राष्ट्रमंडल खेल से जुड़े कुछ जरूरी सवालों के जवाब जानिए

कॉमनवेल्थ गेम्स का पहली बार साल 1930 में कनाडा के हेमिल्टन शहर में आयोजन हुआ था। उस वक्त इसे ब्रिटिश एम्पायर गेम्स के नाम से जाना जाता था।

लेखक रितेश जायसवाल
फोटो क्रेडिट Patch Dolan Photography

राष्ट्रमंडल खेल, या कॉमनवेल्थ गेम्स, कई खेलों का एक अनूठा 'महाकुंभ' है। इसमें अंतरराष्ट्रीय स्तर के खेल शामिल किए जाते हैं। आमतौर पर इसे दोस्ताना खेलों के तौर पर देखा जाता है। इस आयोजन का मूल मंत्र मानवता, समानता और नियति है, जो लोगों को प्रेरित करते हैं।

वहीं, राष्ट्रमंडल स्वतंत्र देशों का एक संगठन है, जो अफ्रीका से लेकर एशिया और प्रशांत महासागर से लेकर कैरिबियाई देशों तक सारे महाद्वीप में फैला हुआ है।

राष्ट्रमंडल खेल क्या है?

राष्ट्रमंडल खेल या कॉमनवेल्थ गेम्स हर चार साल में होने वाला एक अंतरराष्ट्रीय मल्टीस्पोर्ट इवेंट है, जिसमें कॉमनवेल्थ ऑफ नेशंस के एथलीट हिस्सा लेते हैं। राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन इंग्लैंड के लंदन में स्थित राष्ट्रमंडल खेल संघ द्वारा किया जाता है।

पहली बार राष्ट्रमंडल खेल कब हुए थे?

राष्ट्रमंडल खेल का पहली बार साल 1930 में कनाडा के हेमिल्टन शहर में आयोजन हुआ था। उस वक्त इसे ब्रिटिश एम्पायर गेम्स यानी ब्रितानी साम्राज्य खेल के नाम से ही जाना जाता था।

पहली बार आयोजित किए गए कॉमनवेल्थ गेम्स में कुल 11 देशों के लगभग 400 एथलीटों ने हिस्सा लिया था, जिन्होंने एथलेटिक्स, लॉन बॉउल, बॉक्सिंग, रोइंग, स्विमिंग और रेसलिंग सहित कुल छह खेलों की 59 प्रतियोगिताओं में अपना प्रदर्शन किया था।

साल 1928 में कनाडा के प्रमुख एथलीट बॉबी रॉबिंसन के अहम योगदान की वजह से ही राष्ट्रमंडल खेलों की शुरुआत हुई।

राष्ट्रमंडल खेल का इतिहास

ऑस्ट्रेलिया में पैदा हुए एशली कूपर ने पहली बार 1891 में इस तरह के खेल आयोजन का प्रस्ताव रखा, जिसके जरिए ब्रिटिश साम्राज्य की एकता का प्रदर्शन किया जा सके। साल 1930 के बाद से हर चार साल बाद इस प्रतियोगिता का आयोजन होता रहा है। हालांकि द्वितीय विश्व-युद्ध की वजह से 1942 और 1946 में इसका आयोजन नहीं किया जा सका। साल 1950 तक इसे ब्रिटिश एम्पायर गेम्स ही कहा जाता था।

साल 1954 से 1966 तक राष्ट्रमंडल खेलों को ब्रिटिश एम्पायर और कॉमनवेल्थ गेम्स कहा गया। इसके बाद 1970 और 1974 में इसे ब्रिटिश कॉमनवेल्थ गेम्स के नाम से जाना गया।

आखिरकार साल 1978 में सर्वसम्मति से इसे कॉमनवेल्थ गेम्स यानी राष्ट्रमंडल खेल का नाम दिया गया। तब से अभी तक यह इसी नाम से आयोजित हो रहा है।

2022 के राष्ट्रमंडल खेल कहां होंगे?

