पुरुष एशिया कप हॉकी: भारत और साउथ कोरिया के बीच मुकाबला हुआ ड्रॉ, फाइनल में जगह बनाने से चूकी भारतीय टीम 

भारत और साउथ कोरिया के बीच खेला गया मुकाबला 4-4 से ड्रॉ रहा। वहीं भारत अब कांस्य पदक के लिए जापान से भिड़ेगा। 

लेखक रौशन प्रकाश वर्मा
फोटो क्रेडिट Hockey India

इंडोनेशिया के जकार्ता में चल रहे पुरुष एशिया कप हॉकी 2022 में सुपर फोर मैच में भारत और साउथ कोरिया के बीच मुकाबला 4-4 से ड्रॉ रहा, जिसके कारण भारत फाइनल में जगह बनाने में असफल रहा। वहीं, भारतीय टीम अब बुधवार को कांस्य पदक के लिए जापान से भिड़ेगा।

भारत की ओर से नीलम संजीप (9वें मिनट), मनिंदर सिंह (21वें मिनट), शेशे गौड़ा (22वें मिनट) और मारीश्वरन शक्तिवेल (37वें मिनट) ने एक-एक गोल किया। वहीं, साउथ कोरिया की तरफ से जांग जॉन्गह्यून, जी वू चियॉन, किम जूंगहू और जूंग मानजे ने एक-एक गोल किया।

मलेशिया के खिलाफ 3-3 ड्रॉ खेलने के बाद स्वर्ण पदक मुकाबले में जगह बनाने के लिए भारत को एक जीत की दरकार थी।ं

भारतीय टीम ने ‘करो या मरो’ के इस मुकाबले में अच्छी शुरुआत की। भारतीय फॉरवर्ड ने कोरियाई टीम पर दबाव बनाए रखा और लगातार प्रतिद्वंदी टीम के घेरे को भेदने में कामयाब रहे।

भारतीय टीम ने मुकाबले के 9वें मिनट में पहला गोल किया, जब नीलम संजीप ने पेनल्टी कॉर्नर के मौके को गोल में तब्दील करते हुए टीम को 1-0 से बढ़त दिलाई। हालांकि इससे पहले संजीप एक पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील करने में असफल रहे थे।

भारत इस बढ़त को ज्यादा देर तक बरकरार नहीं रख सका। साउथ कोरिया की तरफ से ड्रैग फ्लिक करने में माहिर जांग जॉन्गह्यून ने 13वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील कर स्कोर को 1-1 से बराबर कर दिया।

दूसरे क्वार्टर के 18वें मिनट में कोरिया की तरफ से जी वू चियॉन ने एक और गोल करते हुए अपनी टीम को 1-2 से आगे कर दिया।ा

लेकिन भारतीय टीम ने मुकाबले में जल्द ही वापसी करते हुए लगातार दो गोल कर कोरियाई टीम को दबाव में ला दिया। 21वें मिनट में रमनिंदर सिंह ने एक पेनल्टी कॉर्नर को गोलपोस्ट तक पहुंचा कर स्कोर 2-2 से बराबर किया। इसके ठीक बाद शेशे गौड़ा ने 22वें मिनट में एक शानदार फील्ड गोल किया और मैच में टीम को 3-2 की बढ़त दिला दी।

हालांकि, 28वें मिनट में एक बार फिर से भारतीय टीम ने अपनी बढ़त गंवा दी। जब किम जूंगहू (28वें मिनट) ने गोल करते हुए स्कोरलाइन को एक बार फिर बराबर कर दिया। इस तरह हाफ टाइम तक दोनों टीमें 3-3 की बराबरी पर थीं।

भारत की ओर से मारीश्वरन शक्तिवेल (37वें मिनट) ने एक और गोल दागा और टीम इंडिया को 4-3 से आगे कर दिया। कोरियाई घेरे के अंदर मारीश्वरन को एक शानदार पास मिला और इस युवा खिलाड़ी ने मौके का फायदा उठाते हुए एक शानदार फील्ड गोल किया।

वहीं, साउथ कोरिया के जुंग मानजे (44वें मिनट) ने एक गोल करते हुए एक बार फिर से स्कोर को 4-4 से बराबर कर दिया।

चौथे और अंतिम क्वार्टर में दोनों टीमें गोल की तलाश में काफी संघर्ष करती हुईं दिखीं लेकिन अंतिम समय तक कोई भी टीम गोल नहीं कर सकी।

मैच के आखिरी मिनट में भारत ने दो बार वीडियो रेफरल का इस्तेमाल किया लेकिन ये भी उन्हें जीत दिलाने के लिए नाकाफी था और भारतीय टीम का स्वर्ण पदक मुकाबला खेलने का सपना अधूरा रहा गया। इस तरह भारत-साउथ कोरिया के बीच मुकाबला 4-4 से ड्रॉ रहा।

भारत अब बुधवार को अपना कांस्य पदक मुकाबला जापान के साथ खेलेगा।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स