नरिंदर बत्रा ने भारतीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा

मौजूदा प्रमुख ने कहा कि वह अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ (FIH) के अध्यक्ष के रूप में अपनी भूमिका पर अधिक ध्यान देना चाहते हैं।

लेखक रितेश जायसवाल
फोटो क्रेडिट Getty Images

नरिंदर बत्रा ने अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ (FIH) के प्रमुख के रूप में अपनी भूमिका पर अधिक ध्यान केंद्रित करने के लिए अपने कार्यकाल के अंत से पहले ही भारतीय ओलंपिक संघ (IOA) के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

65 वर्षीय बत्रा ने 2017 में पहली बार आईओए की कमान संभाली थी और वह इस बार फिर से इसके लिए चुने जाने के योग्य थे।

बत्रा ने बुधवार को कहा, "ऐसे समय में जब विश्व हॉकी एक बेहद जरूरी विकास के दौर से गुजर रही है। ऐसे में हॉकी5s के प्रचार के साथ, इस साल एक नई प्रतियोगिता का निर्माण किया गया है। एफआईएच हॉकी नेशंस कप और प्रशंसकों को आकर्षित करने वाले प्लेटफार्मों और गतिविधियों की शुरुआत में मेरी भूमिका FIH के अध्यक्ष के रूप में अधिक आवश्यक है।"

नरिंदर बत्रा ने आगे कहा, "इसी वजह से मैंने IOA के अध्यक्ष के रूप में आगे के कार्यकाल को छोड़ने का फैसला किया है।"

IOA अध्यक्ष होने के अलावा, बत्रा को 2019 में एक सदस्य के रूप में अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (IOC) में शामिल किया गया था और बाद में वह ओलंपिक चैनल आयोग के सदस्य बन गए थे।

बत्रा के कार्यकाल के दौरान, भारत ने टोक्यो 2020 में अपने सबसे सफल ओलंपिक अभियान को पूरा किया और भाला फेंक स्पर्धा में नीरज चोपड़ा के स्वर्ण सहित सात पदकों के साथ वापसी की।

नरिंदर बत्रा ने आगे कहा, "मुझे लगता है कि समय आ गया है कि मैं इस भूमिका को किसी ऐसे व्यक्ति पर छोड़ दूं जो भारतीय खेलों को और अधिक ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए नए विचारों और नई सोच के साथ आए। इसके साथ ही भारत में 2036 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेलों को कराने के लिए भी तैयारी कर सके।"

IOA के चुनाव पिछले साल दिसंबर में होने वाले थे लेकिन चुनाव प्रक्रिया में चल रहे संशोधनों की वजह से यह तय समय पर नहीं हो सके थे।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स