हमने क्या सीखा: टोक्यो 2020 से बॉक्सिंग का पूरा लेखा-जोखा

क्यूबा की वापसी से लेकर तुर्की के ऐतिहासिक पहले स्वर्ण पदक तक, हम टोक्यो 2020 में बॉक्सिंग के सबसे यादगार पलों और मेडल रिकैप के हाइलाइट्स देखेंगे, और पेरिस 2024 के बारे में काफी कुछ जानेंगे।

फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

सूमो कुश्ती का आध्यात्मिक केंद्र कोकुगिकन एरिना ने 15 दिनों के लिए टोक्यो 2020 ओलंपिक खेलों में रोमांचक बॉक्सिंग की मेजबानी की।

आईओसी बॉक्सिंग टास्क फोर्स द्वारा संचालित पहले ओलंपिक टूर्नामेंट को एक बड़ी सफलता माना जाता था, जिसमें कई खेलों के गलत निर्णय को लेकर काफी विवाद हुआ था।

बॉक्सिंग रिंग में क्यूबा और ग्रेट ब्रिटेन अपने देश के लिए कई स्वर्ण पदक जीत रहे थे, जबकि तीन से पांच महिलाओं के वजन वर्गों के विस्तार की वजह से तुर्की को अपने देश के लिए पहला बॉक्सिंग स्वर्ण पदक जीतने में मदद मिली, वहीं जापान और बुल्गारिया ने अपना पहला महिला खिताब जीता था।

फिलीपींस ने भी अपने अब तक के सर्वश्रेष्ठ खेलों में तीन पदकों के साथ शुरुआत की, जबकि अमेरिका 2008 के बाद पहली बार पोडियम पर शीर्ष में जगह बनाने में असफल रहा, हालांकि साल 2000 के बाद चार पदक उनकी बेहतरीन संख्या थी।

कुछ यादगार पलों और मेडल जीतने वालों एथलीटों के बारे में पढ़िए और पेरिस 2024 के बारे में भी जानिए।

टोक्यो में पोडियम पर अर्लेन लोपेज
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

2021 में टोक्यो 2020 के पांच शीर्ष बॉक्सिंग के लम्हें

यहां टोक्यो 2020 ओलंपिक खेलों के हाइलाइट्स देखें

1: अर्लेन लोपेज और जूलियो सीजर ला क्रूज ने क्यूबा की बॉक्सिंग को फिर जिंदा किया

क्यूबा इस समिट के लिए टोक्यो में वापस लौटा और उसने चार गोल्ड और एक कांस्य पदक मेंस बॉक्सिंग में जीते।

वेल्टर वेट के फाइनल में रोनिएल इग्लेसियस ने पैट मैककॉर्मैक को हराया।

इग्लेसियस के एक मजबूत लेफ्ट के बाद मैककोर्मैक दूसरे दौर में कैनवस पर थे। लेकिन रेफरी ने इसे नॉकडाउन के बजाय स्लिप घोषित कर दिया। इससे रिजल्ट पर असर पड़ा और क्यूबा यूरोपीय गेम्स चैंपियन से बाहर हो गया और उसने एक सर्वसम्मत अंक बनाया ।

32 वर्षीय साउथ पॉ के लिए बीजिंग 2008 में कांस्य और लंदन 2012 में लाइट-वेल्टरवेट में स्वर्ण और रियो 2016 में एक विवादास्पद वेल्टरवेट क्वार्टर फाइनलसे बाहर होने के बाद अपने चौथे ओलंपिक खेलों में यह उल्लेखनीय जीत थी।

जीत के बाद रोनिएल इग्लेसियस ने मनाया जश्न
फोटो क्रेडिट 2021 Luis Robayo - Pool

अरलेन लोपेज ने लाइट-हैवीवेट फाइनल में एक और ब्रिटिश मुक्केबाज बेन व्हिटेकर को हराकर टोक्यो में क्यूबा के लिए दो स्वर्ण पदक जीते।

