साइना नेहवाल से लेकर बजरंग पुनिया तक, खिलाड़ी जिन्होंने खेल में ही चुना अपना हमसफर

साइना नेहवाल और पी कश्यप ने और बजरंग पुनिया और संगीता फोगाट के अलावा दिवंगत मिल्खा सिंह ने अपने जीवनसाथी के रूप में एथलीट को ही चुना।

लेखक मनोज तिवारी

कई हाई प्रोफाइल भारतीय खिलाड़ी ऐसे रहे हैं जिन्होंने स्पोर्ट्स से जुड़े एथलीटों से ही शादी रचाई है। दरअसल, वे एक दूसरे के पेशे की जरूरतों को समझते हैं, इसलिए इन एथलीटों को शादी करने में ज्यादा दिक्कतें नहीं आईं। स्पोर्ट्स कपल का मुख्य उद्देश्य राष्ट्र के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होता है, क्योंकि उनके लिए यही सर्वोपरि है।
इस खास पेशकश में हमने ऐसे कई भारतीय एथलीटों की लिस्ट तैयार की है, जिन्होंने स्पोर्ट्स से जुड़े ही हमसफर चुने हैं।

साइना नेहवाल - पी कश्यप

साइना नेहवाल और पारुपल्ली कश्यप की प्रेम कहानी का मुख्य बिंदु बैडमिंटन खेल है। भारत के सबसे प्रमुख खेल जोड़ों में से एक भारतीय बैडमिंटन स्टार साइना नेहवाल और पारुपल्ली कश्यप ने लंबे समय तक एक दूसरे को डेट किया और उसके बाद साल 2018 में शादी कर ली।

आधुनिक भारतीय बैडमिंटन की पहली स्टार, साइना नेहवाल ने बीजिंग 2008 में अपने पहले ओलंपिक में क्वार्टर फाइनल में पहुंचने के साथ ही भारत में इस खेल में क्रांति की शुरुआत की।

चार साल बाद उन्होंने लंदन 2012 में अपने कांस्य पदक के साथ ओलंपिक पोडियम पर खड़ी होने वाली पहली भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी बन गईं और कुछ साल बाद बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन ने उन्हें दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी घोषित किया।

भारतीय बैडमिंटन को आगे बढ़ाने में एक और नाम परुपल्ली कश्यप का भी रहा है, जो 2010 राष्ट्रमंडल खेलों में कांस्य पदक जीतने में सफल रहे थे। साल 2012 के लंदन ओलंपिक में वह निलुका करुणारत्ने को हराकर क्वार्टर फाइनल में पहुंचने वाले भारत के पहले पुरुष शटलर बने थे। 

परुपल्ली कश्यप 2014 के राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर 32 वर्षों में ऐसा करने वाले पहले पुरुष भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी बने थे।

अंजू बॉबी जॉर्ज - रॉबर्ट बॉबी जॉर्ज

केरल की एथलीट और ओलंपियन अंजू बॉबी जॉर्ज लॉन्ग जंप में नाम कमाने से पहले राष्ट्रीय स्तर पर हर्डल, रिले, हाई जंप और ट्रिपल जंप में मेडल जीत चुकी थीं। साल 2002 में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में उन्होंने कांस्य पदक जीता और इसी वर्ष एशियाई खेलों में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया। 

यही नहीं वह वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2003 में मेडल जीतने वाली पहली भारतीय एथलीट बनीं। लेकिन उनके करियर का पीक साल 2005 में देखने को मिला था, जब उन्होंने वर्ल्ड एथलेटिक्स में गोल्ड मेडल जीता था। 

वहीं उनके पति रॉबर्ट ट्रिपल जंप में पूर्व नेशनल चैंपियन रहने के साथ अंजू के कोच भी रहे हैं। अंजू की सफलता में रॉबर्ट की भूमिका बेहद अहम रही है, वह द्रोणाचार्य अवार्ड से सम्मानित हो चुके हैं।

