ओलिंपिक मशाल रीले के बारे में कुछ अहम् वक्तव्य: पहला भाग

Torch_Relay_GettyImages-144053283_1584031747909.jpg

अगर कोई एक ऐसी प्रतिस्पर्धा है जो ओलिंपिक खेलों का सच्चा प्रतीक कहलाई जा सके, वह है ओलिंपिक मशाल रीले। इस दो भाग की श्रृंखला में मिलिए उन लोगों से जो इस मशाल रीले में भाग लेंगे और इसको सफल बनाने में अहम् भूमिका निभाएंगे। पहले भाग में मिलिए मनिवा की एक गुब्बारा कलाकार और सेनबोकु शहर की एक रिक्शा चालक से और जानिये इनकी कहानी। 

KIKUCHI Rika, रिक्शा चालक और मशालधारक 

अकिता प्रीफेक्चर में स्थित सेनबोकु शहर की निवासी KIKUCHI Rika पेशे से तो एक रिक्शा चालक हैं लेकिन उन्हें स्केटबोर्डिंग से बेहद लगाव है। एक मशालधारक होने की ज़िम्मेदारी उन्हें अच्छे से पता है और वह इस क्षण की बहुत समय से प्रतीक्षा कर रही हैं।

"मैं अपने दिल में कृतज्ञता की भावना लेकर मशाल रीले में दौडूंगी और उन सब लोगों को धन्यवाद दूंगी जिन्होंने मेरा साथ दिया। मैं आशा करती हूँ की स्केटबोर्डिंग, अकिता प्रीफेक्चर और काकूनोदाते की सुंदरता को मैं लोकप्रिय कर पाऊं।"

NAKATANI Shinya, संगीत अध्यापक और मशालधारक 

नान्तो शहर में स्थित आईनोकूरा गासहोज़ूकूरी गाँव के रहने वाले NAKATANI Shinya संगीत अध्यापक होने के साथ जापानी सभ्यता को आगे बढ़ाने का भी कार्य करते हैं। उनका सपना है कि वह मिन्यो लोक गीतों को मशाल रीले की सहायता से पूरे विश्व में लोकप्रिय कर पाएं।

"मशाल रीले का महत्त्व समझते हुए मैं अपने ह्रदय में यह आशा ले कर दौडूंगा की साल 2021 में होने वाले टोक्यो 2020 ओलिंपिक खेल पूरे विश्व के लिए एक भव्य महोत्सव के रूप में उभर के आये।"

KIMURA Go, टोक्यो मेट्रोपोलिटन पुलिस अफसर और मशाल रीले सिक्योरिटी धावक 

मशाल रीले के भव्य आयोजन और प्रबंध के पीछे हज़ारों ऐसे लोग कार्य कर रहे हैं जो इस प्रतिस्पर्धा को सफल बनाने के लिए महीनों से प्रयास कर रहे हैं। टोक्यो मेट्रोपोलिटन पुलिस वर्ग के अफसर KIMURA Go उन लोगों में से हैं जो मशालधारकों की रक्षा के लिए उनके साथ दौड़ेंगे।

"मशाल ओलिंपिक खेलों का प्रतीक है और इसकी रक्षा करना एक ज़रूरी कार्य था। इसी बात को ध्यान में रखते हुए मैंने इस कार्य में भाग लेने का निर्णय लिया।"

NOMURA Masako, गुब्बारा कलाकार और मशालधारक 

पूरे विश्व में गुब्बारे उल्लास, हर्ष और महोत्स्व का प्रतीक माने जाते हैं और पिछले दो दशकों से मनिवा निवासी Nomura Masako ने इनको अपनी कला का पात्र बनाया है और उन्हें अपने कौशल के लिए कई राष्ट्रिय स्तर के पुरस्कार भी मिले हैं। मशाल रीले उनके लिए जीवन में सिर्फ एक बार आने वाला अवसर है।

“अनुभव ने मुझे सिखाया है कि जब एक व्यक्ति पूरे विश्व का सामना करता है तो हर कार्य अकेले संभव नहीं है। मैं जीवन में जिस मुकाम पर हूँ उसमे बहुत सारे व्यक्तियों की सहायता और सहयोग का योगदान है।“

MATSUOKA Chiaki, जापानी तैराक और मशालधारक के सहयोगी तैराक 

Chiaki (on the left) in a team demonstration called ‘morote higasa’, where multiple performers swim while holding an umbrella in each hand.
Chiaki (on the left) in a team demonstration called ‘morote higasa’, where multiple performers swim while holding an umbrella in each hand.

हिरोशिमा शहर की रहने वाली Matsuoka Chiaki जापान की प्राचीन तैराकी कला निहोन-एहो की प्रेमी हैं और उस सभ्यता को आगे बढ़ाने वाले परिवार की सदस्य हैं। पीढ़ी दर पीढ़ी चलती आ रही इस तैराकी कला का प्रदर्शन वह आने वाली ओलिंपिक मशाल रीले में एक सहायक तैराक के रूप में करेंगी।

"जिस तरह मशाल एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति तक पहुँचती है, हमारा इतिहास और सभ्यता भी एक पीढ़ी से अगली को दी गयी है। मैं आशा करती हूँ की पूरा विश्व सभ्यता और व्यक्तियों के बीच के संबंध की मूल्य समझेगा।"

HATANAKA Atsushi, एनएचके अधिकारी और मशाल रीले को फिल्माने के कार्य प्रबंधक

एनएचके के लिए काम कर रहे Hatanaka Atsushi ने प्रसारण व्यवसाय में तीन दशकों से ज़्यादा काम किया और वह ओलिंपिक खेलों जैसी बड़ी प्रतिस्पर्धाओं का भाग रह चुके हैं। ओलिंपिक मशाल रीले के दौरान एनएचके के लिए काम करते हुए Atsushi पूरे विश्व को जापान के सबसे सुन्दर चित्र दिखाना चाहते हैं।

"मैं मशालधारकों की हर चाल और अभिव्यक्ति को कैमरे में कैद करना चाहता हूँ। इतना ही नहीं, मैं चाहता हूँ की जापान के सारे प्रीफेक्चरों की सुंदरता पूरे विश्व को दिखे।"