रेफ्यूजी एथलीट जमाल मोहम्मद: "कभी भी अपने सपने को खुद से दूर न जाने दें"

दोहा में 2019 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप के लिए क्वालिफाई करने वाले इज़राइली के सूडानी धावक टोक्यो 2020 ओलंपिक में भाग लेने का सपना देखते हैं। मोहम्मद, जो टेल अवीव में एक क्लीनर के रूप में काम करते हैं। मिलिशिआ से अपने पिता के मारे जाने के बाद 2010 में एक किशोर के रूप में उस युद्धग्रस्त जगह से बच निकले थे। वह अब पूरी तरह से धावक बनने और रिफ्यूजी ओलंपिक टीम बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं।

रेफ्यूजी एथलीट जमाल मोहम्मद: "कभी भी अपने सपने को खुद से दूर न जाने दें"

दोहा में 2019 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप के लिए क्वालिफाई करने वाले इज़राइली के सूडानी धावक टोक्यो 2020 ओलंपिक में भाग लेने का सपना देखते हैं। मोहम्मद, जो टेल अवीव में एक क्लीनर के रूप में काम करते हैं। मिलिशिआ से अपने पिता के मारे जाने के बाद 2010 में एक किशोर के रूप में उस युद्धग्रस्त जगह से बच निकले थे। वह अब पूरी तरह से धावक बनने और रिफ्यूजी ओलंपिक टीम बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं।

संबंधित कंटेंट