अपनी भाषा को सेलेक्ट करें
Loading...

फ़ीफ़ा विश्व कप में सबसे अधिक उम्र वाले खिलाड़ी: गोलकीपरों का रहा है दबदबा!

मिस्र के गोलकीपर एस्साम एल-हैदरी पुरुषों के फ़ीफ़ा विश्व कप में खेलने वाले सबसे अधिक उम्र के फ़ुटबॉलर हैं। जबकि इंग्लैंड के लिए सबसे अधिक मैच खेलने वाले पीटर शिल्टन सूची में पांचवें स्थान पर हैं।

5 मिनट द्वारा सतीश त्रिपाठी
GettyImages-983620712
(फोटो क्रेडिट 2018 Getty Images)

सभी फ़ुटबॉल खिलाड़ियों का सपना होता है कि वो इस खेल में अधिक से अधिक वक्त बिता सकें। लेकिन, ऐसा सभी खिलाड़ियों के साथ नहीं हो पाता है क्योंकि वे लंबे समय तक अपनी फिटनेस बरक़रार नहीं रख पाते हैं। हालांकि, कुछ खिलाड़ी बढ़ती उम्र के साथ और भी बेहतर होते जाते हैं, जिसके कारण वो इस खेल में एक लंबी पारी खेलते हैं।

इस युग के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी जैसे लियोनेल मेसी और क्रिस्टियानो रोनाल्डो क़तर में अपना अंतिम फ़ुटबॉल विश्व कप खेल रहे हैं। लेकिन, वे फ़ुटबॉल के सबसे बड़े इवेंट में शामिल होने वाले सबसे अधिक उम्र वाले खिलाड़ियों की फ़ेहरिस्त से बहुत दूर हैं।

फ़ीफ़ा विश्व कप में खेलने वाले सबसे अधिक उम्र वाले फ़ुटबॉलरों पर एक नज़र; इस सूची में गोलकीपरों का दबदबा देखा जा सकता है।

पुरुषों के फ़ीफ़ा विश्व कप में खेलने वाले सबसे अधिक उम्र वाले फुटबॉलर

एस्साम एल-हैदरी (मिस्र) - 45 साल, 161 दिन

एस्साम एल-हैदरी ने मिस्र के लिए अपनी शुरुआत करने के 22 साल बाद, फ़ीफ़ा विश्व कप 2018 में सऊदी अरब के ख़िलाफ़ 45 साल और 161 दिन की उम्र में पहली बार इस इवेंट में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।

फिरौन अपने पहले ग्रुप मैच में उरुग्वे और मिस्र के ख़िलाफ़ हारने के बाद सऊदी अरब की प्रतियोगिता में शामिल हुए थे। मिस्र, सउदी टीम के ख़िलाफ़ मुश्किल परिस्थितियों में था और अगर इस दौरान अल-हैदरी ने फहद-अल-मुवलद की पेनल्टी किक को पहले हाफ में नहीं बचाया होता तो टीम मैच गंवा देती।

एल-हैदरी उस दिन न सिर्फ फ़ीफ़ा विश्व कप में खेलने वाले सबसे अधिक उम्र के फुटबॉलर बने, बल्कि उन्होंने फ़ुटबॉल विश्व कप में पेनल्टी बचाने वाले पहले अफ़्रीकी गोलकीपर होने का तमगा भी हासिल किया।

एल-हैदरी ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में मिस्र के लिए 159 मैच खेले। वह मिस्र की उस टीम का भी हिस्सा थे, जिसने साल 2006 से 2010 के बीच एएफसीओएन (AFCON) ख़िताब की हैट्रिक जीती थी।

फ़रीद मॉनड्रैगन (कोलंबिया) - 43 साल, 3 दिन

साल 2018 में एस्साम एल-हैदरी से पहले, कोलंबियाई गोलकीपर फ़रीद मॉनड्रैगन 43 साल और 3 दिन की उम्र में, फ़ीफ़ा विश्व कप में खेलने वाले सबसे अधिक उम्र के फुटबॉलर थे। यह उपलब्धि उन्होंने साल 2014 में जापान के ख़िलाफ़ कोलंबिया के अंतिम ग्रुप मैच में खेलते हुए हासिल किया था।

हालांकि, फ़रीद मॉनड्रैगन के पास इसके अलावा भी कई रिकॉर्ड हैं। फ़रीद मॉनड्रैगन ने साल 2014 से पहले 1998 के विश्व कप में भी कोलंबिया का प्रतिनिधित्व किया था। बता दें कि यह किसी खिलाड़ी के करियर का दो विश्व कप के बीच का सबसे लंबा इंतजार है।