शुरुआती दौर में व्हिटेकर बाउट में निष्क्रिय होने के बाद वापसी करने में सक्षम नहीं था और हार पर उसकी निराशा ही उसे विजय समारोह के दौरान अपना पदक पहनने से रोक रही थी।

यह लोपेज थे, जो एक उच्च वजन वर्ग में दूसरे ओलंपिक खिताब के साथ रियो में अपने मिडिलवेट स्वर्ण के बाद चिंता का विषय बन गए थे।

रियो लाइट-हैवीवेट स्वर्ण पदक विजेता जूलियो सीजर ला क्रूज़ आरओसी के विश्व चैंपियन मुस्लिम गाजिमागोमेदोव के खिलाफ हैवीवेट फाइनल में ऐसा ही करने की कोशिश कर रहे थे।

यह हमेशा इस्तेमाल होने वाली स्टाइल से अलग होने जा रहा था, क्योंकि गाजिमागोमेदोव ने अपने पिछले विरोधियों को तेजी से हैरान कर दिया था, जो क्यूबा के बॉक्सर के लिए कुछ अलग सोच रहा था।

अंत में ला क्रूज़ के रूप में यह एक साधारण प्रतियोगिता थी।

आखिरकार, यह एक मुश्किल प्रतियोगिता थी क्योंकि ला क्रूज़ ने एक अन्य शीर्ष बॉक्सर को जो दिखने में बहुत सामान्य थे, उन्हें एक क्लिनिक में ले जाया गया। गाडज़िमागोमेदोव ने ला क्रूज़ के साथ रिंग में मुश्किल से एक मुक्का मार था, उनके हाथों की रफ्तार उस दौरान देखने लायक थी। आखिर में 31 वर्षीय क्यूबा ने बॉक्सिंग ने अपने प्रतिद्वंद्वी को हराकर आगे का सफर तय किया।

टोक्यो में जूलियो ला क्रूज़ गाडज़िमागोमेदोव 
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

अंतिम दिन लाइटवेट में एंडी क्रूज़ ने कीशॉन डेविस पर जीत के साथ चार स्वर्ण पदक अपने नाम किए ।

क्रूज़ ने 2019 में पैन अमेरिकन गेम्स और वर्ल्ड चैंपियनशिप के दोनों फाइनल में अमेरिकी को मात दी थी और उन्होंने टोक्यो में फिर से ऐसा किया था।

26 वर्षीय डेविस ने जो पहले से ही पेशेवर रैंकों में एक संभावित विश्व चैंपियन के रूप में जाने जा रहे थे। वह भी संघर्ष कर रहे थे।

दूसरे राउंड में डेविस ने सभी पांच स्कोरकार्ड्स पर छोड़ दिया और वह एक अंक के साथ आगे निकल सके और अन्य चार के साथ सभी वर्ग में जगह बना सके। लेकिन तीसरे राउंड में क्रूज़ ने तीव्रता दिखाई और क्रिस्पर शॉट्स लैंडिंग के साथ 4-1 का मैच का निर्णय पलट दिया।

इसका मतलब है कि आंद्रे वार्ड (एथेंस 2004) क्यूबा के साथ अमेरिका के पिछले मेंस बॉक्सिंग ओलंपिक चैंपियन गोल्ड के लिए 41 अंक जोड़े।

रिंग में खुशी मनाते एंडी क्रूज़
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

2: केली हैरिंगटन ने केटी टेलर को फॉलो किया

2018 लाइटवेट विश्व चैंपियन केली हैरिंगटन से टोक्यो में स्वर्ण जीतने की काफी उम्मीदें थीं ।

हैरिंगटन फरवरी में स्ट्रैंजा मेमोरियल में सुर्खियों में छा गए जब उन्होंने क्वार्टर फाइनल में एक बहुत ही विवादास्पद फैसले के गलत अंत पर खत्म होने के बाद सोफिया में जजों को अपने विवेक से आश्चर्यचकित कर दिया।

