आल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप 2021: Okuhara और Zii Jia ने जीते सिंगल्स ख़िताब

मलेशिया के Lee Zii Jiya 2021 आल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप का पुरुष सिंगल्स ख़िताब जीतने के बाद ख़ुशी मनाते हुए।
मलेशिया के Lee Zii Jiya 2021 आल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप का पुरुष सिंगल्स ख़िताब जीतने के बाद ख़ुशी मनाते हुए।

जापान की Okuhara ने पांच साल बाद जीता ख़िताब, मलेशिया को Zii Jia के रूप में मिला एक नया बैडमिंटन सितारा। 

विश्व बैडमिंटन को एक नया सितारा मिल गया है और वह हैं मलेशिया के Lee Zii Jia जिन्होंने बिर्मिंघम में रविवार को समाप्त हुई 2021 आल इंग्लैंड चैंपियनशिप का पुरुष सिंगल्स ख़िताब अपने नाम किया। डेनमार्क के विश्व नंबर दो Viktor Axelsen का सामना करते हुए मलेशिया के इस खिलाड़ी ने साल का सबसे बड़ा उलटफेर कर दिखाया। वहीँ दूसरी ओर जापान की OKUHARA Nozomi ने महिला सिंगल्स ख़िताब को पांच साल में पहली बार अपने नाम किया। फाइनल में उन्होंने थाईलैंड की Pornpawee Chochuwang को आसानी से परास्त किया।

मलेशिया के Lee Zii Jiya ने रचा इतिहास

पिछले दो वर्षों में मलेशिया के खेल विशेषज्ञों और बैडमिंटन प्रेमियों ने Lee Zii Jia को उनकी प्रतिभा के कारण अपने देश के महान खिलाड़ी Lee Chong Wei का उत्तराधिकारी घोषित किया है। जब रविवार को 22 वर्षीय Zii Jia बैडमिंटन कोर्ट में आल इंग्लैंड ओपन के फाइनल में उतरे तो उनके कंधों पर न केवल आशाओं का भार था बल्कि उनके सामने थे डेनमार्क के Viktor Axelsen जो इस साल चार में से तीन ख़िताब अपने नाम कर चुके थे।

डेनमार्क के Viktor Axelsen 2021 के टोक्यो ओलिंपिक खेलों में पदक ही नहीं स्वर्ण जीतने के प्रबल दावेदारों में से एक हैं और इस साल उनका फॉर्म देखा जाए तो इस बात पर कोई संदेह नहीं करेगा। रविवार के फाइनल में वह ख़िताब जीतने के लिए ज़्यादा मज़बूत दावेदार थे लेकिन आने वाले कुछ घंटों में जो हुआ वह बहुत समय तक बैडमिंटन प्रेमियों को याद रहेगा।

फाइनल के पहले गेम में दोनों खिलाड़ियों ने शुरुआत से ही एक दुसरे पर दबाव बनाने का प्रयास किया और किसी ने भी अपने प्रतिद्वंदी को दो से ज़्यादा अंकों की बढ़त नहीं लेने दी। जब एक समय पर Lee Zii Jia ने 19-16 की बढ़त बना ली तो ऐसा लगा की पहला गेम उनके नाम आसानी से हो जायेगा लेकिन Axelsen ने दिखाया की वह विश्व के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक क्यों हैं। पहला गेम 21 अंकों के भी पार गया लेकिन अंत में Zii Jia ने 30-29 से उससे अपने नाम कर लिया।

इतने शानदार खेल स्तर के बाद भी पहला गेम हार जाना Axelsen के लिए बहुत बड़ा धक्का था और उन्होंने अच्छे फॉर्म में चल रहे Zii Jiya को दूसरा गेम 22-20 से हरा मैच को बराबर कर दिया। आल इंग्लैंड ओपन के अंतिम गेम में मलेशिया के खिलाड़ी Zii Jia ने जो प्रदर्शन दिखाया वह शायद ही कोई बैडमिंटन प्रेमी या विशेषज्ञ आने वाले कई सालों तक भूल पायेगा। विश्व नंबर दो Axelsen को चारों खाने चित करते हुए 21-9 से तीसरा गेम जीत कर फाइनल और ख़िताब अपने नाम किया।

फाइनल जीतने के बाद Zii Jia ने मीडिया से बात करते हुए कहा, "दूसरा गेम मेरे लिए बहुत मुश्किल था लेकिन मेरा आत्मविश्वास धीरे धीरे वापस आ रहा है। हर बैडमिंटन खिलाड़ी आल इंग्लैंड ख़िताब जीतने का सपना देखता है और यह मेरे लिए एक बड़ा क्षण है जिसका मैं आनंद लेना चाहता हूँ।"

