लाइव ब्लॉग: वाकायामा से टोक्यो 2020 मशाल रीले की हाईलाइट

The Olympic Torch Relay section 1 in Shingu City, Wakayama prefecture, Japan.
The Olympic Torch Relay section 1 in Shingu City, Wakayama prefecture, Japan.

ओलिंपिक मशाल रीले वाकायामा में शुरू हो चुकी है। साल 2021 में 23 जुलाई को शुरू होने वाले ओलिंपिक खेलों के उद्घाटन समारोह तक इस ऐतिहासिक मशाल के सफर का हर अहम् क्षण आप देख सकते हैं टोक्यो 2020 के लाइव स्ट्रीम पर और इस प्रतिस्पर्धा की सारी बड़ी खबरे इस लाइव ब्लॉग में पढ़िए।

09 अप्रैल, शाम 4 बजे (जापानी स्थानीय समय): वाक़यामा प्रीफेक्चर में अब तक की मशाल यात्रा देखिये

आज सुबह ओलिंपिक मशाल ने वाकायामा के शिंगू शहर का दौरा किया और उसके बाद ज्वाला नाची झरने पर पहुंची।

09 अप्रैल, दोपहर 2:00 बजे (जापानी स्थानीय समय): "मैं कुशीमोतो के लोगों को एकजुट करना चाहता हूँ।"

टर्की के योज़गात शहर में जन्मी Durna Ozkaya पिछले कुछ समय से कुशीमोतो टाउन हॉल में जापान और टर्की के बीच मित्रता बढ़ाने के लिए प्रयास कर रही हैं।

"मुझे कुशीमोतो के लोगों से बहुत प्रेम है क्योंकि वह बहुत ही विनम्र और अच्छे हैं।"

ओलिंपिक मशाल रीले में भाग लेने वाली Ozkaya आशा करती हैं कि लोग अपनी विविधता से ऊपर उठ कर एकजुट हो जाएं।

09 अप्रैल, दोपहर 1:30 बजे (जापानी स्थानीय समय): हम समुद्र तट पर पहुंच चुके हैं

नीला आकाश और चमकते हुए सूर्य के नीचे ओलिंपिक ज्वाला तटीय नगर कुशिमोतो से गुज़र रही है।

09 अप्रैल, सुबह 10:30 बजे (जापानी स्थानीय समय): शिंतो देवता का घर

नाचीकातसूरा नगर में ओलिंपिक ज्वाला पत्थर से बनी हुई डाईमन ज़ाका ढलान से गुज़रने के बाद जापान के सबसे ऊंचे झरने नाची के पास पहुंचे।

यह 133 मीटर ऊंचा झरना एक अत्यंत दर्शनीय तीर्थ स्थल होने के साथ शिंतो देवता का घर माना जाता है। नाची झरना की पर्वत श्रृंखला में स्थित पवित्र तीर्थस्थानों में आता है और यह क्षेत्र यूनेस्को द्वारा विश्व हेरिटेज स्थल की सूची में भी शामिल है।

जापान के सबसे ऊंचे झरने के पास ओलिंपिक मशाल
00:24

ओलिंपिक मशाल रीले ने वाकायामा प्रीफेक्चर के नाचीकत्सुरा नगर में अपना दौरा 133 मीटर लंबी नाची झरने पर समाप्त करी।

09 अप्रैल, सुबह 9:01 बजे (जापानी स्थानीय समय): टोक्यो 1964 ओलिंपिक खेलों के स्वर्ण विजेता ने करी शुरुआत

साल 1964 में आयोजित हुए टोक्यो 1964 ओलिंपिक खेलों की पुरुष जिमनास्टिक्स प्रतियोगिता में जापान ने 10 ओलिंपिक पदक जीत कर पूरे विश्व को चकित कर दिया था। उनमे से एक जिम्नास्ट थे HAYATA Takuji जिन्होंने टीम प्रतियोगिता और रिंग्स में दो स्वर्ण जीते थे।

आज सुबह यह 80 वर्ष का महान व्यक्ति ने अपने प्रीफेक्चर वाकायामा में ओलिंपिक मशाल रीले की शुरुआत करी।

टोक्यो 1964 ओलिंपिक खेलों में जापान की पुरुष जिमनास्टिक्स टीम के बारे में यहाँ पढ़िए।

टोक्यो 1964 ओलिंपिक खेलों में दो बार स्वर्ण जीतने वाले महान HAYATA Takuji
00:25

HAYATA Takuji जापान की पुरुष जिम्नास्टिक्स टीम का भाग थे और उन्होंने टोक्यो 1964 ओलिंपिक खेलों में दो स्वर्ण जीते थे। उन्होंने वाकायामा में ओलिंपिक मशाल रीले की शुरुआत करी।

09 अप्रैल, सुबह 8:45 बजे (जापानी स्थानीय समय): वाकायामा - सुंदरता से भरा हुआ क्षेत्र

पिछले कुछ दिनों में ओलिंपिक मशाल ने कुछ अद्भुत दिखने वाले स्थानों का दौरा किया है और वाकायामा में अगले दो दिन भी ऐसे ही कुछ होंगे। जंगल, हरियाली, समुद्र तट, पहाड़ और झरने रीले के इस भाग को अद्भुत अथवा दर्शनीय बनाएंगे।

Nachikatsuura Town・Nachi Waterfall
Nachikatsuura Town・Nachi Waterfall
(c)JNTO

09 अप्रैल, सुबह 8:45 बजे (जापानी स्थानीय समय): ऐतिहासिक स्वर्ण पदक का घर

वाकायामा ने जापान के ओलिंपिक इतिहास पर एक अमिट छाप छोड़ी है क्योंकि यहां जन्मी थी MAEHATA Hideko जो इस देश के इतिहास की पहली महिला स्वर्ण पदक विजेता बनी। साल 1936 में आयोजित हुए बर्लिन ओलिंपिक खेलों की तैराकी प्रतियोगिता के 200 मी ब्रेस्ट स्ट्रोक प्रतिस्पर्धा में एक सेकंड से भी ज़्यादा के अंतर से उन्होंने विजय हासिल करि थी।   

वाकायामा की जन्मी एक और ऐसी खिलाड़ी हैं MIYAMOTO Emiko जो 1964 टोक्यो ओलिंपिक खेलों में स्वर्ण जीतने वाली महिला वॉलीबॉल टीम का भाग थीं। जापान की उस महान जीत के बारे में यहा ं पढ़िए।

टोक्यो 1964 ओलंपिक खेल, वॉलीबॉल महिला - फाइनल, जापान (JPN) 1 - USSR (URS) 2nd
टोक्यो 1964 ओलंपिक खेल, वॉलीबॉल महिला - फाइनल, जापान (JPN) 1 - USSR (URS) 2nd
© 1964 / Kishimoto/IOC

09 April, 08:35 (JST): Welcome to Shingu City!

Welcome to the first day of the Olympic Torch Relay in Wakayama! Today's journey begins in Shingu City, the location of the Kumano Hayatama Taisha Shrine, one of three shrines on the famous Kumano Kodo pilgrimage routes. From there, the flame will make its way to Nachikatsuura Town, Kushimoto Town, Shirahama Town, Tanabe City, Shirahama Town, Gobo City, Arida City and Kainan City, before ending the day in Wakayama City.

Fun fact: In the region around Wakayama City lies a town called Yuasa, which is the birthplace of one of Japan's most famous exports: soy sauce. So settle in for the ride, today's relay is sure to be tasty!

You can watch all of the day's action unfold live right here on Tokyo 2020.