पुरुष जूनियर हॉकी विश्व कप: किस टीम के नाम है सबसे ज्यादा खिताब ?

भारत 24 नवंबर से शुरू हो रहे पुरुष जूनियर हॉकी विश्व कप के आगामी संस्करण में अपने खिताब के बचाव के लिए मैदान में उतरेगा।

लेखक दिनेश चंद शर्मा

दो बार की चैंपियन भारत 24 नवंबर से भुवनेश्वर के कलिंगा स्टेडियम में होने वाले 2021 पुरुष जूनियर हॉकी विश्व कप (Men's Junior Hockey World Cup) में अपने खिताब का बचाव करेगी।

भारत को पूल B में कनाडा, फ्रांस और पोलैंड के साथ शामिल किया गया है। उनका अभियान टूर्नामेंट के पहले दिन फ्रांस की टीम के खिलाफ शुरू होगा।

आइए, नजर डालते हैं कि प्रसिद्ध जूनियर इवेंट में सबसे सफल टीमें कौन सी हैं:

भारत ने कितनी बार पुरुष जूनियर हॉकी विश्व कप का खिताब जीता है?

भारत दो बार जूनियर हॉकी विश्व कप जीत चुका है। उन्होंने पहली जीत 2001 में हासिल की, जब भारत ने खिताब जीतने के लिए एकतरफा फाइनल मुकाबले में अर्जेंटीना को 6-1 से हराया।

वहीं, फाइनल मुकाबले में बेल्जियम को 2-1 के कम अंतर से हराने के बाद, 2016 में भारत को दूसरी खिताबी जीत मिली।

यह भारत के लिए अपने पदक तालिका में एक और पदक जोड़ने और अपने खिताब का बचाव करने का सुनहरा अवसर साबित होगा। क्योंकि, अगला संस्करण उनके घरेलू मैदान पर आयोजित किया जाएगा। दो खिताबों के साथ भारत प्रतियोगिता में दूसरी सबसे सफल टीम है।

किस टीम ने जीते सबसे अधिक खिताब ?

जर्मनी पुरुष जूनियर हॉकी विश्व कप में छह बार खिताब जीतने वाली सबसे सफल टीम है।

1982

पश्चिम जर्मनी को पूल B में भारत, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, केन्या और सिंगापुर के साथ रखा गया था। जर्मनों ने सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए शुरुआती राउंड में मैचों में से चार जीते और एक को ड्रॉ किया।

जर्मनी की टीम ने सेमीफाइनल में मलेशिया (4-2) और फाइनल में ऑस्ट्रेलिया (4-1) को हराकर पहला खिताब जीता।

1985

पश्चिम जर्मनी को पूल A में नीदरलैंड, भारत, जिम्बाब्वे, चिली, बेल्जियम, अर्जेंटीना के साथ रखा गया था। उन्होंने सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए शुरुआती राउंड के मैचों में से पांच जीते और एक में हार गए।

जर्मनी की टीम ने सेमीफाइनल में पाकिस्तान (4-2) और फाइनल में नीदरलैंड (4-1) को हराया।

1989

1989 में अपनी पदक तालिका में तीसरा खिताब जोड़ते हुए जर्मनी ने विश्व जूनियर इवेंट में अपने दबदबे पर मुहर लगा दी।

पश्चिम जर्मनी को पूल A में सोवियत संघ, चीन, कनाडा, न्यूजीलैंड और अमेरिका के साथ रखा गया था। वे शुरुआती राउंड के मैचों में से चार में जीत और एक ड्रॉ करके सेमीफाइनल में पहुंचे।

जर्मनी ने सेमीफाइनल में नीदरलैंड (2-1) और फाइनल में दक्षिण कोरिया (2-0) को हराकर अपना तीसरा खिताब जीता।

1993

जर्मनी ने पूल A में नीदरलैंड, इंग्लैंड, क्यूबा, मिस्र और मलेशिया के साथ प्रतियोगिता शुरू की। जर्मनों ने प्रारंभिक राउंड के चार मैच जीते, लेकिन इंग्लैंड के खिलाफ मैच ड्रॉ रहा और पूल की सर्वश्रेष्ठ टीम के रूप में सेमीफाइनल में पहुंचे।

जर्मनी ने सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया (2-0) और फाइनल में पाकिस्तान (3-1) को हराया था।

2009

जर्मनी को पूल B में ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका, जापान और चिली के साथ रखा गया था। जर्मनी ने शुरुआती राउंड में तीन मैच जीते और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ड्रा करके पदक राउंड में दूसरी सर्वश्रेष्ठ टीम के रूप में आगे बढ़ी।

जर्मनी ने अर्जेंटीना को हराया और सेमीफाइनल में प्रवेश करने के लिए नीदरलैंड के खिलाफ ड्रॉ किया।

उन्होंने फाइनल मुकाबले में नीदरलैंड (3-1) को मात देने से पहले सेमीफाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया (3-2) को हराया।

2013

यूरोपीय दिग्गज बेल्जियम के खिलाफ अपना उद्घाटन मैच हार गए, लेकिन जोरदार वापसी करते हुए पाकिस्तान और मिस्र को हराया।

जर्मनी ने क्वार्टर फाइनल में ऑस्ट्रेलिया (4-3), सेमीफाइनल में नीदरलैंड (5-3) और फ्रांस (5-2) को हराकर खिताब जीता था।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स
यहां साइन अप करें यहां साइन अप करें