एक फीफा वर्ल्ड कप में सर्वाधिक गोल: उधार के जूतों के साथ स्वीडन 1958 में जस्ट फॉन्टेन ने दागे 13 गोल!

1958 फीफा वर्ल्ड कप में फ्रांस के जस्ट फॉन्टेन ने 6 मैचों में 13 गोल दागकर ऐसा रिकॉर्ड बना दिया जिसे अभी तक कोई तोड़ नहीं पाया है। यह एक संस्करण में सर्वाधिक गोल करने का रिकॉर्ड है।

लेखक शिखा राजपूत
फोटो क्रेडिट Getty Images

फ्रांस के स्ट्राइकर जस्ट फॉन्टेन ने अपने बेहतरीन खेल की बदौलत काफी शोहरत बटोरी और उनका नाम फुटबॉल के इतिहास में सुनहरे अक्षरों में हमेशा दर्ज रहेगा।

जस्ट फॉन्टेन का जन्म 18 अगस्त, 1933 को मराकेश में हुआ था। उन्होंने 17 साल की कम उम्र में मोरक्को की टीम यूएसएम कैसाब्लांका के साथ अपने फुटबॉल करियर की शुरुआत की। वह तीन साल बाद नाइस के साथ कॉन्ट्रैक्ट साइन करने के लिए फ्रांस गए और आखिरकार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लेस ब्लेस का प्रतिनिधित्व किया।

जस्ट फॉन्टेन ने 20 साल की उम्र में फ्रांस की टीम में डेब्यू किया और लक्जमबर्ग के खिलाफ हैट्रिक बनाई। इस मैच में फ्रांस ने लक्जमबर्ग को 8-0 से हराया था।

पांच साल बाद उन्होंने एक और हैट्रिक लगाकर नया इतिहास रच दिया। फीफा वर्ल्ड कप के एक संस्करण में सबसे अधिक गोल कर जस्ट फॉन्टेन ने अपने जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली।

फीफा वर्ल्ड कप में डेब्यू पर हैट्रिक

साल 1958 में अपने पहले फीफा वर्ल्ड कप के लिए फ्रांसीसी टीम में जगह बनाने के बाद जस्ट फॉन्टेन ने स्वीडन में हैट्रिक के साथ टूर्नामेंट की शानदार शुरुआत की। फ्रांस ने ग्रुप 2 के अपने पहले मैच में पराग्वे को 7-3 से मात दी।

अपने दूसरे मैच में ही फॉन्टेन एक बार फिर स्कोरशीट पर शीर्ष पर काबिज थे। शानदार खेल का मुजाहिरा करते हुए उन्होंने यूगोस्लाविया के खिलाफ मुकाबले में दो गोल किए। उन्होंने चौथे मिनट में ही फ्रांस को बढ़त दिला दी थी, लेकिन यूगोस्लाविया ने 63वें मिनट में 2-1 से बढ़त हासिल कर ली।

जस्ट फॉन्टेन ने 85वें मिनट में गोल करके स्कोर को बराबर कर दिया और और ऐसा लगने लगा कि उन्होंने फ्रांस के लिए एक अंक हासिल कर लिया, लेकिन तीन मिनट बाद ही टोडर वेसेलिनोविक ने गोल कर यूगोस्लाविया को 3-2 से मैच जीता दिया।

फ्रेंचमैन ने फ्रांस के आखिरी ग्रुप मुकाबले में फिर से गोल किया। स्कॉटलैंड के खिलाफ 2-1 की जीत में उनका गोल भी शामिल था, जिसकी बदौलत उनकी टीम नॉकआउट में जगह बनाने में कामयाब रही।

क्वार्टर-फाइनल में फ्रांस ने उत्तरी आयरलैंड को 4-0 से हराया, जिसमें फॉन्टेन ने ब्रेस जड़ा। इसके बाद सेमी-फाइनल में फ्रांस के वर्ल्ड कप के सफर को ब्राजील ने थाम दिया और उन्होंने मैच को 5-2 से जीत लिया। इस मैच में फॉन्टेन ने एक ही गोल किया, लेकिन उनका यह प्रयास जीत हासिल करने के लिए काफी नहीं था। वहीं, पेले ने सिर्फ 17 साल की उम्र में ब्राजील को जीत दिलाने के लिए हैट्रिक लगा दी थी।

शानदार अंदाज में तोड़ा रिकॉर्ड 

अब तक टूर्नामेंट में नौ गोल करने के बाद, एक फीफा वर्ल्ड कप में सबसे अधिक गोल के मौजूदा रिकॉर्ड को तोड़ने या बराबर करने के लिए जस्ट फॉन्टेन के पास सिर्फ अब तीसरे स्थान का प्लेऑफ मैच ही बचा था। 1954 में हंगरी के सैंडोर कोक्सिस ने 11 गोल की मदद से यह रिकॉर्ड कायम किया था। 