2022 राष्ट्रमंडल खेल इंग्लैंड के बर्मिंघम में आयोजित किए जाएंगे, जो 28 जुलाई से 8 अगस्त तक चलेंगे। कॉमनवेल्थ गेम्स के इस संस्करण में कुल 19 खेलों का रोमांच देखने को मिलेगा।

2022 राष्ट्रमंडल खेल का शुभंकर

‘पेरी’ बर्मिंघम 2022 का आधिकारिक शुभंकर है। राष्ट्रमंडल खेल का शुभंकर दिखने में एक बहुत ही खास बहुरंगी बैल के जैसा है। ये ताकतवर, दयालु और थोड़ा मस्ती करने वाला है।

2022 के राष्ट्रमंडल खेलों का आदर्श वाक्य क्या है?

राष्ट्रमंडल खेल का आदर्श वाक्य 'शेयर द ड्रीम' (सपनों को बांटें) है। 

2026 के राष्ट्रमंडल खेल कहां होंगे?

2026 के राष्ट्रमंडल खेल ऑस्ट्रेलिया के विक्टोरिया में आयोजित किए जाएंगे। यह पहला अवसर होगा जब इन खेलों का आयोजन कई शहरों में किया जाएगा। इनमें बैलरेट, बेंडिगो, जिलॉन्ग, गिप्सलैंड और मेलबर्न जैसे शहर शामिल हैं।

भारत में राष्ट्रमंडल खेल कब हुआ था?

नई दिल्ली में 3 अक्टूबर से 14 अक्टूबर 2010 के बीच 19वें राष्ट्रमंडल खेल का आयोजन हुआ था। यह पहला मौका था जब भारत को राष्ट्रमंडल खेल की मेजबानी मिली थी। भारत ने साल 1982 में एशियन गेम्स के शानदार आयोजन के करीब तीन दशक के बाद इस स्तर की विशाल खेल प्रतियोगिता का आयोजन किया था। प्रतियोगिता का शुभारंभ दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में हुआ और यहीं पर 14 अक्टूबर को इसका समापन समारोह हुआ था।

राष्ट्रमंडल खेल लिस्ट

साल 2022 में बर्मिंघम में होने वाले राष्ट्रमंडल खेल लिस्ट में कुल 19 खेल शामिल किए गए हैं।

इसमें एक्वेटिक्स, एथलेटिक्स, बैडमिंटन, बास्केटबॉल, बीच वॉलीबॉल, बाउल्स, बॉक्सिंग, क्रिकेट (महिला), साइकिलिंग, जिम्नास्टिक, जूडो, हॉकी, नेटबॉल, रग्बी सेवेंस, स्क्वैश, टेबल टेनिस, ट्रायथलॉन, भारोत्तोलन और कुश्ती शामिल है।

इस राष्ट्रमंडल खेल में जहां जूडो और क्रिकेट की वापसी हुई है, वहीं शूटिंग को हटा दिया गया है।

कॉमनवेल्थ गेम्स रोचक तथ्य

  • भारत का सबसे अच्छा प्रदर्शन दिल्ली में साल 2010 में आयोजित राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान रहा था। इसमें भारत ने कुल 101 मेडल जीतकर दूसरा स्थान हासिल किया था। इसमें 38 स्वर्ण, 27 रजत और 36 कांस्य पदक शामिल थे।
  • 2010 राष्ट्रमंडल खेलों का आधिकारिक गीत "जियो उठो बढ़ो जीतो", मशहूर भारतीय संगीतकार ए आर रहमान द्वारा रचा गया था।
  • भारत कॉमनवेल्थ गेम्स में अब तक कुल 17 बार हिस्सा ले चुका है।
  • भारत ने कॉमनवेल्थ गेम्स में कुल 503 पदक जीते हैं, जिनमें 181 स्वर्ण, 173 रजत और 149 कांस्य पदक शामिल हैं।
  • ओलंपिक और एशियन गेम्स के बाद कॉमनवेल्थ गेम्स यानी राष्ट्रमंडल खेल दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा खेल इवेंट है।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स