उन्होंने पेरिस में यूरोपीय क्वालिफायर में जीत के साथ अपनी गुणवत्ता साबित की, फाइनल में कैरोलीन डबोइस को हराकर पहली फ्रांसीसी स्टार मावा हमादौशे को हरा दिया ।

सेमीफाइनल में अच्छी शुरुआत करने के बाद 31 वर्षीय बॉक्सर ने 2018 विश्व फाइनल को दोहराने के लिए थाईलैंड के सुडापोर्न सीसोनडी- क्वार्टर फाइनल विजेता डबोइस का सामना किया ।

जैसा कि तीन पहले नई दिल्ली में हुआ था। दोनों मुक्केबाजों के साथ साउथ पॉ की तरह लड़ने और इसी तरह की शैलियों और कौशल का प्रदर्शन किया था।

और ठीक वैसे ही जैसे 2018 में हैरिंगटन को 3-2 विभाजन पर फैसला मिला, उसे विश्व चैंपियन बीटरिद फरेरा के खिलाफ फाइनल में भेज दिया।

उन्हें ब्राजील की बॉक्सिंग में सबसे खास माना जाता था और उसकी आक्रामकता ने उसे खेल में अच्छी तरह से खेलने की प्रेरणा दी।

लेकिन हैरिंगटन ने उसे पहले दो मिनट में खत्म कर दिया और वैसा ही किया जैसी उन्हें जरूरत थी। उन्होंने साउथ पॉ और रूढ़िवादी रुख से फरेरा को उलझन में डाल दिया और सटीकता के साथ अपने प्रतिद्वंद्वी को मात दी।

यह एक सर्वसम्मति से लिया गया निर्णय था। पोर्टलैंड रो में जहां रिंग में हैरिंगटन के आंसू खुशी की वजह से निकल रहे थे। वहां उनके परिवार और दोस्तों ने रविवार सुबह एक बड़े परदे पर उनकी बॉक्सिंग देखी ।

हैरिंगटन ने एक अस्पताल में क्लीनर के रूप में कुछ दिनों तक काम किया है। उन्होंने कुछ समय यह तय करने के लिया कि वह भाी लंदन 2012 लाइटवेट चैंपियन केटी टेलर की तरह समर्थक रैंकों में अपनी जगह बना सकती हैं ।

पेरिस 2024 भी उनके लिए एक विकल्प है, लेकिन जो कुछ भी हैरिंगटन करने के लिए चुनती हैं। वह पहले ही आयरिश ओलंपिक हीरों की श्रेणी में शामिल हो चुकी हैं।

टोक्यो में हैरिंगटन 
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

3: हेबर्ट सओसा ने गोल्ड जीतकर लिए हैरान

अगर टोक्यो 2020 में बॉक्सिंग में निश्चितता जैसी कोई बात थी, तो यह थी कि ओलेक्सेंडर खैझ्नियाक अपने पांच साल के रिकॉर्ड को बनाए रखेंगे और मिडिलवेट में स्वर्ण पदक का दावा करेंगे।

2018 विश्व चैंपियन अगले साल की प्रतियोगिता से चूक गए, लेकिन वह फाइनल में अपने रूसी ग्लेब बख्शी पर जीत के साथ पेरिस में अप्रैल के पुनर्निर्धारित यूरोपीय क्वालीफायर में ओलिंपिक बॉक्सिंग में सर्वश्रेष्ठ मिडिलवेट थे।

यूक्रेनियन की पिछली हार रियो 2016 में लाइट-हैवीवेट में आई थी, यह हार सेमीफाइनल में फिलीपींस के यूमिर मार्सिअल के खिलाफ टूर्नामेंट के मुकाबलों में से एक के माध्यम से मिली थी। स्लगफेस्ट में नौ मिनट के कड़े मुकाबले के संकेत थे, लेकिन आखिरी राउंड में खिज्नियाक ने अच्छा प्रदर्शन किया और 3-2 के साथ विभाजन निर्णय लिया।

