नेशनल वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में हिस्सा नहीं लेंगी मीराबाई चानू

यूथ ओलंपिक चैंपियन जेरेमी लालरिननुंगा नेशनल चैंपियनशिप में 67 किग्रा भार-वर्ग में अपने खिताब का बचाव करने उतरेंगे।

लेखक विवेक कुमार सिंह
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

ओलंपिक रजत पदक विजेता मीराबाई चानू मंगलवार से शुरु होने वाले नेशनल वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप (National weightlifting championships) में हिस्सा नहीं लेंगी। ये चैंपियशिप पटियाला के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स (National Institute of Sports) में आयोजित होगी।

मीराबाई चानू रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड (Railways Sports Promotion Board) का प्रतिनिधित्व करती हैं, जो मौजूदा महिला 49 किग्रा भारवर्ग की नेशनल चैंपियन हैं।

मीराबाई चानू ने टोक्यो ओलंपिक में महिलाओं की 49 किग्रा वेटलिफ्टिंग में रजत पदक जीता था। ये टोक्यो ओलंपिक में भारत का पहला पदक था और इसके बाद ही भारत को और छह पदक मिले, जिससे टोक्यो 2020 देश का सबसे सफल ओलंपिक बन गया।

2018 यूथ ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता जेरेमी लालरिनुंगा (Jeremy Lalrinnunga) घुटने की चोट से उबरने के बाद नेशनल वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में पुरुषों के 67 किग्रा भार वर्ग में अपने खिताब का बचाव करने की उम्मीद करेंगे। वो सर्विसेस स्पोर्ट्स कंट्रोल बोर्ड (Services Sports Control Board) का प्रतिनिधित्व करते हैं।

जेरेमी ने द न्यू इंडियन एक्सप्रेस से कहा, “मैंने सिर्फ चार सप्ताह पहले से ही सही से प्रशिक्षण शुरू किया है। मुझे उम्मीद है कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर सकता हूं और घुटने की ये चोट मुझे इवेंट के दौरान परेशान नहीं करेगी।”

18 वर्षीय जेरेमी लालरिननुंगा मई में उज्बेकिस्तान के ताशकंद में हुए विश्व जूनियर चैंपियनशिप में चौथे स्थान पर रहने के बाद टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने से चूक गए थे

जेरेमी अप्रैल में ताशकंद में आयोजित एशियाई चैंपियनशिप के बाद से घुटने की चोट से जूझ रहे थे।

जूनियर और सब-जूनियर नेशनल वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप भी सीनियर नेशनल्स के साथ INS पटियाला में चार दिवसीय कार्यक्रम में आयोजित की जाएगी।