पुलेला गोपीचंद - पीवीवी लक्ष्मी

आंध्र प्रदेश की पूर्व बैडमिंटन खिलाड़ी पुलेला गोपीचंद और पीवीवी लक्ष्मी वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर एक का तमगा हासिल कर चुके हैं। गोपीचंद के करियर की सबसे बड़ी उपलब्धि 2001 में आई जब उन्होंने ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप जीती। गोपीचंद महान प्रकाश पादुकोण के बाद यह उपलब्धि हासिल करने वाले केवल दूसरे भारतीय बने थे। 

उन्हें उसी वर्ष राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित किया गया था और वह अर्जुन पुरस्कार और द्रोणाचार्य पुरस्कार दोनों जीतने वाले एकमात्र व्यक्ति हैं। उन्हें पद्म श्री और पद्म भूषण से भी नवाजा जा चुका है।

गोपीचंद की पत्नी पीवीवी लक्ष्मी पूर्व राष्ट्रीय चैंपियन हैं और 1992 के खेलों में अपने देश का प्रतिनिधित्व करते हुए ओलंपिक में बैडमिंटन खेलने वाली वह पहली भारतीय महिला हैं। वह 1996 के अटलांटा ओलंपिक में भारत की तरफ से बैडमिंटन कोर्ट में उतरीं थीं। पुलेला गोपीचंद और पीवीवी लक्ष्मी ने 5 जून 2002 को शादी कर ली थी।

मिल्खा सिंह - निर्मल कौर

ओल्ड इज गोल्ड! भारत के सबसे महान खिलाड़ी मिल्खा सिंह और पूर्व वॉलीबॉल खिलाड़ी निर्मल कौर ने साल 1962 में शादी रचाई थी। मिल्खा सिंह और निर्मल कौर को भारत का पहला स्पोर्ट्स कपल माना जाता है।

फ्लाइंग सिख के नाम से मशहूर रहे मिल्खा सिंह भारतीय खेल के आइकन माने जाते हैं। साल 1960 के 400 मीटर फाइनल में भारत के लिए ओलंपिक पदक जीतने के वह बहुत करीब पहुंच गए थे। वह वर्ष 1958 में राष्ट्रमंडल खेलों में व्यक्तिगत एथलेटिक्स स्वर्ण जीतने वाले पहले भारतीय पुरुष एथलीट थे। 

उन्होंने 1958 और 1962 के एशियाई खेलों में भी स्वर्ण पदक जीता। उन्हें भारत का अब तक का सबसे बेहतरीन एथलीट करार दिया जाता है। उनके योगदान के लिए उन्हें भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म श्री से सम्मानित किया गया है।

निर्मल कौर भारतीय महिला वॉलीबॉल टीम की पूर्व कप्तान थीं और उनकी मुलाकात 1957 में श्रीलंका में मिल्खा सिंह से हुई थी। इस जोड़े ने साल 1962 में शादी की और पेशेवर गोल्फर जीव मिल्खा सिंह उनके बेटे हैं।

हीना सिद्धू - रौनक पंडित

हीना सिद्धू और रौनक पंडित की जोड़ी भारत की सबसे प्रसिद्ध शूटिंग जोड़ी है और उन्होंने 7 फरवरी, 2013 को शादी कर ली। दोनों खेल की पृष्ठभूमि वाले परिवार से आते हैं और इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि उन्होंने इस खेल को अपनाया और उन्होंने इसमें शानदार प्रदर्शन भी किया।

कॉमनवेल्थ गेम्स 2006 में रौनक ने 25 मीटर के डबल्स पिस्टल में समरेश जंग के साथ मिलकर गोल्ड मेडल जीता था। जबकि 10 मीटर एयर पिस्टल में उन्होंने सिल्वर मेडल जीता था। वहीं हीना सिद्धू ने साल 2010 के कॉमनवेल्थ गेम्स में महिला डबल्स में अन्नु राज सिंह के साथ गोल्ड और सिंगल्स में रजत पदक जीता था। यही नहीं उन्होंने साल 2013 में म्यूनिख में हुए आईएसएसएफ वर्ल्ड कप में गोल्ड मेडल जीता था। 

रौनक फिलहाल कोचिंग में अपना करियर बना चुके हैं और कई मायनों में हीना की उपलब्धियां उनसे अधिक रही हैं।