गोल्ड मेडल का सपना ताश के पत्तों पर नजर आया, जब खिज्नियाक ने हेबर्ट सोसा के खिलाफ फाइनल में शुरुआती दो राउंड खेले।

ओपनिंग बेल के बाद ब्राजीलियन ने आक्रामकता के साथ जवाब नहीं दिया और राउंड 2 के अंत में एक जोड़े अंक के अलावा कुछ नहीं किया, लेकिन उसने सबको चौंका दिया।

खिज्नियाक ने सभी पांच स्कोरकार्ड पर दो की बढ़त बनाई और स्वर्ण के लिए उंन्हें पकड़ से बचने की जरूरत है, और उन्होंने ऐसा ही किया। सोसा के साथ ट्रेडमार्क फैशन में आगे बढ़ने के लिए सही अपरकट करने की कोशिश करना जारी रखा।

तीसरे राउंड के मिडवे पॉइंट से ठीक पहले उन्होंने खुद को खुला छोड़ दिया और सोसा ने जबड़े पर एक लेफ्ट हुक फ्लश शॉट मारा।

हेबर्ट सूसा ने ऑलेक्ज़ेंडर खिज़्नियाकी को हराया

वह हैरान रह गए जब उन्होंने डेक को मारा और दोबारा उछलकर अपने होश फिर से हासिल करने के लिए अपने समय लिया।  उनके पैर जेली की तरह थे जब वह सहारा लेने के लिए रेफरी पर गिरें। और उसने उन्हें खेल आगे जारी रखने के लिए अयोग्य साबित कर दिया।

यह सोसा के लिए खुशी की बात थी। खिज्नियाक के फिर से मुकाबला करने के  लायक नहीं बचे थे। अगर वह  फिर  से शुरू करना चाहे तो ऐसा नहीं होगा क्योंकि लड़ाई खत्म हो गई थी और 23 वर्षीय ब्राजीलियन ओलंपिक चैंपियन था।

सोसा टोक्यो में जश्न मनाते हुए
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

4: जापान, बुल्गारिया और तुर्की के बुसेनाज सुरमेनेली के लिए इतिहास

टोक्यो में तीन से पांच तक महिलाओं के वजन वर्गों का विस्तार खेल के विकास को दर्शाता है और पहले फेदरवेट ओलंपिक टूर्नामेंट में घर जैसी खुशी थी।

स्थानीय फेवरेट इरी सेना ने अच्छे लाभ के लिए उसकी पहुंच और गति का इस्तेमाल किया क्योंकि उसे टोक्यो में पहला बॉक्सिंग स्वर्ण लेने के लिए फिलीपींस के नेस्ती पेटेसिओ का बेहतर साथ मिला था।

रोमानिया की मारिया नेचिटा और ब्रिटेन की कर्रिस आर्टिंगस्टॉल के खिलाफ 3-2 डिवीजन के फैसले के माध्यम से आने के बाद 20 वर्षीय फाइनल में आने के लिए काफी खुश थी।

पीटसिओ ने दूसरे राउंड में सुधार किया, लेकिन इरी जापान की पहली वूमेंस बॉक्सिंग ओलंपिक चैंपियन बनने के लिए पांचों स्कोरकार्ड्स पर तीसरे स्थान पर रहीं।

टोक्यो में इरी पेटिसियो
फोटो क्रेडिट 2021 Luis Robayo - Pool

बुल्गारिया ने दो बार की विश्व चैम्पियनशिप रजत पदक विजेता स्टोयका क्रास्टेवा की वजह से अपना पहला वूमेंस बॉक्सिंग स्वर्ण पदक भी जीता।

35 साल पुराने साथी साउथ पॉ बूज नाज़ काकिरोगलू के साथ क्रासटेव पकड़ने और तुर्क काउंटर पर पर्याप्त प्रदर्शन नहीं कर सके।

क्रासटेवा 2018 में रिटायर हुई थी। अटलांटा 1996 के बाद अपने देश के लिए पहले बॉक्सिंग स्वर्ण पदक का दावा करने के लिए वापस आई।

