टोक्यो 2020 स्टार लवलीना बोरगोहेन की अगले विश्व चैम्पियनशिप पर निगाहें   

ओलंपिक के बाद ब्रेक लेकर अब बॉक्सर ट्रेनिंग पैड पर अभ्यास शुरू कर दिया है। 

लेखक दिनेश चंद शर्मा
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

मुक्केबाजी में ओलंपिक पदक जीतने वाली तीसरी भारतीय मुक्केबाज बनने के बाद लवलीना बोरगोहेन (Lovlina Borgohain) खुश थी, लेकिन संतुष्ट नहीं थी। उनका लक्ष्य स्वर्ण पदक जीतना था, लेकिन टोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में उन्हें तुर्की की मुक्केबाज बुसेनाज सुरमेनेली (Busenaz Surmeneli)से हारने के बाद कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा। 

अर्जुन पुरस्कार विजेता ने कहा, “मेरा सपना गोल्ड का था। अभी मुझे गोल्ड नहीं ब्रांज मिला, तो अभी मेरी ओलंपिक की यात्रा अधूरी है। जब तक मैं गोल्ड नहीं जीत लेती, तब तक मैं लड़ती रहूंगी!" 

लवलीना स्पष्ट रूप से दूसरी सर्वश्रेष्ठ थीं। तीनों राउंड में सुरमेनेली ने तेज काउंटर और शक्तिशाली हुक के साथ अपना दबदबा बनाया। तो क्या इसमें सुधार किया जा सकता था? 

लवलीना की कोच संध्या गुरुंग ने विश्लेषण करते हुए Olympics.com को बताया, "मुझे लगता है कि लवलीना बहुत आक्रामक हो गई थीं और इसने उनकी प्रतिद्वंद्वी को अपने मुक्के मारने की छूट दे दी। अगर, वह अपने दृष्टिकोण में थोड़ी अधिक तकनीकी होती, तो परिणाम अलग हो सकता था। यह एक पिंजरे में दो शेरों की तरह था। तुर्की मुक्केबाज एक हार्ड-हिटर है और लवलीना ने मुकाबला करने के बजाय हमला किया। उसे थोड़ा और समझदारी से खेलना चाहिए था।"  

ओलंपिक हार अब अतीत बन चुका है और असमिया मुक्केबाज पहले ही ट्रेनिंग पैड अभ्यास के लिए पहुंच चुकी हैं। एक महीने से अधिक के ब्रेक के बाद उन्होंने मुख्य व्यायाम शुरू कर दिया है।

गुरुंग ने कहा, "वह स्ट्रेंथ प्रशिक्षण कर रही हैं। मैंने उसे अब फिट होने के लिए कहा, ताकि जब प्रशिक्षण शुरू हो, तो कोई बहाना न हो। वह नेशनल खत्म होने के बाद पूर्ण प्रशिक्षण पर वापस आ जाएगी। अभी फिटनेस पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है।"  

हालांकि, पिछले कुछ दिनों से लवलीना की तबीयत ठीक नहीं चल रही है। वह रिकवरी ब्रेक पर है, लेकिन जल्द ही ट्रेनिंग पर वापस आ जाएगी। ओलंपिक पदक विजेता आगामी राष्ट्रीय चैंपियनशिप में भाग नहीं लेंगी, बल्कि 26 अक्टूबर से शुरू होने वाली विश्व चैंपियनशिप पर ध्यान केंद्रित करेंगी। 

गुरुंग ने कहा, "गोल्ड जीतने वाले मुक्केबाज सीधे विश्व चैम्पियनशिप के लिए जाएंगे, जबकि ओलंपियन सीधे शिविर के लिए आ सकते हैं। लवलीना विश्व चैम्पियनशिप के लिए जाएंगी, क्योंकि उनके भार वर्ग में ऐसी कोई प्रतियोगिता नहीं है। लेकिन, 75 किग्रा में हमें देखना होगा। कुछ अच्छे प्रतियोगी हैं। यह अभी तय नहीं हुआ है।"  

महिला मुक्केबाजी राष्ट्रीय चैंपियनशिप अक्टूबर के दूसरे सप्ताह में राजस्थान में होने की संभावना है।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स