पैर हिमालय में और निगाहें बीजिंग पर, आइये जानें भारतीय स्पीड स्केटर Vishwaraj Jadeja के लक्ष्यों के बारे में  

भारत का सबसे तेज स्पीड स्केटर 2022 में बीजिंग खेलों में प्रतिस्पर्धा करने के अपने सपने को पूरा करने के बहुत करीब है। विशेष रूप से ओलंपिक डॉट कॉम से बात करते हुए उन्होंने अपनी खेल यात्रा के बारे में, हिमालय में 4500 मीटर की ऊंचाई पर स्पीड स्केटिंग के बारे में और उनके लिए ओलंपिक शीतकालीन खेलों में अपने देश का प्रतिनिधित्व करने का मतलब क्या होगा, इस बारे में खुल कर बात की।

लेखक Sean McAlister
फोटो क्रेडिट © Ravi Mistry

हालांकि ओलंपिक शीतकालीन खेलों की राह कभी आसान नहीं होती, लेकिन कुछ लोगों के लिए यह रास्ता और भी बाधाओं से भरा होता है।

ऐसा ही रहा अहमदाबाद के एक स्पीड स्केटर Vishwaraj Jadeja का सफर। अपने जीवन में लगभग हर रास्ते पर बाधाओं का सामना करने के बावजूद, Jadeja ने भारत के लिए शीतकालीन खेलों का हिस्सा बनने की उम्मीद और सपना दोनों नहीं खोया।

Jadeja का जन्म एथलीटों के परिवार में हुआ था, ओलंपिक चैनल के साथ चर्चा में उन्होंने बताया, "मेरे पिता एक रोलर स्केटर थे और हॉकी भी खेलते थे, मेरी आंटी भी हॉकी और रोलर स्केटिंग करती थीं, और उन दोनों ने ही नेशनल्स भी खेले हैं।"

"और फिर मैं आया। मैं एक ऐसे घर में पैदा हुआ और बड़ा हुआ, जहां चारों ओर ट्राफियां थीं। हमारे परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी, हम बस गुजारा करते थे और फिर भी इस तरह का खेल चुनना, वो भी 80 और 90 के दशक के दौरान, अपने आप में काफी अद्वितीय बात थी।"

अपने बचपन के दिनों को याद करते हुए, Jadeja बताते हैं कि यह बहुत कम उम्र से था कि उन्होंने सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी बनने की कोशिश में (रोलर स्केटिंग में) प्रयास करना शुरू कर दिया था।

1999 में, 14 साल की उम्र में, Jadeja ने अपनी पहली राष्ट्रीय रोलर स्केटिंग चैंपियनशिप में भाग लिया। उन्होंने पांच साल तक इस खेल में शीर्ष पर रहने का आनंद लिया जहां उन्होंने राष्ट्रीय चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता और इनलाइन स्केटर के रूप में पोडियम पर भी पहुंचे।

लेकिन एक साधारण सी बात थी जो उन्हें उनके अंतिम सपने तक पहुंचने से रोक रही थी। कुछ ऐसा जो सरल था, लेकिन किसी भी तरह से महत्वहीन नहीं था।

"इनलाइन स्केटिंग ओलंपिक का हिस्सा नहीं है और जब आप 10 साल या उससे भी ज्यादा समय तक खेल से जुड़े होते हैं, तो आप सोचते हैं, 'यार, मैं ओलंपिक में जाना चाहता हूं।"

ओलंपिक तक पहुंचने की तरकीब

बहुत कम या कोई वित्तीय संसाधन नहीं होने के बावजूद, ओलंपियन बनने की तीव्र इच्छा से लैस Jadeja ने यूरोप जाने का फैसला किया, जहां दुनिया में सबसे अच्छे स्पीड स्केटिंग ट्रेनर उपलब्ध हैं। जैसा कि उन्होंने बताया, "भारत में हमारे एक साल में तीन या चार दौड़ होती है, जबकि यहाँ [यूरोप में] हम कभी-कभी सप्ताह में दो दौड़ में भाग लेते हैं।"

हालांकि, इसे संभव बनाने के लिए उन्हें अपने खेल परिवार से समर्थन मिला, जो मानते हैं, "यदि आप एक खेल चुनते हैं, तो अपने सपनों को हासिल करने के लिए आपको हर संभव प्रयास करना चाहिए और इससे उनका मतलब था, ओलंपिक तक पहुंचना।"