तुर्की के लिए निराशाजनक है, लेकिन यह लंबे समय तक नहीं चलेगा क्योंकि बुसेनाज सुरमेनेली ने बॉक्सिंग में अपने देश का पहला स्वर्ण हासिल करने के लिए पहला ओलंपिक वूमेंस वेल्टरवेट खिताब अपने नाम किया था।

फाइनल में हारने के बाद 2019 विश्व चैंपियन गु हांग के साथ अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से दूर थीं और वापसी पर प्रभावी ढंग से काम किया और उनके प्रतिद्वंद्वी ने उन्हें लय में वापस आने नहीं दिया। चीनी ने एक अंक के लिए उन्हें बुरी तरह जकड़ रखा था लेकिन दूसरे राउंड में सुरमेनेली ने स्टैंडिंग 8 काउंट दिया।

यह एक क्लासिक खेल से दूर था, लेकिन जजों ने यह 3-0 सुरमेनली को दिया । एक अंक की कटौती का अंत में असर नहीं हुआ । हालांकि गु ने इस फैसले पर गैर-प्लस्स को देखा, लेकिन 23 वर्षीय ट्राबजोन मुक्केबाजी में इतिहास बनाने में आनंदित थे ।

टोक्यो में जीत के बाद सुरमेनेली
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

5: टीम जीबी के लिए डबल खुशी

गैल यफाई और लॉरेन प्राइस ने ग्रेट ब्रिटेन को टोक्यो 2020 में एक से अधिक बॉक्सिंग स्वर्ण जीतने वाले एकमात्र देशों के रूप में क्यूबा को शामिल किया है।

यफाई मेस फ्लाईवेट वर्ग के माध्यम से आया था, सेमीफाइनल में कजाखिस्तान के साउथ पॉ साकेन बिबोसिनोव के पास आया और शुरू से ही आक्रामक खेल खेला।

बिबोसिनोवा ने शुरुआत के समय में एक स्टैंडिंग 8 काउंट लिया और वह सीधे बाईं ओर चला गया, और यफाई पर दबाव पर डाला और साथ ही कवर किया।

दोनों ने एक क्रैकिंग प्रतियोगिता के अंतिम दौर में एक-दूसरे को कड़ी टक्कर दी, लेकिन यफाई कुछ अच्छे शॉट्स लेने के बावजूद शांत रहे और 3-2 डिवीजन का फैसला हासिल किया ।

स्वर्ण पदक मुकाबले में उनकी मुलाकात कार्लो पायम से हुई जिन्होंने क्वार्टर फाइनल में रियो 2016 चैंपियन शशोबिदीन जोइरोव को हराया था ।

वहां पर वह एक कदम जल्दी से पीछे हुआ था, कदम पर जल्दी था, लेकिन यफाई ने लंबे कदम के साथ उसका अनुसरण किया और सॉलिड राइट के साथ स्कोर किया। फ्लाईवेट में नॉकडाउन कर दिया।

इसके बावजूद रिंगसाइड में पांच जजों ने 10-8 के बजाय केवल 10-9 रन दिए, लेकिन उनमें से चार ने यफाई को दूसरे दौर में पहुंचाकर उसे कमांडिंग पोजिशन में डाल दिया ।

तीन मुक्केबाजी भाइयों में से सबसे कम उम्र, यफाई अब पेड रैंकों के लिए तैयार लग रहा है। बीजिंग 2008 ओलंपियन और विश्व पेशेवर चैंपियन काई और पूर्व यूरोपीय पेशेवर चैंपियन गमाल के पद चिन्हों पर चलने की पूरी कोशिश कर रहा है।

टोक्यो में गोल्ड जीतने पर गलाल याफाई
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

पुराने प्रतिद्वंद्वी नौचका फोंटिजन के खिलाफ एक तगड़े मिडिलवेट सेमीफाइनल में लॉरेन प्राइस ने टोक्यो में अपने विश्व खिताब में ओलंपिक स्वर्ण पदक जोड़ा।

