जानिए जापानी स्नोबोर्ड स्टार Hirano Ayumu के बारे में सब कुछ

Hirano Ayumu का लक्ष्य पुरुषों की स्नोबोर्ड हाफपाइप प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतना होगा जो 9 फरवरी से जेंटिंग स्नो पार्क में शुरू होगी। टोक्यो 2020 में स्केटबोर्डिंग प्रतियोगिता में भाग लेने के बाद जापानी स्नोबोर्ड स्टार अब अपने दूसरे ओलंपिक खेलों में भाग लेंगे।

लेखक Yukifumi Tanaka
फोटो क्रेडिट 2022 Getty Images

दिसंबर 2021 में, Hirano Ayumu तीन साल में पहली बार FIS स्नोबोर्ड हाफपाइप विश्व कप प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए ढलान पर लौटे। वहीं प्योंगचांग 2018 में अपना दूसरा ओलंपिक रजत पदक जीतने के बाद, उन्होंने टोक्यो 2020 खेलों में एक अन्य अनुशासन - स्केटबोर्डिंग में प्रतिस्पर्धा करने का फैसला किया।

अब शीतकालीन ओलंपिक खेलों बीजिंग 2022 के शुरू होने के साथ, सभी की निगाहें Ayumu पर होंगी, जो शानदार फॉर्म में हैं।

खेल से छोटी उम्र में परिचय

अपने पिता और बड़े भाई से प्रभावित होकर, Hirano ने जापान में अपने गृहनगर मुराकामी में चार साल की उम्र में स्नोबोर्डिंग और स्केटबोर्डिंग करना शुरू कर दिया था। 14 साल की उम्र में, उन्होंने विश्व कप में अपनी शुरुआत की और हाफपाइप प्रतियोगिता में एक्स गेम्स में रजत पदक भी जीता। 

उन्हें सोची 2014 के लिए जापान की राष्ट्रीय टीम में भी चुना गया, लेकिन चोट लगने के कारण उन्हें प्रतियोगिता शुरू होने से पहले अभ्यास करना का समय नहीं मिला। 

इन सब के बावजूद, Hirano ने वहां रजत पदक जीता और इतिहास में शीतकालीन ओलंपिक पदक जीतने वाले सबसे कम उम्र के जापानी एथलीट भी बन गए।

एक लगभग घातक दुर्घटना और फिर एक शानदार वापसी

मार्च 2017 में, प्योंगचांग 2018 में प्रतिस्पर्धा करने के एक साल से भी कम समय पहले, अमेरिका में हुए एक कार्यक्रम के दौरान Hirano को एक हैवी फॉल की वजह से काफी चोट आई।

हालांकि उन्हें सर्जरी की आवश्यकता नहीं पड़ी, उन्हें फिर भी आईसीयू में दो सप्ताह बिताने के लिए मजबूर होना पड़ा क्योंकि उनका लीवर आंतरिक रूप से टूट गया था और उनके बाएं घुटने का लिगामेंट भी गंभीर रूप से घायल हो गया था। उनके डॉक्टर के अनुसार, अगर Hirano अलग तरह से गिर गए होते तो शायद उनकी जान भी चली जाती।

खुदा का करिश्मा देखे, केवल छह महीने के समय में ही Hirano ने कूपर माउंटेन में विश्व कप प्रतियोगिता में हाफपाइप प्रतियोगिता जीतकर एक अविश्वसनीय वापसी की।

एक दूसरा ओलंपिक रजत पदक

सोची 2014 में अपने पदार्पण के बाद, Hirano ने प्योंगचांग 2018 में ओलंपिक हाफपाइप प्रतियोगिता में फिर से भाग लिया। फाइनल में, उन्होंने ओलंपिक मंच पर पहला डबल कॉर्क 1440 लैंड करने के बाद बढ़त भी हासिल की। हालांकि, प्रतियोगिता के आखिरी रन में अमेरिका के Shaun White ने पांच क्लीन ट्रिक्स मारकर 97.75 के स्कोर के साथ स्वर्ण पदक अपने नाम किया तो वहीं Hirano को एक बार फिर रजत के साथ संतुष्ट होना पड़ा।

अब बीजिंग 2022 में, दोनों पुरुष एक बार फिर उस प्रतिष्ठित स्वर्ण पदक के लिए प्रतिस्पर्धा करेंगे।

विंटर गेम्स से लेकर टोक्यो खेलों तक

प्योंगचांग 2018 के बाद, Hirano ने घोषणा की कि वह स्केटबोर्ड प्रतियोगिता में टोक्यो 2020 में अपने घरेलू ओलंपिक में जापान का प्रतिनिधित्व करेंगे।

हालांकि, उन खेलों के एक साल के स्थगन के बावजूद, Hirano ने अपने लक्ष्य से मुँह नहीं फेरा, और यहां तक कि साथ में अपना स्नोबोर्ड प्रशिक्षण भी शुरू कर दिया। टोक्यो 2020 खेलों में, उन्होंने नए ओलंपिक स्ट्रीट स्पोर्ट में भाग लिया।

इतिहास बनाने वाला ट्रिपल कॉर्क 1440

वहीं पिछले साल दिसंबर में, Hirano एक आधिकारिक प्रतियोगिता में ट्रिपल कॉर्क 1440 को सफलतापूर्वक लैंड करके इसे हासिल करने वाले पहले एथलीट बन गए। अब अगर 23 वर्षीय इस बार बीजिंग में उसी चाल को दोहराने में सक्षम होते हैं, तो वह वास्तव में स्वर्ण पदक जीतने के करीब आ सकते हैं।

अपने भाई के साथ प्रतिस्पर्धा करना

इस बीच, उनके छोटे भाई, Hirano Kaishu को भी बीजिंग 2022 में इसी कार्यक्रम में जापान का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुना गया है। Kaishu ने लुसाने 2020 शीतकालीन यूथ ओलंपिक खेलों में हाफ पाइप प्रतियोगिता में भाग लिया था और रजत पदक जीता था।

"Walk a dream"

Hirano का पहला नाम, Ayumu, जापानी में "歩夢 " के रूप में वर्णित है, जिसका अर्थ है "Walk a dream"। सचमुच, वह अपना जीवन जीते हैं और अपने सपने पर चलते हैं।

जब वह सोची में सबसे कम उम्र के ओलंपिक पदक विजेता बने, तो उन्होंने अपने जीवन के अंतिम लक्ष्य के बारे में पूछे एक सवाल का जवाब देते हुए कहा: "मैं इसकी ओर कदम दर कदम बढ़ा रहा हूं।"

स्नोबोर्ड फैन? यह सब पाएं।

स्नोबोर्डिंग, वीडियो, ओलंपिक शीतकालीन खेलों के हाईलाइट और बहुत कुछ पाएं।