदस्य जोश बुगाज्स्की माना कि जुर्गन के संन्यास लेने के बाद वह शैपेन से इस पल को सेलीब्रेट करेंगे। हालांकि टीम के बाकी सदस्य इससे इत्तेफाक नहीं रखते

रेडग्रेव ने स्पष्ट रूप से कहा, "हमने पिछले साल से अपने सिस्टम में बदलाव करना शुरू कर दिया है और अचानक, सबसे अच्छे देशों में से एक होने से कुछ ही कदम दूर हैं।

"यदि आप 1970 और 80 के दशक के सिस्टम और चयन पैनल को अपनाते हैं तो आपको उसी रिजल्ट की उम्मीद करनी चाहिए, जो हमें 70 और 80 के दशक में मिलते थे।”

चीन वूमेंस क्वाड्रपल स्कल्स गोल्ड टोक्यो
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

5:  फोर में ऑस्ट्रेलिया का डबल

 ऑस्ट्रेलिया ने टोक्यो में दो स्वर्ण जीते, वूमेंस चार और मेंस चार में उन्होंने शानदार सफलता हासिल की।

 टोक्यो 2020 में रोइंग में पूर्ण लैंगिक समानता सुनिश्चित करते हुए, 29 सालों में यह पहली ओलंपिक वूमेंस चार थी, और ऑस्ट्रेलियाई दल - लुसी स्टीफ़न, रोज़ी पोपा, जेस मॉरिसन और एनाबेले मैकइंटायर - हीट में धमाकेदार प्रदर्शन के बाद मजबूत फेवरेट थे।

500 मीटर में नीदरलैंड उनके करीब था लेकिन फिर विश्व चैंपियन ने बड़ी बढ़त बनाना शुरू कर दिया।

नीदरलैंड ने अंतिम 400 मीटर के अंदर जोरदार वापसी की, लेकिन ऑस्ट्रेलिया ने केवल 0.34 सेकेंड से स्वर्ण पदक जीता। वहीं आयरलैंड ने ग्रेट ब्रिटेन को पीछे छोड़ते हुए कांस्य पदक जीता।

खराब मौसम के कारण स्थगन के कारण अपने इवेंट के बर्बाद हो जाने के बाद मॉरिसन और मैकइंटायर ए फाइनल में जगह बनाने में असफल रहे।

ऑस्ट्रेलिया वूमेंस चार टोक्यो
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

वूमेंस 4 की सफलताओं के ठीक 20 मिनट बाद, अलेक्जेंडर पर्नेल, स्पेंसर ट्यूरिन, जैक हारग्रीव्स और एलेक्स हिल ने मेंस चार में ब्रिटेन की लगातार पांचवीं जीत दर्ज की।

800 मीटर के बाद आस्ट्रेलियाई नाव सबसे आगे थी लेकिन ब्रिटेन ने तीसरे क्वार्टर में इस अंतर को खत्म किया और वह लगातार आगे बढ़ते रहे।

जैसे ही रोमानिया और इटली ने पदक की दौड़ में प्रवेश किया, ब्रिटेन ने रेस खत्म होने से 200 मीटर में अपनी लय खो दी और इस दौरान उन्होंने इटालियंस को बाधित किया। जिससे उन्हें रजत पदक से संतोष करना पड़ा।

 आखिर में, ऑस्ट्रेलिया ने अटलांटा 1996 के बाद से अपना पहला मेंस चार स्वर्ण गोल्ड जीता, रोमानिया हालांकि ज्यादा पीछे नहीं था लेकिन फिर भी 0.37 से पिछड़ गए। वहीं इटली ने ब्रिटेन को पीछे छोड़ते हुए तीसरा स्थान हासिल किया।

 25 साल के सूखे को समाप्त करने पर हिल खुश थे, उन्होंने कहा, "हम उस नाव में बैठने के लिए बहुत आभारी हैं। हमारे सामने उन महान खिलाड़ियों ने वह हासिल कर लिया है जो उनके पास है, इसलिए इसे वापस हासिल करना शानदार अनुभव है।”

ऑस्ट्रेलिया मेंस चार टोक्यो
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

आखिरी बार

पिछले एक दशक से अमेरिकी स्कलिंग की दिग्गज, जिनेवरा स्टोन ने टोक्यो 2020 के बाद संन्यास ले लिया।

रियो 2016 में सिंगल स्कल्स सिल्वर जीतने के बाद स्टोन ने संन्यास ले लिया था लेकिन तीसरे गेम्स में हिस्सा लेने से वह खुद को नहीं रोक पाई।

36 साल की क्रिस्टीना वैगनर के साथ डबल स्कल्स फाइनल में पांचवें स्थान पर रही और इस बार स्टोन के आपातकालीन कक्ष चिकित्सक के रूप में पूर्णकालिक काम पर वापस जाने के साथ मैदान पर नहीं लौटेंगी।

