2021-22 महिला FIH हॉकी प्रो लीग: भारतीय महिला टीम को बेल्जियम के खिलाफ 0-5 से मिली हार

भारत का अगला मुकाबला अब अर्जेंटीना के खिलाफ डबल हेडर में 18 और 19 जून को होगा। अर्जेंटीना की टीम पहले ही इस टूर्नामेंट की चैंपियन बन चुकी है।

लेखक रौशन प्रकाश वर्मा
फोटो क्रेडिट Hockey India

भारतीय महिला हॉकी टीम को FIH महिला हॉकी प्रो लीग के यूरोपीय लेग में मेजबान बेल्जियम के खिलाफ डबल हेडर के दूसरे मुकाबले में भी हार का सामना करना पड़ा। रविवार को बेल्जियम के स्पोर्टसेंट्रम विल्रिजक्स प्लेन स्टेडियम में भारतीय महिला हॉकी टीम को 0-5 से शिकस्त झेलनी पड़ी।

मैच में भारतीय टीम की ओर से एक भी गोल नहीं किया जा सका। वहीं, बेल्जियम की ओर से बार्बरा नेलेन, एंग्लेबर्ट शार्लोट, अबी रे, स्टेफनी बोरे, आंब्रे बैलेनगेन ने एक-एक गोल किया।

पहले क्वार्टर में एक बार फिर बेल्जियम ने तेज शुरुआत करते हुए गेंद पर अपना नियंत्रण बनाए रखा। इसका परिणाम बेल्जियम की टीम को दूसरे ही मिनट में देखने को मिला जब बेल्जियन कप्तान बार्बरा नेलेन ने भारतीय कप्तान और गोलकीपर

सविता पूनिया को चकमा देते हुए एक गोल दागा। दरअसल, भारतीय टीम ने मैदान के दाहिने छोर को खुला छोड़ दिया। इसका फायदा बेल्जियम ने उठाया और एक बेहतरीन पास के माध्यम से नेलेन ने गोल कर दिया।

बेल्जियम की टीम यहीं नहीं रुकी और भारत पर लगातार दबाव बनाए रखा। चौथे मिनट में एक बार फिर से भारतीय महिला टीम ने दायीं तरफ से गैप छोड़ा जिसके कारण बेल्जियम ने दूसरा गोल कर स्कोर को 0-2 कर दिया। बेल्जियम की ओर से दूसरा गोल एंग्लेबर्ट शार्लोट ने किया।

मैच के सातवें मिनट में बेल्जियम की टीम ने एक और प्रयास को गोल में तब्दील कर दिया। हालांकि, भारत की अपील पर आंब्रे बैलेनगेन के इस गोल को अमान्य करार दिया गया क्योंकि गोल तक पहुंचने से पहले गेंद एक बेल्जियन खिलाड़ी के पैर से टकरा गई थी।

10वें मिनट में भारत की ओर से वंदना कटारिया ने गोल का प्रयास किया लेकिन गेंद काफी ऊंची चली गई और भारतीय टीम पहले क्वार्टर के खत्म होने तक 0-2 से पीछे थी।

दूसरे क्वार्टर में भी भारतीय टीम पर बेल्जियम के खिलाड़ी हावी रहे और 15 मिनट में दो गोल दागते हुए मैच में भारत की पकड़ को कमजोर बना दिया।

दूसरे क्वार्टर के 19वें मिनट में बिचू देवी ने दो रिबाउंड सहित तीन बार बेल्जियम के शॉट को गोल तक पहुंचने से बचाया। लेकिन, अंततः चौथी बार में गेंद भारतीय गोलपोस्ट के अंदर चली गई और अबी रे ने एक और गोल कर स्कोर को 0-3 कर दिया। इसके चार मिनट बाद 23वें मिनट में स्टेफनी बोरे वेन्डेन ने पेनल्टी कॉर्नर के मौके को गोल में तब्दील कर स्कोर को 0-4 कर दिया।

तीसरे क्वार्टर में लालरेम्सियामी और मोनिका की बदौलत भारत ने बेहतरीन शुरुआत की। उन्होंने फील्ड के दाहिने हिस्से से बेल्जियन घेरे को तोड़ा। हालांकि, गोल पोस्ट तक पहुंचने से पहले ही बेल्जियन डिफेंस ने उन्हें रोक लिया।

मैच के 36वें मिनट में बेल्जियम की बैलेनगे ने दाहिने किनारे से एक अच्छा क्रॉस करते हुए बड़ी आसानी से एक और गोल दागा। भारत के लिए मुकाबला कठिन होता जा रहा था। इस बीच भारत की एक और उम्मीद पर पानी फिर गया, जब 38वें मिनट में नवनीत के द्वारा किए गए गोल को रेफरी ने अमान्य करार दिया।

भारत को एक फ्री हिट मिला थी जिसके माध्यम से नवनीत ने गोल दागा, लेकिन जब नवनीत ने गोल किया शर्मीला देवी रूकीं नहीं थी। भारत को इस मामूली सी गलती का खामियाजा भुगतना पड़ा और गोल को बेल्जियम की अपील पर अमान्य करार दिया गया।

44वें मिनट में भारत ने फिर से एक शानदार मूव दिखाया। भारतीय टीम दायीं ओर से बेल्जियन घेरे में घुसती है लेकिन मोनिका का नियंत्रण गेंद पर से छूट जाता है और एक बार फिर भारतीय टीम गोल से चूक जाती है। तीसरे क्वार्टर में भारतीय महिलाओं ने पहले दो क्वार्टर से अच्छा प्रदर्शन किया। हालांकि, टीम मौके को भुना पाने में नाकाम रही।

0-5 के बड़े अंतर को डिफेंड करती हुई भारतीय टीम ने चौथे क्वार्टर में इस अंतर को कम करने का प्रयास किया लेकिन बेल्जियम ने उन्हें कोई मौका नहीं दिया। मैच के आखिरी मिनटों में भारत ने काफी जोश दिखाया लेकिन ये मैच जीतने के लिए नाकाफी था।

इस तरह भारतीय महिला टीम को महिला FIH हॉकी प्रो लीग के यूरोपीय लेग में बेल्जियम के खिलाफ डबल हेडर के दूसरे मुकाबले में 0-5 से हार का सामना करना पड़ा। इससे पहले शनिवार को डबल हेडर के पहले मुकाबले में भारत को बेल्जियम के खिलाफ 1-2 से शिकस्त झेलनी पड़ी थी।

भारतीय महिला टीम का अगला मुकाबला अर्जेंटीना के खिलाफ 18 और 19 जून को होगा। बता दें कि,अर्जेंटीना फिलहाल 38 अंक के साथ अंक तालिका में शीर्ष पर है और चैंपियनशिप की विजेता भी हो गई है।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स