और उस दिन फ्रांस की विरोधी टीम पश्चिमी जर्मनी थी, जो 1954 फीफा वर्ल्ड कप के चैंपियन थे। यह मैच टीम के लिए काफी मुश्किल था।

हालांकि उस दिन जस्ट फॉन्टेन के पास काफी कुछ करने के लिए था। उन्होंने रिकॉर्ड की बराबरी करने के लिए पहले हाफ में दो गोल किए और 78वें मिनट में अपनी हैट्रिक पूरी करके इतिहास के पन्नों में अपना नाम हमेशा के लिए दर्ज कर दिया। इसके बाद वह यहीं नहीं रूके और इस संस्करण का अपना 12वां गोल भी दाग दिया।

फॉन्टेन, तब सिर्फ 24 साल के थे, लेकिन खेल अभी खत्म नहीं हुआ था। मैच के आखिरी मिनट में उनके चौथे गोल की बदौलत फ्रांस की टीम ने 6-3 से यह मुकाबला जीत लिया। इस तरह से फ्रांस ने फीफा विश्व कप में तीसरे स्थान पर रहते हुए अपना सफर समाप्त किया।

कुछ लोगों के लिए 13 नंबर अशुभ हो सकता है, लेकिन जस्ट फॉन्टेन के लिए यह इतिहास रचने वाला था!

1958 फीफा वर्ल्ड कप में उनके 13 गोल अगले सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड से दोगुने से अधिक भी थे। पेले और जर्मनी के हेल्मुट रहन ने छह गोल किए थे। उस समय फीफा विश्व कप में सर्वाधिक गोल करने वाले खिलाड़ी को गोल्डन बूट पुरस्कार नहीं दिया जाता था।

इससे भी खास बात यह है कि पूरे टूर्नामेंट के दौरान जस्ट फॉन्टेन के पास अपने फुटबॉल खेलने के लिए जूते भी नहीं थे और उन्होंने फॉरवर्ड स्टीफन ब्रू से एक जोड़ी जूते उधार लेकर पहने थे।

समय से पहले खेल का अंत

1958 फीफा वर्ल्ड कप में जस्ट फॉन्टेन की उल्लेखनीय उपलब्धि को फिर से दोहराने का उन्हें मौका नहीं मिला। क्योंकि चोट के कारण उन्हें चार साल बाद मजबूरन रिटायर होना पड़ा। उन्होंने फ्रांस के साथ अपने करियर का अंत सिर्फ 21 मैचों में 30 गोल के साथ किया।

अपने खेल करियर के दौरान जस्ट फॉन्टेन ने चार बार फ्रेंच फर्स्ट डिवीजन, कूप डी फ्रांस, फ्रेंच सुपर कप अपने नाम किया और यूरोपीय कप के फाइनल मुकाबले में जगह बनाई।

रिटायरमेंट के बाद जस्ट फॉन्टेन फिर से फुटबॉल का हिस्सा बने, लेकिन इस बार उन्होंने फुटबॉल मैनेजमेंट में कार्यभार संभाला। 1967 में लुचोन, पीएसजी, टूलूज और मोरक्को की राष्ट्रीय टीम की बागडोर संभालने से पहले उन्होंने फ्रांस की टीम को कोचिंग दी। उन्होंने 1981 में मैनेजमेंट के काम से भी हमेशा के लिए छुट्टी ले ली।

2004 में पेले ने फॉन्टेन को 'वन ऑफ द 100 ग्रेटेस्ट लीविंग फुटबॉलर्स के रूप में नामित किया था।

फॉन्टेन के बाद 1970 फीफा वर्ल्ड कप में सिर्फ जर्मनी के गेर्ड मुलर ने 10 गोल किए हैं। मुलर ही फुटबॉल वर्ल्ड चैंपियनशिप के एक संस्करण में 9 से अधिक गोल करने वाले खिलाड़ी हैं।

एक फीफा वर्ल्ड कप में सर्वाधिक गोल


साल खिलाड़ी देश गोल की संख्या
1958 जस्ट फॉन्टेन फ्रांस
13
1954 सैंडोर कोक्सिस हंगरी 11
1970 गेर्ड मुलर जर्मनी 10
1966
1950
यूसेबिओ
एडेमिर
पुर्तगाल
ब्राजील
9
1930
2002
गिलर्मो स्टेबल
रोनाल्डो
अर्जेंटीना
ब्राजील
8

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स