हेलेन ग्लोवर पानी में अपनी अविश्वसनीय वापसी पर पदक जीतने में असफल रहीं लेकिन महिलाओं की जोड़ी में पोली स्वान के साथ चौथा स्थान हासिल करना भी एक बड़ी उपलब्धि थी। तीन बच्चों की मां ग्लोवर ने जनवरी में ही अपनी वापसी की घोषणा की थी।

35 साल की इस खिलाड़ी ने कहा, "मेडल ना जीतना ये नहीं बताएगा कि हमने अपना सब कुछ देकर सीमा पार कर ली है। निराशा यह सोचकर दूर हो रही होगी कि हमारे पास और अधिक हासिल करने को था लेकिन हमने नहीं किया।"

वहीं 33 साल की स्वान ने पेरिस 2024 में हिस्सा लेने से इंकार नहीं किया है। उन्होंने पिछले साल अपनी मेडिकल डिग्री पूरी की और स्कॉटलैंड के एक अस्पताल में  वह काम कर रही हैं। 

अपनी टीम के साथी का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि "शायद मैं हेलेन ग्लोवर की तरह करूंगी। शायद काम करने में एक साल, बच्चा पैदा करने में एक साल और वापसी करने में एक साल लग सकता है। आगे क्या होगा हम देखेंगे।"

कैसिया ग्रुचल्ला-वेसिएर्स्की ने कनाडा की विजेता वूमेंस 8 नाव का हिस्सा बनने के साथ वापसी की।

30 साल की इस खिलाड़ी की खेलों से ठीक छह सप्ताह पहले एक सड़क बाइक दुर्घटना में अपनी कॉलरबोन टूट गई थी। जिसके बाद एक धातु की प्लेट और स्क्रू के साथ-साथ 56 टांके लगाने के लिए एक ऑपरेशन हुआ था।

इसके बाद भी कैलगरी की मूल निवासी का जज्बा इससे भी कम नहीं हुआ और 10 दिन बाद ही वह अपने साथियों के साथ टोक्यो पहुंच गई। बार्सिलोना 1992 के बाद से कनाडा को अपनी पहली वूमेंस आठ सफलता में मदद करने से पहले उन्होंने अपनी फिटनेस साबित की।

कनाडा वूमेंस आठ टोक्यो
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

हैल्लो पेरिस 2024

टोक्यो 2020 में स्वर्ण और दो कांस्य पदक जीतने के बाद निश्चित तौर पर सभी की नजरें चीन पर होगी।

वूमेंस क्वाड्रपल स्कल्स बोट के प्री-इवेंट में मिले फेवरेट के टैग को सही साबित किया, वहीं वूमेंस चार में पांचवें स्थान पर रहने वाले क्रू में से तीन पेरिस में एक दूसरे को कड़ी टक्कर दे सकते हैं।

जैसा कि स्टीवन रेडग्रेव ने कहा, वूमेंस आठ में कांस्य पदक जीतना अगले खेलों में प्रोत्साहन के रूप में काम करेगा।

फ्रांस ने पदक तालिका में चीन के ऊपर अपना अभियान समाप्त किया। वहीं ह्यूगो बाउचरन और मैथ्यू एंड्रोडियास ने डबल स्कल्स में अपने 2018 विश्व खिताब के साथ ओलंपिक गोल्ड भी अपने नाम कर लिया।

31 साल की उम्र में, एंड्रोडियास का पेरिस में हिस्सा लेना मुश्किल दिख रहा है लेकिन बाउचरन की उम्र केवल 28 साल ही है।

फ्रांस का दूसरा पदक वूमेंस लाइटवेट डबल स्कल्स में आया था, जहां उन्होंने रजत जीता था। लौरा टारनटोला और क्लेयर बोव दोनों युवा थे, जो अपने घरेलू खेलों में धमाल मचाने का काबिलियत रखते हैं।

वे शायद टोक्यो में विजेताओं के खिलाफ प्रतिस्पर्धा करेंगे। क्योंकि इटली की वेलेंटीना रोडिनी और फेडेरिका सेसरिनी, जिन्होंने सिर्फ 0.14 सेकेंड का स्वर्ण जीता था ।

ग्रीस की तरफ से इतिहास रचने वाले स्टेफानोस नटौस्कोस सिंगल्स स्कल्स जीतने में बेहद प्रभावशाली थे और 24 साल का ये खिलाड़ी आने वाले सालों में और खिताब अपने नाम कर सकता है।

नीदरलैंड ने अनुभव से भरे एक दल के साथ दुनिया में सर्वश्रेष्ठ समय निकालते हुए मेंस क्वाड्रपल स्कल्स जीती। 31 साल के डिर्क यूटेनबोगार्ड उन चार में से अकेले खिलाड़ी हैं जो शायद पेरिस नहीं जा पाएंगे।

अंकुता बोदनार और सिमोना रैडिस डबल स्कल्स में रोमानिया के एकमात्र स्वर्ण के सहज विजेता थे। उनकी उम्र सिर्फ 22 साल है इसलिए पेरिस में भी उन पर नजरें होगी।

रोमानिया बोदनार रैडिस वूमेंस डबल स्कल्स गोल्ड टोक्यो
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

Olympics.com पर कब और कहां रोइंग रिप्ले देख सकते हैं

इसका जवाब है: olympics.com/tokyo2020-replays

टॉप रोवर्स को आगे प्रतिस्पर्धा करते हुए कब देख सकते हैं?

