कॉमनवेल्थ गेम्स 2022, हॉकी: भारत और इंग्लैंड के बीच रोमांचक मुकाबला 4-4 से हुआ ड्रॉ

भारतीय टीम की ओर से मंदीप सिंह ने दो गोल तो ललित कुमार उपाध्याय और हरमनप्रीत सिंह ने एक-एक गोल किए।

लेखक सतीश त्रिपाठी
फोटो क्रेडिट Getty Images

राष्ट्रमंडल खेल 2022 में भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने अपने दूसरे मुकाबले में इग्लैंड के खिलाफ 4-4 से ड्रॉ खेला। टीम ने इससे पहले अभियान का शानदार आगाज करते हुए घाना को 11-0 से करारी शिकस्त दी थी। 

भारत की ओर से ललित कुमार उपाध्याय (तीसरे मिनट), मंदीप सिंह (13वें, 22वें), हरमनप्रीत सिंह (46वें) ने गोल किया। वहीं, इग्लैंड की तरफ से लियाम एंसेल ने (42वें), निकोलस बंदुरक (47वें और 53वें) और फिलिप रूपर ने (50वें) मिनट में गोल किया। 

आत्मविश्वास से लबरेज भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने मैच में धमाकेदार अंदाज में अपनी शुरुआत की। टीम ने मुकाबले के दूसरे मिनट में पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया और हरमनप्रीत सिंह के फ्लिक को इग्लैंड के गोलकीपर ने रोक तो लिया लेकिन ललित कुमार उपाध्याय ने डिफ्लेक्शन के बाद गेंद को गोल पोस्ट में भेजकर कर भारत को 1-0 से शुरुआती बढ़त दिलाई।

इस बीच मुकाबले के 9वें मिनट में आकाशदीप सिंह को ग्रीन कार्ड दिया गया। वहीं, इग्लैंड के खिलाड़ियों ने गोल करने के कई मौके बनाए, लेकिन शुरूआती दौर में भारतीय खिलाड़ियों के आगे वो बेबस नजर आए।

भारतीय पुरुष टीम ने अपनी गोल की तलाश बरकरार रखी और टीम को 13वें मिनट में अपनी बढ़त को दोगुना करने का मौका मिला, जब मंदीप सिंह ने गेंद को अपने कब्जे में लेते हुए विपक्षी खिलाड़ियों को चकमा देकर शानदार फील्ड गोल किया। 

हालांकि इग्लैंड टीम ने इस गोल को खारिज करने के लिए वीडियो रेफरल की मांग की, लेकिन उनकी कोशिश नाकाम हो गई। इस तरह पहले क्वार्टर की समाप्ति तक भारत ने  2-0 से बढ़त बरकरार रखी। 

दूसरे क्वार्टर में भारतीय खिलाड़ियों ने अपना दबदबा कायम रखा और इंग्लैंड की डिफेंस टीम दबाव में नजर आई। भारतीय खिलाड़ी मंदीप सिंह ने मुकाबले के 22वें मिनट में टीम के लिए एक और गोल कर टीम को 3-0 से बढ़त दिलाई और हाफ टाइम तक भारत का वर्चस्व कायम रहा।

हाफ टाइम के बाद भारत ने खेल को एक नए अंदाज में शुरू करने का प्रयास किया, लेकिन इंग्लैंड की टीम का डिफेंस पहले से बेहतर रहा और उन्होंने अपने तेज अटैक से कई मौके बनाए। मुकाबले के 42वें मिनट में इग्लैंड के लियाम एंसेल ने गेंद की पोजेशन लेते हुए फील्ड गोल कर टीम का खाता खोला। लेकिन तीसरे क्वार्टर के समाप्ति तक भारत ने 3-1 से अपनी बढ़त बरकरार रखी। 

वहीं, तीसरे क्वार्टर में वरूण कुमार को दूसरी बार मिले येलो कार्ड के कारण भारतीय टीम 10 खिलाड़ियों के साथ मैदान में थी। 

ऐसे में चौथा और अंतिम क्वार्टर तब और रोमांचक हो गया, जब हरमनप्रीत सिंह ने मुकाबले के 46वें मिनट में एक पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील कर 4-1 से बढ़त बनाई। लेकिन इसके बाद इंग्लैंड ने शानदार खेल का मुजाहिरा करते हुए मैच का रुख बदल दिया। 

इस बीच इंग्लैंड ने जल्द ही भारत के गोल का जवाब देते हुए दो गोल दाग दिए। जब 47वें मिनट में निकोलस बंदुरक और 50वें मिनट में फिलिप रूपर ने फील्ड गोल किए। 

इस बीच मुकाबले के 51वें मिनट में भारत के एक और खिलाड़ी को येलो कार्ड दिखाया गया, जिसके कारण भारत मैच के अंत में 9 खिलाड़ियों के साथ मैदान में बचा था।

एक समय भारत 4-1 की बढ़त से साथ मुकाबले में आगे चल रहा था लेकिन मैच खत्म होते-होते इग्लैंड के खिलाड़ियों ने अपना अटैक और तेज कर दिया और 53वें मिनट में निकोलस बंदुरक ने एक और गोल कर स्कोर 4-4 से बराबर कर लिया।

इस तरह भारत और इंग्लैंड के बीच खेला गया ये मुकाबला 4-4 से ड्रॉ रहा। 

भारतीय पुरुष हॉकी टीम अब अपना अगला मुकाबला बुधवार को कनाडा के खिलाफ खेलेगी।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स