साल 2014 में ब्राज़ील के ख़िलाफ़ क्वार्टर-फ़ाइनल में बेंच पर मौजूद रहे फ़ीफ़ा विश्व कप नॉकआउट में कोलंबियाई खिलाड़ी सबसे अधिक उम्र के फुटबॉलर भी हैं। उस मैच में कोलंबिया को 2-1 से हार का सामना करना पड़ा था। कोलंबिया के इस मैच के बाद फ़रीद ने संन्यास की घोषणा की थी।

रोजर मिल्ला (कैमरून) - 42 साल, 39 दिन

42 साल और 39 दिन की उम्र में कैमरून के रोजर मिल्ला फ़ीफ़ा विश्व कप में खेलने वाले सबसे अधिक उम्र के फुटबॉलरों की सूची में तीसरे स्थान पर हैं। इसके अलावा वो शीर्ष पांच में शामिल होने वाले एकमात्र फॉरवर्ड खिलाड़ी भी हैं।

मिल्ला ने साल 1994 के ग्रुप स्टेज मुक़ाबले में रूस के ख़िलाफ़ 6-1 से मिली हार में कैमरून के लिए एकमात्र गोल दागा था। इसी मैच में, रूस के ओलेग सालेंको ने फ़ीफ़ा विश्व कप मैच में 5 गोल के साथ एक खिलाड़ी द्वारा सर्वाधिक गोल करने का रिकॉर्ड अपने नाम किया था।

रोजर मिल्ला ने अपने दो दशक से अधिक के करियर में 77 मैच खेले और 43 गोल किए थे।

पैट जेनिंग्स (उत्तरी आयरलैंड) - 41 वर्ष

उत्तरी आयरलैंड के गोलकीपर पैट जेनिंग्स का 41वां जन्मदिन था, जब वे मेक्सिको में विश्व कप 1986 के ग्रुप स्टेज मैच में ब्राज़ील के ख़िलाफ़ मैदान पर उतरे थे। हालांकि, उनके जन्मदिन पर खुशियां ब्राज़ील के खिलाड़ियों ने तीन गोल दागकर मनाई। इस मुक़ाबले में उनकी टीम को 3-0 से हार का सामना करना पड़ा था।

पैट जेनिंग्स ने इसके बाद अपने संन्यास की घोषणा कर दी। उन्होंने साल 1964 और 1986 के बीच अपने देश के लिए 119 मैचों में हिस्सा लिया।

पीटर शिल्टन (इंग्लैंड) - 40 साल, 292 दिन

विश्व कप 1986 के फ़ाइनल में दिग्गज़ माराडोना ने उनके ख़िलाफ़ 'हैंड ऑफ गॉड' गोल किया था, जिसके लिए वे काफ़ी मशहूर हैं। इंग्लैंड के गोलकीपर पीटर शिल्टन ने विश्व कप 1990 में विश्व कप में खेलने वाले सबसे अधिक उम्र के फ़ुटबॉलर बनने की उपलब्धि हासिल की।

पीटर शिल्टन 40 साल और 292 दिन के थे, जब उन्होंने 1990 में इटली के ख़िलाफ़ तीसरे स्थान के प्ले-ऑफ़ में इंग्लैंड की कप्तानी की थी, जिसमें इंग्लैंड को 2-1 से हार मिली थी।

शिल्टन ने विश्व कप के बाद अपने संन्यास की घोषणा की। साल 1970 से 1990 तक शिल्टन ने 125 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले और इंग्लैंड की ओर से सबसे अधिक मुक़ाबलों में खेलने वाली खिलाड़ी बने।

फ़ीफ़ा महिला विश्व कप में सबसे अधिक उम्र की फ़ुटबॉलर

फॉर्मिगा, ब्राज़ील - 41 साल और 112 दिन

ब्राज़ील की मिडफ़ील्डर फॉर्मिगा ने 41 साल और 112 दिन की उम्र में, 2019 में फ़्रांस के ख़िलाफ़ ब्राज़ील के क्वार्टर-फ़ाइनल मैच के दौरान फ़ीफ़ा महिला विश्व कप में खेलने वाली सबसे अधिक उम्र की फ़ुटबॉलर बनीं।

हालांकि, इस मैच में उनकी टीम को 2-1 से हार का सामना करना पड़ा था। पुरुषों और महिलाओं की प्रतियोगिताओं में फॉर्मिगा 7 फ़ीफ़ा विश्व कप में खेलने वाली एकमात्र खिलाड़ी हैं। वह 7 ओलंपिक खेलों में भाग लेने वाली पहली महिला फ़ुटबॉल खिलाड़ी भी हैं।

फॉर्मिगा ने 1995 में अपना डेब्यू किया और ब्राज़ील के लिए 234 मैच खेलने के बाद साल 2021 में संन्यास ले लिया।

पसंदीदा सूची में जोड़ें
भारतIND

You May Like