लेकिन फिर भी यह सब कैसे हुआ? Jadeja ने बताया कि उन्होंने डेनमार्क के एक विश्वविद्यालय को कंप्यूटर साइंस कोर्स के लिए उनके आवेदन को स्वीकार करने के लिए मना लिया ("सौभाग्य से उन्होंने मेरे स्कूल के नंबर नहीं देखे, उन्होंने बस मेरा इंटरव्यू लिया!") और, फिर लोन लेने के बाद, वे यूरोप के लिए रवाना हो गए, जहां उन्होंने डेनमार्क से अपनी यात्रा शुरू की और फिर स्वीडन और अंततः नीदरलैंड चले गए।

नीदरलैंड को चुनने के अपने फैसले के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा, "नीदरलैंड में लॉन्ग ट्रैक आइस स्केटिंग भारत में क्रिकेट की तरह है। और यही एक कारण है कि मैं नीदरलैंड चला आया, क्योंकि देखिए, अगर आप क्रिकेट खेलना चाहते हैं तो आप भारत जाएं, अगर आप फुटबॉल खेलना चाहते हैं तो आप ब्राजील जाएं, लेकिन अगर आप लॉन्ग ट्रैक करना चाहते हैं, तो आप नीदरलैंड आएं।"

कड़ी मेहनत ही सब कुछ है!

"मैं बिल्कुल भी टैलेंटेड नहीं था। मैं सिर्फ मेहनती था, मैं प्रैक्टिस करने आता था और कड़ी मेहनत करता था।"

बिना पैसे के नीदरलैंड पहुंचे Jadeja ने बर्फ पर अपना नाम बनाना शुरू कर दिया, जिसके कारण एक पत्रकार ने स्पीड स्केटिंग कोच की तलाश में भारत के इस युवक के बारे में एक आर्टिकल भी लिखा।

इस आर्टिकल ने उनके लिए चमत्कार कर दिया। यह लेख उन्हें महान ट्रेनर Wim Nieuwenhuizen के पास ले आया, जिन्होंने उनसे कहा, "यदि आप मेरे इस खेल को सीखने के लिए भारत से आने के लिए इतने जुनूनी हैं, तो मैं भी आपको प्रशिक्षित करने के लिए उतना ही जुनूनी हूं।" और फिर शुरू हुआ कोच-एथलीट का रिश्ता जो आज भी बहुत मजबूत है।

हालांकि, प्रशिक्षण शुरू करने के लिए एक समाधान खोजना एकमात्र समस्या नहीं थी जिसका उनको सामना करना पड़ा। जेब में कम पैसे होने के कारण, उन्हें अपनी बुनियादी ज़रूरतों को पूरा करने में भी परेशानी का सामना करना पड़ा, जैसे की खाना कहां से खाएं, कहाँ रहें और पैसे कैसे कमाएं।

Jadeja आज कहते हैं, ''मुश्किलें मेरे लिए बढ़ ही रही थी, लेकिन इन दस सालों में मेरे दोस्तों और मेरे कोचेस को धन्यवाद, जिनके कारण मैं अपना रेंट सेव कर सका।"

‘इतने करीब होने के बावजूद इतने दूर’

शीतकालीन खेलों में शामिल होने के एक दशक बाद, Jadeja ने 200 से अधिक बार भारत का प्रतिनिधित्व किया हैं और 65 राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाए हैं। साथ ही वह 3000 मीटर, 5000 मीटर और 10000 मीटर दूरी स्पर्धा में अब तक के सबसे तेज भारतीय भी हैं।

और जैसे-जैसे ओलंपिक शीतकालीन खेल प्योंगचांग 2018 नजदीक आ रहे थे, वह अपने आजीवन सपने को पूरा करने के कगार पर थे जब एक आपदा आई। सबसे पहले तो फंडिंग बंद हो गई, जो की निश्चित रूप से एक असुविधा थी, लेकिन खैर इस तरह की समस्या उन्होंने पहले भी झेली थी। लेकिन फिर उन्हें चोट लग गई, जिसके कारण वह एक महीने तक चलने में असमर्थ रहे।

इस वजह से वह शीतकालीन खेलों के लिए क्वालीफाई करने में नाकाम रहे

"उसके बाद मैं बुरी स्थिति में था और 2018 शीतकालीन खेलों के दौरान भी मैं नीदरलैंड में नहीं हो सका," उस वक़्त ओलंपिक में अपने देश का प्रतिनिधित्व करने के लिए बेताब Jadeja ने कहा। "हालांकि एक एथलीट के रूप में आप विफलता के लिए तैयार रहते हैं, लेकिन यह कुछ ज्यादा ही बड़ा था।"

और फिर मैंने एक बहुत ही अप्रत्याशित स्रोत से जीवन और खेल के लिए अपना जुनून वापस पाया। "मेरा एक दोस्त एक संगीतकार है और एक बार उसने मुझसे कहा, 'विश, तुम भारत से हो, तुम्हें हिमालय लौट जाना चाहिए और वहां खुद को और अपने फॉर्म दोनों को खोजना चाहिए।"

