राष्ट्रीय मुक्केबाजी चैंपियनशिप: शिव थापा और गौरव बिधूड़ी अपने मुक्के का दिखाएंगे दम

अमित पंघाल, मनीष कौशिक और टोक्यो से लौटे अन्य मुक्केबाजों ने राष्ट्रीय चैंपियनशिप से नाम वापस लेने का फैसला किया, स्वर्ण पदक विजेताओं को विश्व चैंपियनशिप का स्लॉट मिलेगा।

लेखक प्रभात दुबे
फोटो क्रेडिट BFI

कर्नाटक के बेल्लारी में इंस्पायर इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स में बुधवार से शुरू होने वाली पुरुषों की राष्ट्रीय मुक्केबाजी चैंपियनशिप 2021 में भारत भर के लगभग 400 मुक्केबाज हिस्सा लेंगे।

इस बार राष्ट्रीय चैंपियनशिप के स्वर्ण पदक विजेता 26 अक्टूबर से सर्बिया के बेलग्रेड में होने वाली विश्व चैंपियनशिप में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे।

2019 के विश्व रजत पदक विजेता अमित पंघाल (Amit Panghal) और कांस्य पदक विजेता मनीष कौशिक (Manish Kaushik), साथ ही टोक्यो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले तीन अन्य पुरुष मुक्केबाजों ने इस आयोजन को छोड़ने का फैसला किया है। जबकि पंघाल और कौशिक ने अभ्यास की कमी को नाम वापसी का कारण बताया है।

टोक्यो से लौटे अन्य तीन मुक्केबाज विकास कृष्ण (Vikas Krishan), सतीश कुमार (Satish Kumar) और आशीष कुमार (Ashish Kumar) घायल हैं। विकास कंधे की सर्जरी से उबर रहे हैं जबकि आशीष कलाई की चोट से जूझ रहे हैं।

सतीश कुमार के ओलंपिक के दौरान दाहिनी आंख में चोट लग गई थी, जिसके बाद से संक्रमण ज्यादा हो गया। और उन्हें नाम वापस लेना पड़ा।

गत चैम्पियन और पांच बार के एशियाई पदक विजेता शिव थापा (Shiva Thapa), 2017 के विश्व कांस्य पदक विजेता गौरव बिधूड़ी (Gaurav Bidhuri) और राष्ट्रमंडल खेलों के पदक विजेता मोहम्मद हुसामुद्दीन (Mohammad Hussamuddin) इस प्रतियोगिता में राष्ट्रीय स्तर के मुक्केबाज होंगे।

असम का प्रतिनिधित्व करने वाले शिव थापा 63.5 किग्रा वर्ग में प्रतिस्पर्धा करेंगे, जबकि गौरव बिधूड़ी 57 किग्रा वर्ग में रेलवे के लिए रिंग में उतरेंगे।

दो बार के ओलंपियन शिव थापा आखिरी बार मई में दुबई में एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप में खेले थे। और उन्होंने रजत हासिल किया था।A

बॉक्सिंग चैंपियनशिप के रजत पदक विजेताओं को राष्ट्रीय शिविर में जगह मिलेगी, जो 21 सितंबर को समाप्त होने के ठीक बाद आयोजित किया जाएगा।

इस बीच, कांस्य पदक विजेताओं को शिविर में एक स्थान के लिए चयन ट्रायल में भाग लेना होगा।

भारतीय राष्ट्रीय मुक्केबाजी चैंपियनशिप, अब अपने पांचवें वर्ष में, 10 के बजाय 13 भार वर्गों में आयोजित की जाएगी। जिसे अंतर्राष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ (एआईबीए) द्वारा नई भार श्रेणियों की शुरुआत के बाद किया जाएगा।

पुरुषों के लिए नए वजन वर्ग 48 किग्रा, 51 किग्रा, 54 किग्रा, 57 किग्रा, 60 किग्रा, 63.5 किग्रा, 67 किग्रा, 71 किग्रा, 75 किग्रा, 80 किग्रा, 86 किग्रा, 92 किग्रा और +92 किग्रा हैं।

दूसरा बड़ा बदलाव इवेंट में हेड गार्ड्स की वापसी है।

बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीएफआई) द्वारा आयोजित, पिछले साल COVID-19 महामारी के कारण राष्ट्रीय आयोजन नहीं किए गए थे।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स