वेल्स के लिए अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल खेलने वाले और किक बॉक्सिंग में विश्व खिताब जीतने वाले प्राइस रियो कांस्य पदक विजेता ली कियान के लिए भी बहुत तेज और सटीक थे।

27 वर्षीय साउथ पॉ चीनी बॉक्सर की लंबी पहुंच के अंदर आने में कामयाब रहे, सही प्रहार और कुछ त्वरित संयोजनों के साथ स्कोरिंग के लिए एक आरामदायक सर्वसम्मति के साथ जीत गए।

ब्रिटेन की छह पदकों की दौड़ लंदन 2012 में उनके पांच से एक अधिक थी, हालांकि उन्होंने अपने घरेलू खेलों में तीन स्वर्ण पदक जीते थे।

लॉरेन प्राइस के चेहरे पर गोल्ड की खुशी
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

यह भी जरूर जानिए

टोक्यो में सुपर हैवीवेट में स्वर्ण जीतने के बाद बखोदिर जालोलोव एक आकर्षक पेशेवर करियर के लिए तैयार हैं।

क्वार्टर फाइनल में कैलिफोर्निया के उज्बेक को रियो 2016 में अंतिम रजत पदक विजेता जो जॉयस ने मात दी और अपने दूसरे खेलों से पहले आठ प्रो बाउट मुकाबले जीते।

2019 विश्व चैंपियनशिप में अपने क्वार्टर फाइनल मुकाबले को दोहराते हुए जो जलोलोव ने स्वर्ण पदक नॉकआउट से जीता। अमेरिका के रिचर्ड टोरेस ऊंचाई पर काबू पाने और नुकसान से बचने के लिए असमर्थ थे।

टोरेस ने वास्तव में तीन स्कोरकार्ड्स पर पहला राउंड जीता, लेकिन स्टैंडिंग आठ काउंट लिया और दूसरे राउंड में एक अंक की कटौती के साथ जालोलोव जीत गया था।

टोक्यो में देश के झंडे के साथ जलोलोव
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

यह मीरा पोटकोनेन के लिए अंतिम खेल था, जिन्होंने अपना दूसरा लाइटवेट में कांस्य पदक जीता ।

40 की उम्र में फिन के लिए और आम तौर पर भी ओलंपिक बॉक्सिंग में प्रतिस्पर्धा के लिए अधिक उम्र है, लेकिन वह पिछले साल से स्थगित कर दी गई जब वह इसके लिए योग्य थी।

रियो में केटी टेलर को हराकर कांस्य पदक जीतने वाली पोटकोनेन ने सेमीफाइनल में बीट्रिज फरेरा को हराया और पोडियम पर अपने करियर का अंत कर दिया।

मैरीकॉम अपने आखिरी ओलंपिक में पोडियम बनाने में असफल रह गईं। और भारतीय स्टार ने अपने टोक्यो खेलों का अजीब तरीके से अंत किया था।

अपनी पुरानी प्रतिद्वंद्वी कोलंबिया की इनग्रिट वालेंसिया से हार कर 38 वर्षीय बॉक्सर ने आखिरी 16 बाउट में अपना फ्लाईवेट खिताब खो दिया। लेकिन उन्हें अहसास नहीं था कि वह हार से कुछ घंटे पहले सोशल मीडिया पर पोस्ट चेक कर रही थीं। अब वह हार गई हैं।

लेकिन वह अभी भी लड़ने का इरादा रखती हैं। और विश्व चैंपियनशिप में एक बार फिर मुकाबला करते हुए नजर आ सकती हैं। जहां वह अपने पसंदीदा लाइट-फ्लाईवेट में जीत सकती है।

टोक्यो में मैरीकॉम
फोटो क्रेडिट 2021 Luis Robayo - Pool

अल्बर्ट बटरगर्जिव ने टोक्यो में ROC का एकमात्र बॉक्सिंग स्वर्ण जीता और उन्होंने मेंस फेदरववेट फाइनल में ड्यूक राग से बेहतर मुकाबला किया।