अक्टूबर में विश्व रोइंग चैंपियनशिप को शंघाई में आयोजित किया जाना था लेकिन कोरोना महामारी के कारण उसे रद्द कर दिया गया है। जिसका मतलब है कि साल 2021 में रोइंग की कोई प्रतिस्पर्धा नहीं होगी।

2022 रोइंग विश्व कप मई के आखिरी सप्ताह के अंत में बेलग्रेड में शुरू होगा, पॉज़्नान, पोलैंड (18-19 जून) और ल्यूसर्न (9-10 जुलाई) में राउंड होंगे।

अगली विश्व रोइंग चैंपियनशिप अगले सितंबर में चेक गणराज्य के रेसिस में आयोजित की जाएगी।

टोक्यो 2020 में रोइंग में पूरी मेडल लिस्ट

महिला सिंगल्स स्कल्स 

गोल्ड - एम्मा ट्विग (NZL) 

सिल्वर - हन्ना प्रकात्सेन (ROC) 

ब्रॉंज- मैग्डेलेना लोबनिग (AUT)

वूमेंस डबल स्कल्स 

गोल्ड- रोमानिया (अंकटा बोदनार और सिमोना रैडिस) 

सिल्वर- न्यूजीलैंड (ब्रुक डोनोग्यू और हन्ना ओसबोर्न) 

ब्रॉंज- नीदरलैंड (रूस डी जोंग और लिसा शीनार्ड)

वूमेंस क्वाड्रपल स्कल्स

गोल्ड- चीन 

सिल्वर- पोलैंड 

ब्रॉंज- ऑस्ट्रेलिया

वूमेंस कॉक्सलेस पेयर

गोल्ड - न्यूजीलैंड (ग्रेस प्रेंडरगैस्ट और केरी गॉलर) 

सिल्वर - आरओसी (वासिलिसा स्टेपानोवा और एलेना ओरिआबिंस्काया) 

ब्रॉंज- कनाडा (कैली फिल्मर और हिलेरी जेन्सेन्स)

वूमेंस कॉक्सलेस फोर

गोल्ड- ऑस्ट्रेलिया 

सिल्वर - नीदरलैंड्स 

ब्रॉंज- आयरलैंड

वूमेंस आठ

गोल्ड- कनाडा 

सिल्वर- न्यूजीलैंड 

ब्रॉंज- चीन

वूमेंस लाइटवेट डबल स्कल्स

गोल्ड- इटली (वेलेंटीना रोडिनी और फेडेरिका सेसरिनी) 

सिल्वर- फ्रांस (लौरा टारनटोला और क्लेयर बोव) 

ब्रॉंज- नीदरलैंड्स (मैरीके केइजर और इल्से पॉलिस)

इटली की रोडिनी सेसरिनी वूमेंस लाइटवेट डबल स्कल्स टोक्यो
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

मेंस सिंगल स्कल्स

गोल्ड- स्टेफानोस नटौस्कोस (GRE)

सिल्वर - केजेटिल बोर्च (NOR)

ब्रॉंज- दामिर मार्टिन (CRO)

मेंस डबल स्कल्स

गोल्ड- फ्रांस (ह्यूगो बाउचरन और मैथ्यू एंड्रोडियास)

सिल्वर - नीदरलैंड्स (मेल्विन ट्वेलार और स्टीफ ब्रोएनिंक)

ब्रॉंज- चीन (लियू झियू और झांग लियांग)

मेंस क्वाड्रपल स्कल्स

गोल्ड- नीदरलैंड

सिल्वर- ग्रेट ब्रिटेन

ब्रॉंज- ऑस्ट्रेलिया

मेंस कॉक्सलेस पेयर

गोल्ड- क्रोएशिया (मार्टिन और वैलेंट सिंकोविच)

सिल्वर - रोमानिया (मारियस कोज़मीक और सिप्रियन टुडोसा)

ब्रॉंज- डेनमार्क (फ्रेडरिक विस्टावेल और जोआचिम सटन)

मेंस कॉक्सलेस फोर

गोल्ड- ऑस्ट्रेलिया

सिल्वर - रोमानिया

ब्रॉंज- इटली

मेंस आठ

गोल़्ड- न्यूजीलैंड

सिल्वर- जर्मनी

ब्रॉंज- ग्रेट ब्रिटेन

मेंस लाइटवेट डबल स्कल्स

गोल्ड- आयरलैंड (फिन्टन मैकार्थी और पॉल ओ'डोनोवन)

सिल्वर- जर्मनी (जोनाथन रोमेलमैन और जेसन ओसबोर्न)

ब्रॉंज- इटली (स्टीफानो ओप्पो और पिएत्रो रूटा)

फ्रांस बाउचरन एंड्रोडियास मेंस डबल स्कल्स टोक्यो
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स