भारत ने मालदीव को हराकर SAFF चैंपियनशिप के फाइनल में बनाई जगह, सुनील छेत्री रहे स्टार खिलाड़ी

भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान ने मालदीव पर 3-1 से जीत दर्ज करने में दो गोल का योगदान दिया। इसी के साथ सुनील छेत्री अब महान फुटबॉल खिलाड़ी पेले की तुलना में अधिक अंतरराष्ट्रीय गोल करने वाले खिलाड़ी बन गए हैं।

लेखक रितेश जायसवाल
फोटो क्रेडिट All India Football Federation

भारत ने बुधवार को माले के नेशनल फुटबॉल स्टेडियम में मेज़बान मालदीव को 3-1 से हराकर SAFF चैंपियनशिप 2021 के फाइनल में जगह बना ली है।

भारतीय फुटबॉल टीम के लिए मनवीर सिंह (Manvir Singh) (33वें मिनट) और कप्तान सुनील छेत्री (Sunil Chhetri) (62वें, 71वें मिनट) ने गोल दागे, जबकि हाफ-टाइम की सीटी बजने से ठीक पहले अली अशफाक (Ali Ashfaq) ने पेनल्टी स्पॉट से मालदीव के लिए एकमात्र गोल किया।

इसी के साथ सुनील छेत्री 77 अंतरराष्ट्रीय गोल करने वाले महान खिलाड़ी पेले और संयुक्त अरब अमीरात के अली मबखौत के अलावा 79 गोल करने वाले इराक के हुसैन सईद को पीछे छोड़ते हुए पुरुषों के फुटबॉल में अंतरराष्ट्रीय गोल करने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट में छठे स्थान पर ला दिया है।

प्रतियोगिता के अपने अंतिम ग्रुप मुकाबले में पहुंचकर भारतीय फुटबॉल टीम को शनिवार को फाइनल में जगह बनाने के लिए एक बेहद महत्वपूर्ण जीत की जरूरत थी।

हालांकि, भारतीय टीम के लिए यह एक चुनौतीपूर्ण शुरुआत रही, क्योंकि मालदीव ने शुरू से ही गति को नियंत्रित करने की कोशिश की। जबकि भारत उन्हें नियंत्रित करने के तरीके खोजने के लिए संघर्ष करती हुई नज़र आई। सुभाशीष बोस और राहुल भेके की सेंटर-बैक जोड़ी खेल को समझने में थोड़ी धीमी रही और कहीं-कहीं पर कमज़ोर भी नज़र आई।

इसकी वजह से भारतीय खिलाड़ियों के ढ़ीले पास पर मालदीव की फुटबॉल टीम ने पलटवार किया। लेकिन मेज़बान टीम ने जो दो मौके बनाए, अली अशफाक उन्हें भुनाने में असफल रहे।

इसके बाद भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री अपनी टीम को बढ़त दिलाने के लिए आगे बढ़े। दूसरे छोर से फ्री-किक से मिली गेंद को 37 वर्षीय ने हवा में उछलकर गेंद को सिर से दिशा देने की कोशिश की, लेकिन गेंद क्रॉसबार से टकरा गई।

हालांकि, मनवीर सिंह ने जल्द ही भारत को बढ़त दिला दी। एक लम्बे पास से मिली गेंद को नियंत्रित करते हुए उन्होंने एक सटीक शॉट लगाया और गेंद सीधा नेट के ऊपरी हिस्से पर जाकर टकराई।

भारत की यह खुशी कुछ समय के लिए ही रही, क्योंकि मालदीव ने हाफ-टाइम की सीटी बजने से ठीक पहले ही मैच में वापसी कर ली। फुल-बैक प्रीतम कोटल ने एरिया के अंदर एक फाउल कर दिया, जिसे रेफरी ने पेनल्टी करार दे दिया। इस बार अली अशफाक ने कोई गलती नहीं की और भारतीय गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू को चकमा देते हुए गोल की बराबरी कर दी।

दूसरे हाफ में भारतीय फुटबॉल खिलाड़ी बेहतर फॉर्म में दिखे और उन्होंने गोल करने के कई मौके बनाकर अपने खेल से सभी को रोमांचित किया। हालांकि उनके प्लेमेकर ब्रैंडन फर्नांडेस को चोट के कारण बाहर करना पड़ा। लेकिन सुनील छेत्री मैदान पर मौजूद थे और उन्होंने टीम को बढ़त दिलाने का काम किया।

अगले गोल के लिए दो फॉरवर्ड खिलाड़ी आगे बढ़े, मनवीर सिंह ने सुनील छेत्री को एरिया के बीचो-बीच में गेंद को पास किया और उन्होंने मालदीव के गोलकीपर मोहम्मद फैसल को चकमा देते हुए गोल दाग दिया।

इसके बाद भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान ने जीत को पूरी तरह से सुनिश्चित करने के लिए अपने हेडर का इस्तेमाल करते हुए एक और शानदार गोल किया।