Okuhara की कोर्ट वापसी, पांच साल बाद आल इंग्लैंड ख़िताब

कोरोना महामारी के कारण इस साल आयोजित हुई बैडमिंटन प्रतियोगिताओं में जापान की OKUHARA Nozomi भाग नहीं ले पायी थी लेकिन आल इंग्लैंड ओपन के फाइनल में उनके खेल स्तर को देख कर कोई ऐसा नहीं कह पाया। फाइनल में थाईलैंड की Pornpawee Chochuwong का सामना करते हुए OKUHARA ने दिखाया की वह साल 2021 के टोक्यो ओलिंपिक खेलों में स्वर्ण जीतने की प्रबल दावेदारों में से एक क्यों हैं।

थाईलैंड की खिलाड़ी ने मुकाबले की अच्छी शुरुआत करि लेकिन OKUHARA की आक्रामक शॉट शैली के आगे वह कुछ नहीं कर पायी और जैसे फाइनल आगे बढ़ता गया, जापान की सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक ने दिखाया की उनको हरा पाना मुश्किल होगा। दोनों गेम OKUHARA ने आसानी से जीत लिए और मैच को 21-12, 21-16 से जीत कर ख़िताब अपने नाम किया।

फाइनल के बाद, महिलाओं की नयी आल इंग्लैंड चैंपियन ने कहा, "मैं इस प्रतियोगिता को दोबारा जीतने के बाद बहुत खुश हूँ। फाइनल में भी मैं बाकी मुकाबलों की तरह खेलना चाहती थी और मुझे ऐसा लगा की इतने बड़े मंच और मुकाबले का दबाव Chochuwong पर दिख रहा था। मैंने यह ख़िताब जब पांच साल पहले जीता था तो मेरे ऊपर कोई दबाव नहीं था लेकिन इस बार मैं विश्व की पांच सर्वश्रेष्ठ महिला खिलाड़ियों में से एक थी और परिस्थिति अलग थी।"

जापानी की Nozomi Okuhara 2021 आल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप ख़िताब जीतने के बाद पदक पटल पर।
जापानी की Nozomi Okuhara 2021 आल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप ख़िताब जीतने के बाद पदक पटल पर।
2021 Getty Images

डबल्स वर्ग में जापान का दबदबा

जापान के खिलाड़ियों के लिए यह साल की पहली प्रतियोगिता थी लेकिन डबल्स वर्ग के परिणाम देखेंगे तो स्थिति कुछ और ही नज़र आएगी। पुरुषों, महिलाओं और मिश्रित डबल्स वर्ग के तीनों ख़िताब जापानी खिलाड़ियों के नाम रहे। चौंका देने वाली बात यह भी है की 2021 आल इंग्लैंड ओपन में डबल्स प्रतियोगिता के तीनों फाइनल जापानी जोड़ियों के बीचे हुए।

पुरुषों के डबल्स फाइनल में विश्व नंबर चार जोड़ी ENDO Hiroyuki और WATANABE Yuta ने नंबर तीन जोड़ी SONODA Keigo और KAMURA Takeshi को 21-15, 17-21 21-11 से हरा ख़िताब अपने नाम किया।

वहीँ दूसरी ओर महिलाओं के डबल्स फाइनल में विश्व नंबर दो जोड़ी MATSUMOTO Mayu और NAGAHARA Wakana ने विश्व की सर्वश्रेष्ठ जोड़ी FUKUSHIMA Yuki और HIROTA Sayaka को सीधे गेमों में 21-18, 21-16 से परास्त किया।

मिश्रित डबल्स प्रतियोगिता के विजेता रहे विश्व नंबर दो WATANABE Yuta और HIGASHINO Arisa जिन्होंने फाइनल और ख़िताब 21-14, 21-13 से अपने नाम किया।

भारतीय खिलाड़ियों के लिए निराशाजनक आल इंग्लैंड ओपन

आल इंग्लैंड ओपन 2021 में भारत के खेमे से कोई भी खिलाड़ी फाइनल में अपनी जगह नहीं बना पाया और सबसे अच्छा प्रदर्शन दिखाने वाली एक बार फिर PV Sindhu रही। वर्तमान विश्व चैंपियन Sindhu अपने करियर का पहला आल इंग्लैंड ख़िताब जीतने का प्रयास कर रही थी लेकिन सेमिफाइनल में उन्हें 21-17, 21-9 से Pornpawee Chochuwang के हाथों हार मिली।

पुरुष सिंगल्स की बात करें तो सबसे अच्छा प्रदर्शन युवा Lakshya Sen का रहा जो क्वार्टरफाइनल में नीदरलैंड के Mark Caljuow से हार गए। भारत के सर्वश्रेष्ठ बैडमिंटन पुरुष खिलाड़ी Kidambi Srikanth, B Sai Praneeth और HS Prannoy तीनों पहले दो राउंड में ही बाहर हो गए।