ट्रैम्पोलिन
  • ओलंपिक डेब्यू
    सिडनी 2000
और अधिक जानकारी

ट्रैम्पोलिन स्पॉटलाइट

टोक्यो 2020 के बेहतरीन पल

Olympic Channel

पिछले इवेंट्स को खोजिए और उनका आनंद लीजिए, ओलंपिक चैनल पर ट्रैम्पोलिन से जुड़े ओरिजिनल फिल्म और सीरीज देखिए

हिस्ट्री ऑफ

ट्रैम्पोलिन

ट्रम्पोलिन की शुरुआत

पहला आधुनिक ट्रम्पोलिन 1934 के आसपास आयोवा विश्वविद्यालय में जॉर्ज निसेन और लैरी ग्रिसवॉल्ड द्वारा बनाया गया था। इसका उपयोग शुरू में टंबलर और अंतरिक्ष यात्रियों को प्रशिक्षित करने के लिए किया गया था, और डाइविंग, जिम्नास्टिक और फ्रीस्टाइल स्कीइंग जैसे अन्य खेलों के लिए कलाबाज़ी कौशल विकसित करने के लिए एक प्रशिक्षण उपकरण के रूप में इसका प्रयोग होता था। लोगों ने ट्रम्पोलिन को बहुत पसंद किया। इस तरह ट्रम्पोलिन एक रोमांचक और लोकप्रिय खेल बन गया। 

स्पेसबॉल

निसेन और ग्रिसवॉल्ड ने कभी सोचा भी नहीं था कि उनके द्वारा बनाया गया ट्रम्पोलिन कई नए खेलों में इस्तेमाल किया गाएगा। उनको ये भी नहीं पता था कि लोग उनके इस ट्रैम्पोलिन को इतना पसंद करेंगे। एक खेल में कम से कम दो टीमें भाग ले सकती हैं। दोनों टीमों को एक ट्रम्पोलिन पर जंप करना होता है। जंप करने वाला एथलीट टार्गेट पर जंप करता है। जिस टीम के खिलाड़ी सबसे ज्यादा टार्गेट पर जंप करते हैं उन्हें जीता हुआ घोषित किया जाता है। 

ओलंपिक में डेब्यू

ट्रम्पोलिन ने सिडनी में 2000 खेलों में पुरुषों और महिलाओं की प्रतियोगिताओं के साथ अपनी पहली उपस्थिति दर्ज की। तब से इस खेल में दो ही इवेंट प्रारूप होते हैं। जो अब तक कायम है।