मनप्रीत सिंह ने भारत की जूनियर विश्व कप टीम को दी प्रतिकूल परिस्थितियों में एकजुट रहने की सलाह

टोक्यो 2020 में भारत की कप्तानी करने वाले मनप्रीत ने युवा खिलाड़ियों को जूनियर हॉकी विश्व कप के दौरान एकजुट रहने के लिए प्रेरित किया है।

लेखक दिनेश चंद शर्मा

भारत अपने FIH जूनियर हॉकी विश्व कप खिताब के बचाव के लिए कमर कस रहा है। वहीं 41 साल के ओलंपिक पदक के सूखे को खत्म कर टोक्यो 2020 में पुरुषों की हॉकी में कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह (Manpreet Singh) ने उनसे एक टीम के रूप में एकजुट रहने की सलाह दी है, खासकर प्रतिकूल परिस्थितियां में।  

मनप्रीत ने हॉकी इंडिया की एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा, “हार—जीत खेल का हिस्सा है। लेकिन, हारने पर उंगलियां उठने लगती हैं। लेकिन, मैंने उनसे कहा कि टीम को इससे बचना चाहिए और सिर्फ अपने खेल पर फोकस करना चाहिए। एक टीम के रूप में खेलोगे, तो आपको हर मैच जीतने में मदद मिलेगी।”

भारतीय टीम का अभियान बुधवार से शुरू हो गया है। गत चैंपियन भुवनेश्वर के कलिंगा स्टेडियम में फ्रांस से भिड़ेगी। टोक्यो 2020 में खेलने वाले विवेक सागर प्रसाद (Vivek Sagar Prasad) टीम की अगुवाई करेंगे।

प्रसाद ने कहा, "सीनियर टीम के साथ रहने के दौरान, मैंने बड़े मंच से कुछ अहम सबक सीखे हैं, जैसे कि टीम सबसे पहले। मेरा काम टीम को एक साथ रखना और जितना हो सके ओलंपिक अनुभव का इस्तेमाल करना होगा।"

भारतीय जूनियर टीम बेंगलुरु में भारतीय खेल प्राधिकरण परिसर में 16-सदस्यीय मार्की इवेंट के लिए सीनियर्स के साथ प्रशिक्षण लिया है।

मनप्रीत ने कहा, "उन्होंने हमारे द्वारा खेले गए मैचों में से एक में हमें हराया। मुझे पूरा विश्वास है कि उनके पास फाइनल में पहुंचने की क्षमता है। अगर, वे पूरे टूर्नामेंट में एक टीम के रूप में खेलना जारी रखते हैं, तो वे ट्रॉफी जीत सकते हैं।”

टोक्यो 2020 भारतीय टीम के एक अन्य वरिष्ठ सदस्य, गोलकीपर पीआर श्रीजेश (PR Sreejesh) को भी उम्मीद है कि भारत खिताब को बरकरार रख सकता है। लेकिन, उन्हें घरेलू मैदान का फायदा नहीं मिल पाएगा, क्योंकि टूर्नामेंट बायो-बबल के अंदर बिना दर्शकों के खेला जाएगा।

श्रीजेश ने कहा, “टीम पिछले कुछ महीनों से बेंगलुरू में शानदार प्रदर्शन कर रही है। हाल ही में हमने उनके खिलाफ कुछ मैच खेले। वे टूर्नामेंट में भाग लेने के लिए तैयार लग रहे थे।”

उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि खिलाड़ियों को दर्शकों की भीड़ के सामने खेलने का मौका नहीं मिलेगा। वे कलिंग स्टेडियम की खूबसूरती, चीयर्स, साउंड को मिस करेंगे। फिर भी, मुझे लगता है कि माहौल उन्हें अच्छा प्रदर्शन करने में मदद करेगा और सीखने का एक बड़ा अनुभव होगा।”

भारत को पूल B में कनाडा, पोलैंड और फ्रांस के साथ रखा गया है।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स
यहां साइन अप करें यहां साइन अप करें