मेंस एशियन चैंपियंस ट्राफी हॉकी: भारतीय टीम ने जापान को 6-0 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई

हरमनप्रीत सिंह ने पेनल्टी कॉर्नर के जरिए दो गोल किए। भारतीय पुरुष हॉकी टीम सेमीफाइनल में जापान के खिलाफ मैदान पर उतरेगी।

लेखक रौशन कुमार
फोटो क्रेडिट Hockey India

बांग्लादेश के ढाका में आयोजित मेंस एशियन चैंपियंस ट्राफी हॉकी में रविवार को भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने जापान को ग्रुप के आखिरी मुक़ाबले में 6-0 से हराकर शीर्ष पर पहुंची।

भारतीय टीम के पेनल्टी कॉर्नर स्पेशलिस्ट हरमनप्रीत सिंह ने पेनल्टी कॉर्नर के जरिए दो शानदार गोल किए, जबकि दिलप्रीत सिंह, जरमनप्रीत सिंह, सुमित और शमशेर सिंह ने एक-एक गोल किए।

भारतीय टीम की इस टूर्नामेंट में यह लगातार तीसरी जीत है। कोरिया के खिलाफ पहला मैच 2-2 से ड्रा रहने के बाद, टोक्यो ओलंपिक के ब्रॉन्ज मेडल विजेता ने मेजबान बांग्लादेश को एकतरफा मुकाबले में 9-0 से हराया उसके बाद चिर-प्रतिद्वंदी पाकिस्तान पर 3-1 से जीत दर्ज की।

ग्रुप में चारों मैच खेलने के बाद भारतीय टीम के दस अंक हैं अब वह मंगलवार को सेमीफाइनल में जापान से भिड़ेगी।

जापान के खिलाफ भारतीय टीम ने आक्रमक शुरुआत किया, खेल के दूसरे मिनट में ही भारतीय खिलाड़ी जापान के घेरे में पहुंच गए लेकिन जापान की 4-4-2 की डिफेंस ने भारतीय खिलाड़ियों को गोल नहीं करने दिया।

मनप्रीत की अगुवाई वाली भारतीय टीम ने दो पेनल्टी कॉर्नर भी जीते लेकिन उसे गोल में तब्दील करने में नाकामयाब रही।।

एशियन चैंपियन जापान की टीम ने भी भारतीय टीम पर अटैक किया और पेनल्टी कॉर्नर जीतने में कामयाब रही लेकिन जापानी खिलाड़ी शोटा यामादा पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील नहीं कर पाए।

हरमनप्रीत ने पेनल्टी कॉर्नर के जरिए गोल कर भारत का खाता खोला।

पहले क्वार्टर के अंत से पहले भारत का स्कोर 2-0 हो सकता था लेकिन ललित उपाध्याय की कोशिश को जापानी गोलकीपर ताकाशी योशिकावा ने रोक दिया।

भारतीय टीम ने दूसरे क्वार्टर की शुरुआत उसी जोश से की और गोल कर स्कोर को 2-0 कर दिया। हाफ वे लाइन से भारतीय खिलाड़ियों ने शानदार खेल दिखाते हुए जापान के घेरे के पास मौजूद दिलप्रीत को गेंद पास किया और उन्होंने बिना मौके को गंवाए शानदार गोल कर दिया।

जापान के लिए केंटा टानाका एकमात्र खिलाड़ी रहे जिन्होंने गोल करने के लिए लगातार प्रयास किया लेकिन टीम से उन्हें समर्थन नहीं मिला जिसके चलते वह भारतीय डिफेंडरों को पार नहीं कर पाए।

पहले हाफ के अंत में खेल धीमा पड़ गया और भारतीय टीम 2-0 से आगे रही।

तीसरे क्वार्टर के शुरुआत में ही जरमनप्रीत ने घेरे से जापान के गोल पोस्ट के टॉप राइट कॉर्नर में शॉट लगाकर शानदार गोल किया और स्कोर को 3-0 कर दिया।

भारतीय कस्टोडियन सुरज कुकरेजा ने पूरे मैच में बेहतरीन प्रदर्शन किया और जापान को एक भी गोल नहीं करने का मौका नहीं दिया।

फाइनल और अंतिम क्वार्टर के शुरुआत में ही जापान के एक खिलाड़ी बाहर हो गए, भारतीय टीम ने इसका फायदा उठाते हुए जापान पर और दबाव बनाया और चौथा गोल कर दिया। इस गोल को सुमित ने गोल पोस्ट के पास गेंद को फाइनल टच देकर गोल कर दिया।

4-0 से आगे होने के बावजूद भारतीय टीम ने अपना दबाव कम नहीं होने दिया और जापान को बैकफुट पर रखते हुए और दो गोल कर दिया।

हरमनप्रीत ने पेनल्टी कॉर्नर के जरिए मैच का पांचवां गोल किया वहीं शमशेर ने शिलानंद लाकड़ा के साथ मिलकर एक और गोल किया और भारत के स्कोर को 6-0 कर दिया।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स