23 साल के दोनों बॉक्सर पेशेवर अनुभव के लिए जापान पहुंचे और बटिर्गाजीव ने सेमीफाइनल में 3-2 विभाजन के फैसले के साथ 2019 विश्व चैंपियनशिप में क्यूबा के लाजारो अल्वारेज से अपनी हार का बदला ले लिया।

दागेस्तान के पूर्व किक बॉक्सर ने इतिहास रच दिया था, वह बॉक्सिंग में ओलंपिक स्वर्ण जीतने वाले पहले पेशेवर बन गए।

उनका मानना है कि वहां ओलंपिक और प्रो बॉक्सिंग के बीच थोड़ा अंतर है, "मुझे लगता है कि किसी भी एथलीट के लिए यहां आने का मतलब एक पेशेवर या एक के पास पेशेवर अनुभव है । यहां इन खेलों में कोई भी एथलीट खुद को एक पेशेवर की तरह बन सकते हैं।

विशेष रूप से पहले दो दौर में राग अपने प्रतिद्वंद्वी की तेज गति का सामना करने असमर्थ थे और एक पेशेवर के रूप में एक लंबी दूरी तय करने पर फिर से मिलने का भाव होगा।

उन्होंने कहा, "अगर ऐसा होता तो, मैं वास्तव में बदला लेने के लिए तैयार हूं । मुझे पूरा यकीन है कि हर कोई ओलंपिक देखेगा और फिर से बड़े स्तर पर देखना चाहेगा।"

टोक्यो में बतिरगाज़ीव रागन
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

हैलो पेरिस 2024

सिर् तीन साल के बाद हम पेरिस में एक बार फिर क्यूबा चैंपियंस को देख सकते हैं। वहां जूलियो सीजर ला क्रूज़ को तीसरा गोल्ड जीतने का मौका मिल सकता है।

पेशेवर रैंकों के लिए कई पदक विजेताओं को कोई शक नहीं है, लेकिन भारत की लोवलिना बोरगोहेन वूमेंस वेल्टरवेट डिवीजन में कांस्य जीतने के बाद स्वर्ण पदक के लिए आगे जा सकती थी।

रियो 2016 में दो स्वर्ण सहित छह पदकों के बाद फ्रांस फ्लाईवेट पदक की उम्मीद बिलल बेनामा और रियो लाइटवेट में रजत पदक विजेता सोफियान आउमिशा के साथ आश्चर्यजनक हार के बाद वह टोक्यो में पोडियम पर जगह बनाने में नाकाम रहें, जिसे कीशॉन डेविस से हार के बाद रोक दिया था।

वे 23 वर्षीय बेनामा के साथ घरेलू धरती पर बेहतर होने की उम्मीद कर रहे होंगे-जिन्होंने यूरोपीय क्वालीफायर जीता और अंतिम कांस्य पदक विजेता साकेन बिबबोसिनोव को अपनी हार के बाद जजों से व्यथित महसूस किया। L'Equipe बता रही है है कि तुम उसके बारे में सोचो जो पेरिस में होगा।

टोक्यो 2020 में 69 किग्रा के सेमीफाइनल में पहुंचने के बाद अपने कोचिंग स्टाफ के साथ लवलीना बोर्गोहेन।

जानिए Olympics.com पर कब और कहां पर बॉक्सिंग रिप्ले देखें।

हमने सब कवर किया है। right here सब कुछ देख सकते हैं।

जानिए शीर्ष मुक्केबाज कब करेंगे अगला मुकाबला ?

