बेल्जियम ने जीता ओलंपिक पुरुष हॉकी स्वर्ण, शूटआउट में किया ऑस्ट्रेलिया को परास्त 

TOKYO, JAPAN - AUGUST 05: Florent van Aubel of Team Belgium celebrates with teammate Nicolas de Kerpel after scoring their team's first goal during the Men's Gold Medal match between Australia and Belgium on day thirteen of the Tokyo 2020 Olympic Games at Oi Hockey Stadium on August 05, 2021 in Tokyo, Japan. (Photo by Alexander Hassenstein/Getty Images)
TOKYO, JAPAN - AUGUST 05: Florent van Aubel of Team Belgium celebrates with teammate Nicolas de Kerpel after scoring their team's first goal during the Men's Gold Medal match between Australia and Belgium on day thirteen of the Tokyo 2020 Olympic Games at Oi Hockey Stadium on August 05, 2021 in Tokyo, Japan. (Photo by Alexander Hassenstein/Getty Images)

टोक्यो 2020 खेलों की पुरुष हॉकी प्रतियोगिता के स्वर्ण मुकाबले में हमें काटें की टक्कर देखने को मिली और अंत में शूटआउट से मैच का फैसला हुआ। 

ऑस्ट्रेलिया को पेनल्टी शूटआउट में परास्त करते हुए विश्व चैंपियन बेल्जियम ने पुरुष हॉकी स्वर्ण जीत लिया है। अपने ओलंपिक इतिहास का पहला पुरुष हॉकी स्वर्ण ढूंढ रही बेल्जियम ने बेहतरीन प्रदर्शन दिखाते हुए फाइनल में ऑस्ट्रेलिया को पेनल्टी शूटआउट में 3-2 से हराया।

जहां एक तरफ ऑस्ट्रेलिया फाइनल में जर्मनी को हरा के पहुंचा था, बेल्जियम ने भारत को सेमिफाइनल में शिकस्त दी थी। दोनों ही टीमें बहुत मज़बूत थी और इनमे से एक चुनना किसी के लिए भी कठिन था।

मैच की शुरुआत में दोनों टीमों ने रक्षात्मक ढंग से खेला और बेल्जियम ने Florent van Aubel की सहायता से 32वें मिनट में बढ़त बना ली। ऑस्ट्रेलिया हार मानने वालों में से नहीं थी और हालांकि गोल में बेल्जियम के लिए Vincent Vanasch अद्भुत फॉर्म में थे, Tom Wickham ने गोल दाग कर स्कोर 1-1 से बराबर कर दिया।

जब मैच पेनल्टी शूटआउट पर गया तो ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी Govers से पहला पेनल्टी शॉट छूट गया और उसके बाद van Aubel ने गोल दाग के यूरोप के देश को बढ़त दिलाई। अंत में ऑस्ट्रेलिया के Jacob Thomas का प्रयास शॉट रोकते हुए Vanasch ने बेल्जियम के हॉकी इतिहास में अपना नाम स्वर्णिम अक्षरों से लिख दिया।