फिगर स्केटिंग
  • ओलंपिक डेब्यू
    लंदन 1908
और अधिक जानकारी

फिगर स्केटिंग स्पॉटलाइट

Olympic Channel

पिछले इवेंट्स को खोजिए और उनका आनंद लीजिए, ओलंपिक चैनल पर फिगर स्केटिंग से जुड़े ओरिजिनल फिल्म और सीरीज देखिए

हिस्ट्री ऑफ

फिगर स्केटिंग

फिगर स्केटिंग ने सकारात्मक तरीकों को अपना कर खेल और आर्ट का बहुमूल्य नमूना पेश किया है।

शुरूआती दौर

डच लोगों को स्केटिंग का फादर कहा जाता है। उन्होंने कैनाल का इस्तेमाल कर गाँव-गाँव तक संचार करते थे और इसमें वह स्केटिंग को उपयोग में लाते थे। 13वीं सदी से आज तक इस खेल ने सुर्ख़ियों के साथ-साथ बहुत सा रोमांच भी बटोरा है। इसके बाद इस खेल को इंग्लैंड ने भी अपना लिया और देखते ही देखते इसका पहला क्लब स्थापित हो गया। आम आदमी ही नहीं बल्कि इंग्लैंड के राजा मारी एन्टोंइनेट (Marie Antoinette), नेपोलियन III (Napoleon III) और जर्मन लेखक योहान वुल्फगांग फान गेटे (Johann Wolfgang von Goethe) भी इससे मनोरंजन करते रहे हैं।

स्टील और बैले का मिश्रण

स्केटिंग के इतिहास में दो अमेरिकी लोगों को इसकी तरक्की का श्रेय जाता है। 1850 में एडवर्ड बुशनेल (Edward Bushnell) ने स्टील ब्लेड का परिचय कराया और खेल को एक अलग ही स्तर पर ले गए। इसके बाद जैक्सन हैंस (Jackson Haines), एक बैले मास्टर ने 1860 ने खेल में बैले की मुद्राएं डाल कर इसे और भी रोमांचक बना दिया।