लुग क्या है? जानें इसके सभी नियम

लुग शीतकालीन ओलंपिक खेलों का सबसे तेज खेला जाने वाला खेल है, जहां एथलीट एक कोर्स को पूरा करने के लिए एक फ्लैट स्लेज के सहारे फिसलता है और इस दौरान अपने पैरों को आगे रखते हैं।

लेखक रितेश जायसवाल
फोटो क्रेडिट 2018 Getty Images

भारत में जब भी शीतकालीन ओलंपिक खेलों की चर्चा होती है तो सबसे पहले लुग खेल का नाम सामने आता है।

अनुभवी एथलीट शिवा केशवन ने 1998 से 2018 तक कुल पांच शीतकालीन ओलंपिक खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया है और इटली के ट्यूरिन में 2006 के ओलंपिक संस्करण में 25वें स्थान पर रहते हुए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।

लुग 1964 से शीतकालीन ओलंपिक प्रोग्राम का हिस्सा रहा है और बीजिंग 2022 शीतकालीन ओलंपिक में भी शामिल होगा।

तो आइए जानते हैं कि लुग में क्या होता है?

सरल शब्दों में कहें तो लुग एक समय पर आधारित रेस है, जिसमें एक एथलीट एक स्लेज पर अपने चेहरे को ऊपर किए हुए लेट जाता है और निर्धारित कोर्स को एक छोर से दूसरे छोर तक पूरा करने के लिए तेज गति से स्लाइड करता है।

सबसे कम समय में कोर्स को पूरा करने वाले लुगर को विजेता माना जाता है।

लुग खेल को चार श्रेणियों में विभाजित किया गया है - पुरुष एकल, महिला एकल, युगल और टीम रिले। इसमें ऐसा कोई खास नियम नहीं है जो यह निश्चित करता हो कि समान लिंग के एथलीटों को ही युगल में प्रतिस्पर्धा करनी चाहिए।

लुग के नियम

लुग को अक्सर शीतकालीन ओलंपिक में सबसे तेज़ खेल माना जाता है, जिसमें सभी लुगर 130 किमी/घंटा से भी अधिक की शीर्ष गति हासिल करते हैं।

एथलीटों को सीधी स्थिति में लेटने की जरूरत होती है, जिसमें चेहरा ऊपर और पैर आगे होना चाहिए। इसके बाद एक स्लेज पर निश्चित कोर्स को पूरा करने के लिए नीचे स्लाइड करना होता है, जिसमें छोटे मोड़ होते हैं। इस रेस को जितना जल्दी हो सके उतनी जल्दी खत्म करना होता है।

सभी लुगर अपनी पीठ के बल सपाट स्थिति में लेटकर स्लेज को खिसकाते हैं और अपनी मांसपेशियों की मदद से वजन को बदलकर दिशा को बदलते हैं। इसके अलावा वे स्लाइड करने के लिए अपने कंधों का उपयोग करते हैं।

बीजिंग में स्थित ओलंपिक स्लाइडिंग सेंटर में पुरुष एकल कोर्स 0.84 मील (लगभग 1352 मीटर) का है, जबकि महिला एकल और युगल का कोर्स 0.75 मील (लगभग 1207 मीटर) लंबा है।

एक मान्य रन को पूरा करने के लिए लुगर को स्लेज पर लेटे हुए फिनिश लाइन को पार करते हुए आगे जाने होता है। स्लेज के बिना फिनिशिंग लाइन को पार करना या चलना या स्लेज को फिनिश लाइन की ओर धकेलने पर लुगर के रन को अमान्य करार दिया जाता है।

शीतकालीन ओलंपिक में सभी लुगर को कोर्स में चार रन (एकल में) और दो रन (युगल में) पूरे करने होते हैं और सबसे तेज समय के साथ अपनी रेस को खत्म करने वाले एथलीट/जोड़ी को विजेता घोषित किया जाता है।

एकल का लुग इवेंट दो दिनों में होता है, जिसमें प्रत्येक दिन दो रन होते हैं। अधिकांश अन्य टूर्नामेंट (विश्व चैंपियनशिप की तरह) में एकल प्रतियोगियों में केवल दो रन पूरे करने की जरूरत होती है।

