टैक्लोविनी गैब्रियेसस को जानें: शरणार्थी ओलंपिक टीम बनाने के लिए पूरी तरह से कोशिश करते मैराथन मैन

मार्च 2021 में गेब्रियेसस टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई मानको को पूरा करनेवाले पहले शरणार्थी एथलीट बने, अब वह यह साबित करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं कि सब कुछ संभव है
लेखक प्रभात दुबे

टैक्लोविनी गेब्रियेसस केवल 12 साल की उम्र में इरिट्रिया से भाग गए थे लेकिन हर कदम पर दौड़ने और एथलेटिक्स का प्यार उनके साथ रहा है।

होनहार मैराथन धावक के रूप में उभरना, बड़ी दूरी पार करना गैब्रियस के लिए कोई नई बात नहीं है, उनकी असाधारण यात्रा ने उन्हें अपने मूल इरिट्रिया के माध्यम से सूडान और मिस्र के उत्तर में ले लिया है जहां उन्होंने इज़राइल पहुंचने के लिए पैदल रेगिस्तान को पार किया, अब वह इजरायल की राजधानी तेल अवीव में रहते है और प्रशिक्षण लेते है, जहां वह फिलहाल आईओसी शरणार्थी एथलीट छात्रवृत्ति द्वारा समर्थित एमेक हेफर क्लब के साथ है, 23 साल की उम्र में वह सबसे रोमांचक प्रतिभाओं में से एक है जो इस गर्मी में टोक्यो 2020 ओलंपिक की यात्रा करने वाली शरणार्थी टीम में जगह बनाने की होड़ में है।

मध्यम और लंबी दूरी के धावक गैब्रियस ने 2020 और 2021 में 3000 मीटर, 5000 मीटर, 10,000 मीटर, और हाफ मैराथन में भाग लिया है, जिससे उनकी प्रतिबद्धता और कड़ी मेहनत के माध्यम से लंबी दूरी तक लगातार प्रगति हुई है।

एक शरणार्थी एथलीट के रूप में शुरू से ही बाधाएं बहुत अच्छी रही हैं, लेकिन शारीरिक सहनशक्ति, मानसिक शक्ति और सकारात्मक दृष्टिकोण इस उल्लेखनीय एथलीट को परिभाषित करते हैं।

गैब्रियेसस टोक्यो 2020 के लिए आईओसी रिफ्यूजी ओलंपिक टीम का हिस्सा बनने के विवाद में 37 शरणार्थी एथलीट छात्रवृत्ति-धारकों में से एक है, जिसकी घोषणा जून 2021 में की जाएगी।

दोहा 2019 एथलेटिक्स विश्व चैंपियनशिप में रिफ्यूजी टीम के लिए प्रतिस्पर्धा करने के लिए छह एथलीटों में से एक के रूप में चुने गए, गैब्रियस को वहां पहुंचने से पहले ही एक बड़ा झटका लगा।

एक समय था जब इस्तांबुल में एक रूटीन ट्रांजिट स्टॉपओवर पर उनके सामने वीजा की समस्या पैदा हो गई,  और उन्हें 27 घंटे के लिए तुर्की हवाई अड्डे पर रहने के लिए मजबूर किया गया। दुनिया का बेहतरीन खिलाड़ी बनने के रूप में यह दौड़ प्रतिस्पर्धा करने की उनकी संभावनाओं के लिए एक विनाशकारी झटका था।

जुलाई 2019 में गेब्रियेसस ने 5000 मीटर में 14:15.05 का एक नया व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड सेट किया था, लेकिन दोहा की गर्मी में केवल 14: 28.11 पर ही संतोष करना पड़ा ।

 फिर भी, साधारण फैशन की बात करें , तो वे हमेशा सकारात्मक ही रहे, उन्होने विश्व एथलेटिक्स को बताया कि "प्रतियोगिता कठिन थी, लेकिन मैं अगली बार मजबूत हो जाऊंगा, मुझे पता है कि मैं शीर्ष स्तर पर नहीं हूं, लेकिन अब मुझे पता है कि शीर्ष स्तर के साथ और उसके खिलाफ प्रतिस्पर्धा कैसे करना है।"

फिर अक्टूबर 2020 में वह पोलैंड के गिडेनिया में हाफ-मैराथन विश्व चैंपियनशिप में फिर से रिफ्यूजी टीम का प्रतिनिधित्व करने के लिए तैयार थे, लेकिन एक बार फिर वीजा का मुद्दा सामने आ गया और वह यात्रा करने में सक्षम नहीं थे।

एक शरणार्थी एथलीट के लिए, ट्रैक की बाधाएं ट्रैक पर विरोधियों की चुनौती से अधिक हो सकती हैं, कभी-कभी सिर्फ मिलने या प्रतिस्पर्धा करने की अनुमति देना अपने आप में जीत है।

"हार मानना मेरे लिए नहीं है - तचलोविनी गेब्रियेसो

इन सभी असफलताओं का सामना करने और अपने सफर में कठिन प्रशिक्षण जारी रखने की क्षमता गैब्रिएसोस को आज का दुर्जेय एथलीट बनाती है, पोलैंड में मिली निराशा के दो महीने बाद उन्होने अपनी जिंदगी का बेस्ट हाफ मैराथन 1:02:21 दिया, और तीन महीने बाद उन्होंने 14 मार्च 2021 को इज़राइल के हुला लेक पार्क में 2:10:55 मैराथन दौड़ लगाई और ओलंपिक क्वालीफाइंग मानक के तहत जाने वाले पहले शरणार्थी एथलीट बन गए।

अभी तक की यह केवल उनकी दूसरी आधिकारिक मैराथन थी।

वीज़ा की परेशानी और साथ ही कई मुद्दों और वैश्विक महामारी के सभी दिक्कतों और प्रतिबंधों के माध्यम से पूरी तरह से अप्रत्याशित डेढ़ साल में जो कुछ भी हुआ, उसके साथ, किसी तरह टैक्लोविनी गेब्रियस ने भी तेजी से आगे बढ़ने का एक रास्ता खोज लिया है।

मई 2021 को उन्होने विश्व एथलेटिक्स को बताया कि मैं पिछले साल की तुलना में बेहतर स्थिति में हूं "लेकिन शारीरिक और मानसिक रूप से महामारी प्रतिबंधों के साथ ट्रेनिंग करना काफी कठिन था।"

टोक्यो में मिले मौके ने उन्हे अपना लक्ष्य हासिल करने का बेहतर मौका दिया है

उन्होने बताया कि "ओलंपिक मेरे लिए एक पेशेवर एथलीट के रूप में मेरा सपना है और रिफ्यूजी ओलंपिक टीम का हिस्सा बनना एक बड़ा सम्मान होगा,"

"मैं दूसरों को दिखाना चाहता हूं कि सब कुछ संभव है बस उन्हें हार नहीं माननी चाहिए।"