एक्रोबैटिक जिमनास्टिक्स
  • ओलंपिक डेब्यू
    सिर्फ YOG
और अधिक जानकारी

एक्रोबैटिक जिमनास्टिक्स स्पॉटलाइट

Olympic Channel

पिछले इवेंट्स को खोजिए और उनका आनंद लीजिए, ओलंपिक चैनल पर एक्रोबैटिक जिमनास्टिक्स से जुड़े ओरिजिनल फिल्म और सीरीज देखिए

हिस्ट्री ऑफ

एक्रोबैटिक जिमनास्टिक्स

इतिहास

एक्रोबेटिक जिमनास्टिक हजारों वर्षों से विभिन्न रूपों और विभिन्न संस्कृतियों में मौजूद है। होमर के महाकाव्यों और प्राचीन यूनानी संगोष्ठियों और चीन के हान राजवंशीय हार्वेस्ट उत्सवों में शामिल होने के साथ कलाबाजी की कलाकृतियों को कांस्य युग में उल्लेख किया गया है। इसके साथ ही यह मध्य युग के दौरान यूरोपीय अदालतों के लिए मनोरंजन के रूप में भी काम आता था।

एक खेल बना

एक्रोबेटिक जिमनास्टिक उपकरण के उपयोग और टंबलिंग के माध्यम से एक खेल के रूप में विकसित होना शुरू हुआ। जहां इन दोनों पहलुओं ने मानव शरीर की क्षमताओं को प्रदर्शित किया। सोवियत संघ में एक्रोबेटिक के लिए पहली प्रतियोगिता के नियमों का गठन किया गया था, जहां स्टेडियम दर्शकों से भरा हुआ था और वे विशाल मानव पिरामिड बनाने की तरह एथलेटिक करतब की उम्मीद कर रहे थे। वहीं, इसका उद्घाटन सोवियत नेशनल चैंपियनशिप 1939 में हुआ।

वैश्विक विकास

1957 में वारसॉ में आयोजित "स्पोर्ट एक्रोबेटिक्स" का पहला अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट चार प्रतिभागी टीमों के साथ आयोजित किया गया था। इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ स्पोर्ट्स एक्रोबेटिक्स (IFSA) की स्थापना 1973 में की गई थी, जिसके बाद पहली विश्व चैंपियनशिप मॉस्को में आयोजित की गई थी, जिसमें बुल्गारिया, फेडरल रिपब्लिक ऑफ जर्मनी, ग्रेट ब्रिटेन, हंगरी, पोलैंड, सोवियत संघ और संयुक्त राज्य अमेरिका की टीमें शामिल थीं। 1998 में, अंतरराष्ट्रीय जिमनास्टिक फेडरेशन द्वारा IFSA को भंग करने के बाद इस खेल को अपनाया गया था। वहीं, इस खेल को 2007 से एक्रोबेटिक जिमनास्टिक के रूप में जाना जाता है।