पुरुषों की एशियन चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी: भारत ने पाकिस्तान को 3-1 से हराया, शीर्ष स्थान पर जमाया कब्जा

पेनल्टी कॉर्नर की मदद से हरमनप्रीत सिंह ने दो गोल किए और आकाशदीप सिंह के एक गोल की मदद से भारत ने पाकिस्तान पर आसान जीत दर्ज की।

लेखक रौशन कुमार वर्मा
फोटो क्रेडिट Hockey India

बांग्लादेश के ढाका में आयोजित पुरुषों की एशियन चैंपियंस ट्रॉफी 2021 में शुक्रवार को अपना तीसरा मैच खेलते हुए भारतीय टीम ने चिर-प्रतिद्वंदी पाकिस्तान को 3-1 से हराया।

भारत के लिए हरमनप्रीत सिंह और आकाशदीप सिंह ने गोल दागे, जिसकी मदद से भारत तीन मैच खेलने के बाद सात अंकों के साथ शीर्ष पर पहुंच गया है।

इससे पहले भारत ने इस चैंपियनशिप में साउथ कोरिया के साथ 2-2 से ड्रॉ खेला था जबकि बांग्लादेश को 9-0 से करारी शिकस्त दी थी। अन्य मैचों के ड्रॉ होने के अलावा टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक विजेता टीम ही अभी तक टूर्नामेंट में जीत दर्ज कर सकी है।

भारत और पाकिस्तान पुरुषों की एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी के संयुक्त गत चैंपियन हैं।

रैंकिंग में दुनिया भर में पांचवें नंबर पर काबिज़ भारतीय हॉकी टीम ने पहले क्वार्टर में अपना दबदबा बनाए रखा और कई सर्किल को भी तोड़ा।  भारतीय टीम के प्रयास ने उन्हें खेल के आठवें मिनट में एक पेनल्टी कॉर्नर दिलाया जिसे उपकप्तान हरमनप्रीत सिंह ने भारत को बढ़त दिलाने के लिए निचले-दाएं कॉर्नर की ओर से गोल में तब्दील कर दिया।

भारत के पास बढ़त को दोगुना करने का मौका उस समय आया जब सुमित कुमार ने गोल पर शॉट लगाया लेकिन ललित उपाध्याय उसे डिफ्लेक्ट करने में नाकाम रहे।

खेल का दूसरा क्वार्टर काफी शांत रहा जिसमें दोनों टीमों की ओर से हमले किए गए लेकिन वो गोल में तब्दील नहीं हो सके।

तीसरे क्वार्टर के अंतिम क्षणों में मैच में उस वक़्त फिर से जान आ गई जब भारतीय टीम ने पाकिस्तान पर दबाव को बढ़ाया।

इसका फायदा भारतीय टीम को एक और गोल के रुप में मिला जब भारत के सबसे आक्रामक खिलाड़ी सुमित कुमार ने बायीं ओर से ड्रिबल किया और आकाशदीप सिंह ने उसे गोल में तब्दील करते हुए भारत को 2-0 की बढ़त दिलाई ।

भारत की ओर से दूसरे गोल के तीन मिनट बाद पाकिस्तान ने भी जवाबी गोल दागा। दायीं ओर से एक गेंद ने भारतीय डिफेंस को खोल दिया जिसे जुनैद मंजूर ने गोल में तब्दील करते हुए गोल के अंतर को आधा किया।

टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक विजेता टीम ने चौथे क्वार्टर में एक बार फिर से दबदबा बनाया लेकिन वो किसी भी मौके को भुना पाने में नाकाम रहे। भारतीय कस्टोडियन सूरज करकेरा के प्रयासों के कारण पाकिस्तान की टीम कुछ जवाबी हमलों तक ही सीमित रह गई और कोई भी गोल नहीं कर सकी।

अंत में खेल में महज सात मिनट बचे थे तभी भारत को एक और पेनल्टी कॉर्नर मिला और एक बार फिर से हरमनप्रीत सिंह ने इस मौके को गोल में बदल दिया जिसके साथ ही भारत ने 3-1 की बढ़त बना ली।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स