क्यूबा के Julio la Cruz ने जीता दूसरा लगातार ओलंपिक स्वर्ण 

TOKYO, JAPAN - AUGUST 03: Julio la Cruz of Team Cuba celebrates victory over Abner Teixeira of Team Brazil during the Men's Heavy (81-91kg) semi final on day eleven of the Tokyo 2020 Olympic Games at Kokugikan Arena on August 03, 2021 in Tokyo, Japan. (Photo by Luis Robayo - Pool/Getty Images)
TOKYO, JAPAN - AUGUST 03: Julio la Cruz of Team Cuba celebrates victory over Abner Teixeira of Team Brazil during the Men's Heavy (81-91kg) semi final on day eleven of the Tokyo 2020 Olympic Games at Kokugikan Arena on August 03, 2021 in Tokyo, Japan. (Photo by Luis Robayo - Pool/Getty Images)

पुरुष हैवी (81-91 किग्रा) फाइनल में आरओसी के Muslim Gadzhimagomedov को किया पराजित, फिर बने ओलंपिक चैंपियन।  

टोक्यो 2020 खेलों की मुक्केबाज़ी प्रतियोगिता के पुरुष हैवी (81-91 किग्रा) फाइनल में क्यूबा के अनुभवी मुक्केबाज़ Julio la Cruz ने आरओसी के Muslim Gadzhimagomedov को हराते हुए स्वर्ण पदक जीत लिया। अद्भुत गति, रक्षात्मक रणनीति और विश्व स्तर की मुक्केबाज़ी का प्रदर्शन दिखाते हुए क्यूबा के खिलाड़ी ने अपने खेल जीवन का दूसरा ओलंपिक स्वर्ण हासिल किया।

आरओसी के Gadzhimagomedov ने पूरे मैच में अपने अनुभवी और अद्भुत प्रतिद्वंदी पर मुक्कों की बारिश करने का प्रयास किया लेकिन अंत में Cruz की कला और शैली के आगे वह कुछ नहीं कर पाए।

अंत में Cruz यूनैनिमस निर्णय से यह बाउट जीता।

एक बेहद रोमांचक और तकनीकी मुकाबले में क्यूबा के मुक्केबाज़ ने शानदार फुटवर्क और रक्षात्मक रणनीति अपनाते हुए Gadzhimagomedov को रोकने का प्रयास किया लेकिन आरओसी के खिलाड़ी निरंतर प्रहार करते रहे। La Cruz ने Gadzhimagomedov को काउंटर प्रहार के सहारे पहले राउंड में हावी होने नहीं दिया।

साल 2016 के रियो खेलों में लाइट हैवी स्वर्ण जीतने वाले Julio la Cruz फाइनल में अपने दुसरे ओलंपिक स्वर्ण का पीछा कर रहे थे और Gadzhimagomedov लक्ष्य अपने जीवन का पहला स्वर्ण था। अंत में क्यूबा के अनुभवी मुक्केबाज़ ने कला, चतुर रणनीति और प्रतिभा दिखाते हुए अपने देश के लिए टोक्यो 2020 खेलों में तीसरा मुक्केबाज़ी स्वर्ण जीत लिया।

पहले सेमिफाइनल में Gadzhimagomedov का मुकाबला न्यूज़ीलैण्ड के David Nyika से हुआ था और आरओसी के मुक्केबाज़ ने मैच को 4-1 (स्प्लिट निर्णय) से जीता था। वहीं दूसरी ओर Julio la Cruz ने अपने सेमिफाइनल मुकाबले में ब्राज़ील के Abner Teixeira को परास्त किया था।