इस विचार से उत्साहित और उस समय जो वह दर्द महसूस कर रहा था, उससे बचने के लिए बेताब, इस एथलीट ने भारत में हिमालय लौटने की फैसला किया।

हालांकि उनके लिए केवल हिमालय की यात्रा करना ही पर्याप्त नहीं था। सर्दियों के महीनों के दौरान लोगों को नीदरलैंड की जमी हुई झीलों पर स्केटिंग करते देखने के बाद, उन्होंने फैसला किया कि वह भी ऐसा ही करेगा... लेकिन समुद्र तल से 4,500 मीटर ऊपर।

इसके बाद Jadeja अपने फोटोग्राफर दोस्त के साथ जम्मू-कश्मीर के लेह में त्सोमोरिरी लेक गए, जहां कुछ स्थानीय ग्रामीणों की मदद से बर्फ से ढकी झील पर उनके लिए एक ओलंपिक डिस्टेंस ट्रैक बनाया गया, जहां वे स्केटिंग करते थे। और उनके अनुसार, यह उच्चतम 5 किमी दूरी की आइस स्पीड स्केटिंग के लिए एक अनौपचारिक विश्व रिकॉर्ड है।”

Vishwaraj Jadeja skating in the Himalayas

लक्ष्य - बीजिंग 2022

हालांकि भारत पहला देश नहीं है जो आपके दिमाग में आएगा अगर आप शीतकालीन खेलों के बारे में सोचता है, लेकिन अगर हम Jadeja के शब्दों को ध्यान से सुनें, तो भारत में अभी भी शीतकालीन खेलों के संदर्भ में बहुत क्षमता है।

Jadeja ने कहा, "भारत के दस प्रांत हिमालय से घिरे हुए हैं, इसलिए शीतकालीन खेलों के संदर्भ में बहुत क्षमता है।"

"इसके अलावा, इस क्षेत्र में 16 झीलें हैं और मैंने केवल दो की खोज की है। ये झीलें 100 किमी लंबी और 20 किमी चौड़ी हैं और ये पूरी तरह से जमी हुई हैं।"

इस देश में विशेष रूप से हिमालय पर्वत रेंज की क्षमता के बारे में बात करते हुए, Jadeja बताते हैं, "हिमालय में एक और चीज जो मुझे मिली, वह 3,000 मीटर ऊंचाई पर एक छोटा सा गांव हैं जहां 500 आइस हॉकी खिलाड़ी हैं और उन्हें कनाडा के हॉकी फाउंडेशन द्वारा समर्थित किया जा रहा है। ग्रामीण कुछ सबसे महंगे उपकरणों के साथ आइस हॉकी खेल रहे हैं, जो सभी एनएचएल द्वारा दान किए गए हैं!"

"मैं चाहता हूं कि दुनियाभर के एथलीट भारत में आएं और इसे [स्पीड स्केटिंग] करें, जहां यह खेल अभी भी बहुत नया है।"

"ओलंपिक में जाना मेरे लिए सब कुछ होगा"

एक दशक से अधिक समय तक शीतकालीन खेलों का हिस्सा रहे Jadeja का लक्ष्य 2022 में होने वाले बीजिंग शीतकालीन खेलों में अपने देश का प्रतिनिधित्व करना है। और वह इसे हासिल करने के तरीके खोज रहे हैं और सबसे आसान यह है कि वह इसे मास-स्टार्ट के दौरान हासिल करें।

"1500 मीटर [मास स्टार्ट] इवेंट में, विश्व कप में जाने के लिए मुझे एक मिनट 59 सेकंड का स्कोर हासिल करना होगा और मैं अभी 1:59.34 पर हूं, जो मैंने दो हफ्ते पहले ही हासिल किया है।

"और फिर ओलंपिक में भाग लेने के लिए आपको 1:57.5 करना होगा। गजब बात यह है कि मैं प्रशिक्षण के दौरान 1:55 कर रहा हूं, इसलिए हालांकि मेरा प्रशिक्षण प्रदर्शन जरूर है, लेकिन ओलंपिक में जाने के लिए मेरे प्रशिक्षण प्रदर्शन और रेसिंग प्रदर्शन को एक साथ आना होगा।

अब चूंकि वह ओलंपिक शीतकालीन खेलों का हिस्सा बनने के अपने सपने को हासिल करने के बहुत करीब है, और यह पूछे जाने पर कि अगर वह इसे हासिल कर लेते हैं तो उनके लिए इसका क्या मतलब होगा, Jadeja ने कहा, "यह मुझे बहुत भावुक करता है, यह मेरे लिए बहुत मायने रखता है। यह मेरे लिए सब कुछ है।"

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स