थॉमस और उबेर कप: भारतीय बैडमिंटन टीमों को आसानी से ड्रॉ में मिली जगह

अक्टूबर में होने वाले थॉमस और उबेर कप में भारतीय मेंस टीम चीन, नीदरलैंड और ताहिती के साथ ग्रुप सी में है, जबकि वूमेंस टीम को थाईलैंड, स्पेन और स्कॉटलैंड के साथ ग्रुप बी में रखा गया है।

लेखक अभिषेक गिरी

डेनमार्क में 9 से 17 अक्टूबर तक होने वाले थॉमस और उबेर कप में भारतीय बैडमिंटन टीमों को उम्मीद के मुताबिक आसान ड्रॉ मिला है।

आपको बता दें कि थॉमस कप मेंस के लिए ऑफिशियल विश्व टीम चैंपियनशिप है, ठीक इसी तरह वूमेंस के लिए उबेर कप है, साल 1982 के बाद पहली बार यह टूर्नामेंट यूरोप के इवेंट्स में वापसी करेगा।

भारतीय मेंस टीम को थॉमस कप के ग्रुप सी में तीसरी वरीयता प्राप्त चीन, नीदरलैंड और ताहिती के साथ रखा गया है, जबकि महिला टीम थाईलैंड, स्पेन और स्कॉटलैंड के साथ उबेर कप के ग्रुप बी में हैं।

आपको बता दे कि ग्रुप की शीर्ष दो टीमें टूर्नामेंट के नॉकआउट राउंड के लिए क्वालीफाई करती हैं।

भारतीय मेंस टीम ने थॉमस कप में आजतक कोई पदक नहीं जीता है, वहीं वूमेंस टीम ने 2014 और 2016 के सीजन में कांस्य पदक हासिल किया था।

थॉमस और उबेर कप का नया सीजन पिछले साल अगस्त में खेला जाना था, लेकिन बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन (BWF) ने कोविड-19 महामारी के कारण टूर्नामेंट को आगे बढ़ा दिया।

पिछले साल अक्टूबर में इस इवेंट का आयोजन करने की योजना थी, लेकिन ऑस्ट्रेलिया, चीनी ताइपे, थाईलैंड, इंडोनेशिया और दक्षिण कोरिया के टूर्नामेंट से हटने के बाद बीडब्ल्यूएफ ने मजबूर होकर इस इवेंट को एक साल के लिए स्थगित कर दिया।

दुनिया भर में कोविड-19 की मुश्किलों के कारण बीडब्ल्यूएफ टूर पर कई आयोजनों को रद्द या आगे बढ़ा दिया गया, टोक्यो ओलंपिक के बाद थॉमस और उबेर कप सीजन का दूसरा अंतर्राष्ट्रीय आयोजन होगा।

तो वहीं 2021 सुदीरमन कप की मेजबानी करने के लिए फिनलैंड तैयार है, जिसमें वर्ल्ड मिक्स्ड टीम चैंपियनशिप 26 सितंबर से 3 अक्टूबर तक खेली जाएगी।