AIBA मेंस वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप 26 अक्टूबर से 6 नवंबर तक बेलग्रेड में आयोजित की जाएगी।,

AIBA वूमेंस वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप की अक्टूबर में पुष्टि की जाएगी। क्योंकि अभी स्थल और मैच की तारीखें निर्धारित की जा रही हैं।

AIBA ने अपनी वर्ल्ड चैंपियनशिप में मेंस के वजन वर्गों की संख्या 10 से बढ़ाकर 13 और महिलाओं के वजन वर्गों की संख्या 10 से बढ़ाकर 12 कर दी है।

टोक्यो में रिंग के अंदर बेन्नामा
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

2021 में टोक्यो 2020 में बॉक्सिंग की पूरी पदक लिस्ट

वूमेंस फ्लाईवेट (51kg)

स्वर्ण - स्टोयका क्रस्टेवा (BUL)

रजत - बस नाज़ काकिरोग्लू (TUR)

कांस्य - नमिकी त्सुकिमी (JPN), हुआंग सियाओ-वेना (TPE)

वूमेंस फेदरवेट (57kg)

स्वर्ण - इरी सेना (JPN)

रजत - नेस्टी पेटेसियो (PHI)

कांस्य - करिस आर्टिंगस्टॉल (GBR), इरमा टेस्टा (ITA)

वूमेंस लाइटवेट (60kg)

स्वर्ण - केली हैरिंगटन (IRL)

रजत - बीट्रिज़ फेरेरा (BRA)

कांस्य - सुडापोर्न सीसोन्डी (THA), मीरा पोटकोनेन (FIN)

वूमेंस वेल्टरवेट (69kg)

स्वर्ण - बुसेनज़ सुरमेनेलीक (TUR)

रजत - गु होंग (CHN)

कांस्य - लवलीना बोर्गोहिन (IND), ओशे जोन्स (USA)

वूमेंस मिडिलवेट (75kg)

स्वर्ण - लॉरेन प्राइस (GBR)

रजत - ली कियान (CHN)

कांस्य - नौचका फोंटिजन (NED), ज़ेनफिरा मैगोमेडालीवा (ROC)

टोक्यो में गोल्ड के साथ क्रस्टेवा
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

मेंस फ्लाईवेट (52kg)

स्वर्ण - गलाल याफाई (GBR)

रजत - कार्लो पालामी (PHI)

कांस्य - साकेन बिबोसिनोव (KAZ), तनाका रयोमी (JPN)

मेंस फेदरवेट (57kg)

स्वर्ण - अल्बर्ट बतिरगाज़िएव (ROC)

रजत - ड्यूक रागानो (USA)

कांस्य - लाज़ारो अल्वारेज़ (CUB), सैमुअल टाकी (GHA)

मेंस लाइटवेट (63kg)

स्वर्ण - एंडी क्रूज़ (CUB)

रजत - कीशॉन डेविस (USA)

कांस्य - हैरी गारसाइड (AUS), होवनेस बाचकोव (ARM)

मेंस वेल्टरवेट (69kg)

स्वर्ण - रोनिएल इग्लेसियस (CUB)

रजत - पैट मैककॉर्मैक (GBR)

कांस्य - आंद्रेई ज़मकोवॉय (ROC), एडन वॉल्शो (IRL)

मेंस मिडिल वेट (75kg)

स्वर्ण - हेबर्ट सूसा (BRA)

रजत - ऑलेक्ज़ेंडर खिज़्नियाकी (UKR)

कांस्य - ग्लीब बख्शी (ROC), यूमिर मार्शल (PHI)

मेंस लाइट- हैवीवेट (81kg)

स्वर्ण - अर्लेन लोपेज़ (CUB)

रजत - बेन व्हिटेकर (GBR)

कांस्य - लोरेन अल्फोंसो (AZE), इमाम खताएव (ROC)

मेंस हैवीवेट (91kg)

स्वर्ण - जूलियो सीजर ला क्रूज़ (CUB)

रजत - मुस्लिम गडज़िमागोमेदोव (ROC)

कांस्य - अब्नेर टेक्सीरा (BRA), डेविड न्याका (NZL)

मेंस सुपर- हैवीवेट (+91kg)

स्वर्ण - बखोदिर जलोलोवी (UZB)

रजत - रिचर्ड टोरेस जूनियर (USA)

कांस्य- फ्रेज़र क्लार्क (GBR), कामशीबेक कुंकाबायेव (KAZ)

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स