लुग टीम रिले में टीमों के पास तीन स्लेज होते हैं - एक पुरुष एकल, एक महिला एकल और एक युगल।

टीम रिले में महिला एकल प्रतियोगी पहले जाती है और फिनिश लाइन पर पहुंचने पर एक टचपैड को छूती है, जिससे पुरुष एकल प्रतियोगी के लिए गेट खुल जाता है।

वहीं, पुरुष एकल प्रतियोगी युगल जोड़ी के लिए गेट खोलने के लिए टचपैड को छूता है। युगल टीम का शीर्ष लुगर टीम के लिए अंतिम दौड़ का संकेत देने के लिए टचपैड को छूता है और टाइमर को रोकने पर उस टीम के द्वारा लिए गए कुल समय को निर्धारित करता है।

लुग खेल के उपकरण

लुग के लिए सबसे महत्वपूर्ण उपकरण स्लेज है। दो स्टील के टुकड़ों पर एक स्लेज स्लाइड और उसमें आगे बढ़े हुए घुमावदार भागों को रनर्स कहा जाता है, ये लुगर को अपने पैरों से दिशा बदलने में मदद करते हैं। जिस सीट पर लुगर लेटता है उसे 'पॉड सीट' कहा जाता है।

सिंगल स्लेज का वजन 21-25 किग्रा के बीच होता है, जबकि डबल्स स्लेज का वजन 25-30 किग्रा के बीच हो सकता है।

सिंगल स्लेज की अधिकतम चौड़ाई 550मिमी और अधिकतम ऊंचाई 120मिमी होती है।

लुगर के रेसिंग जूतों को बूटीज़ कहा जाता है। एथलीटों को एक हेलमेट और चेहरा ढकने के लिए ढाल पहनना होता है। यह ठंडे तापमान और दुर्घटनाओं से सुरक्षा देता है। हेलमेट में लगा नेक स्ट्रैप जी-फोर्स के खिलाफ सिर को उससे जकड़े रखता है।

लुगर चमड़े से बने रेसिंग दस्ताने और एक शरीर से चिपका हुआ रेस सूट पहनते हैं, जो ड्रैग (हवा प्रतिरोध) को कम करता है। उनके दस्तानों पर स्पाइक्स भी लगे होते हैं, जो उन्हें बर्फ पर पकड़ बनाने में मदद करते हैं और इसके साथ ही रेस को शुरू करने के दौरान गति पकड़ने में मदद करते हैं।

A luge sled
फोटो क्रेडिट 2018 Getty Images

लुग का इतिहास

लुग को 1964 के शीतकालीन ओलंपिक में ऑस्ट्रिया के इंसब्रुक में पुरुष एकल, महिला एकल और युगल स्पर्धाओं के साथ पेश किया गया था। वहीं टीम रिले को 2014 में ओलंपिक प्रोग्राम में जोड़ा गया।

जर्मनी के थॉमस कोहलर पहले पुरुष एकल लुग ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता थे, जबकि हमवतन ओरट्रुन एंडरलीन ने महिला एकल का स्वर्ण पदक जीता था।

ऑस्ट्रियाई जोड़ी जोसेफ फीस्टमांटल और मैनफ्रेड स्टेंगल पहले लुग युगल ओलंपिक विजेता रहे हैं।

शीतकालीन ओलंपिक में जर्मनी का दबदबा रहा है। उसने कुल मिलाकर 37 पदक जीते हैं, जिसमें 18 स्वर्ण, 10 रजत और नौ कांस्य पदक शामिल हैं।

पुरुष एकल में वेस्ट जर्मनी, ईस्ट जर्मनी और यूनीफाइड जर्मनी संयुक्त रूप से 10 स्वर्ण, 7 रजत और 7 कांस्य जीतकर इस तालिका में सबसे आगे रही है।

जर्मनी महिला एकल स्पर्धा में भी शीर्ष पर है, जहां उसने 10 स्वर्ण, 12 रजत और 9 कांस्य पदक जीते हैं। युगल में उनके नाम 11 स्वर्ण, 4 रजत और 7 कांस्य पदक दर्ज हैं।

जर्मनी ने 2014 और 2018 शीतकालीन ओलंपिक में दोनों लुग टीम रिले स्वर्ण भी जीते हैं।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स