कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 एथलेटिक्स: तेजस्विन शंकर ने हाई जंप में भारत को दिलाया पहला पदक

नेशनल रिकॉर्ड धारक ने 2.22 मीटर ऊंची कूद के साथ कांस्य पदक जीता।

लेखक सतीश त्रिपाठी
फोटो क्रेडिट 2022 Getty Images

भारत के तेजस्विन शंकर ने बुधवार को ब्रिटेन के बर्मिंघम के अलेक्जेंडर स्टेडियम में कॉमनलवेल्थ गेम्स 2022 में पुरुषों के हाई जंप इवेंट में कांस्य पदक जीता।

तेजस्विन शंकर ने नेशनल रिकॉर्ड 2.22 मीटर के प्रयास के साथ राष्ट्रमंडल खेल में हाई जंप में भारत का पहला पदक जीता। उन्होंने 2018 में 2.29 मीटर के भारत के पुरुषों के हाई जंप का राष्ट्रीय रिकॉर्ड हासिल किया था। यह इस संस्करण में भारत का पहला ट्रैक एंड फील्ड पदक है।

पूर्व वर्ल्ड और CWG चैंपियन बहामस के डोनाल्ड थॉमस भारतीय एथलीट तेजस्विन शंकर के साथ 2.22 मीटर की दूरी पर बराबर थे, लेकिन तेजस्विन ने कम फाउल किए और कांस्य पदक हासिल किया।

वर्ल्ड चैंपियनशिप के इंडोर कांस्य पदक विजेता हामिश केर ने 2.25 मीटर की दूरी तय कर स्वर्ण पदक जीता और ऑस्ट्रेलिया के मौजूदा चैंपियन ब्रैंडन स्टार्क को कम फाउल कर स्वर्ण की रेस में पीछे छोड़ दिया।

हालांकि यह स्वर्ण पदक नहीं है। लेकिन ये कहना गलत नहीं होगा कि तेजस्विन शंकर के लिए ये एक अच्छा परिणाम था। वह राष्ट्रमंडल खेल के लिए भारतीय टीम में अपनी जगह बनाने के लिए महीनों तक परेशान रहे और इस दौरान उन्हें काफी नाटक का भी सामना करना पड़ा।

यूएस-बेस्ड हाई-जंपर को यूएसए में एक प्रतियोगिता में CWG 2022 के लिए एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (AFI) के प्रवेश मानक से मंजूरी दी गई। लेकिन शुरुआत में उन्हें टीम का हिस्सा नहीं बनाया गया था। क्योंकि उन्होंने भारत की नेशनल इंटर-स्टेट मीट में हिस्सा नहीं लिया था। तेजस्विन शंकर ने इस फैसले को चुनौती देते हुए दिल्ली हाई कोर्ट का रुख किया। इसके बाद उन्हें बर्मिंघम में हिस्सा लेने के लिए AFI से मंजूरी मिल गई।

यह नाटक यहीं समाप्त नहीं हुआ। दरअसल, बर्मिंघम खेलों के आयोजकों ने 29 जून की डेडलाइन के बाद उनके नाम का सुझाव दिए जाने के बाद उन्हें प्रतिस्पर्धा में शामिल करने से इंकार कर दिया था।

उद्घाटन समारोह से पांच दिन पहले बर्मिंघम के एथलीट विलेज में शेफ डे मिशन की मीटिंग के बाद उन्हें आखिरकार टीम में शामिल कर लिया गया।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स