बजरंग पुनिया- संगीता फोगाट

भारतीय रेसलिंग के मौजूदा समय के चेहरे बजरंग पुनिया ने फोगाट सिस्टर्स की संगीता फोगाट से साल 2020 में शादी की है। पेशे से संगीता भी रेसलर हैं और उनकी मुलाकात बजरंग से सोनीपत के रेसलिंग कैंप में हुई थी। 

टोक्यो ओलंपिक में बजरंग पुनिया ने कांस्य पदक जीता था। इसके अलावा वह वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में भी मेडल जीत चुके हैं। जबकि संगीता बड़े स्तर उतनी सफल नहीं रही हैं। 

साक्षी मलिक- सत्यव्रत कादियान

रियो में हुए साल 2016 के ओलंपिक में साक्षी मलिक ने कांस्य पदक जीता था। उनके इस पदक ने भारतीय फ्रीस्टाइल कुश्ती का चेहरा बदलकर रख दिया। साक्षी ओलंपिक में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान हैं। 

ओलंपिक में अपनी जीत के बाद, साक्षी ने भारतीय पहलवान सत्यव्रत कादियान से अपनी शादी की घोषणा की। दोनों ने अप्रैल 2017 में हरियाणा के रोहतक में शादी के बंधन में बंध गए। इस जोड़े ने एक भव्य शादी की थी जिसमें भारतीय खेल और राजनीति की प्रतिष्ठित हस्तियों ने भाग लिया था।

सत्यव्रत कादियान भी रेसलर हैं और उन्होंने कई बड़े टूर्नामेंट में हैवीवेट रेसलिंग में भारत का प्रतिनिधित्व किया है। साल 2016 के रियो ओलंपिक में वह क्वालीफाई करने से चूक गए थे, हालांकि अभी तक वह कोई बड़ा मेडल जीतने में सफल नहीं हुए हैं। 

गीता फोगाट - पवन कुमार

गीता फोगाट भारत की पहली महिला पहलवान हैं, जिन्होंने 2010 में राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीता था। आमिर खान स्टारर फिल्म दंगल दुनिया की नंबर एक पहलवान बनने की उनकी यात्रा पर आधारित थी। गीता फोगाट साल 2016 में एक पारंपरिक समारोह में साथी पहलवान पवन कुमार के साथ शादी के बंधन में बंध गई। 

यह दोनों साल 2016 में ही मिले और तुरंत उन्होंने शादी करने का फैसला किया। दोनों कपल का एक बेटा अर्जुन भी है। वहीं पवन कुमार भी रेसलिंग वर्ल्ड में भारत का प्रतिनिधित्व करते रहे हैं। लेकिन अभी तक उनके हाथ कोई बड़ा मेडल नहीं लगा है।

मंजीत कौर - गुरविंदर सिंह चांडी

जालंधर से ताल्लुक रखने वाले इस कपल ने ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व किया है। गुरविंदर सिंह ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर साल 2008 में डेब्यू किया था। एशियाई खेल साल 2014 में वह उस टीम का हिस्सा थे, जिसने फाइनल में पाकिस्तान को हराकर 32 वर्ष बाद गोल्ड मेडल जीता था। इसके अलावा वह कॉमनवेल्थ गेम्स 2014 में रजत पदक जीतने वाली टीम का भी हिस्सा थे।   

वहीं मंजीत कौर का करियर भी बेहद शानदार रहा है, साल 2006 और 2010 के एशियाई खेलों में उन्होंने गोल्ड मेडल जीता था। यही नहीं उन्होंने 400 मीटर स्प्रिंट में 50.05 सेकंड का समय निकालकर राष्ट्रीय रिकॉर्ड भी स्थापित किया था। जो 10 वर्ष तक बरकरार रहा था। मंजीत साल 2010 के कॉमनवेल्थ गेम्स में 4X400 मीटर के रिले रेस में भी विजेता रही थीं। 

इसके अलावा वह साल 2012 के ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं। इन दोनों ने साल 2015 में शादी रचाई थी।

राजपाल सिंह - अवनीत कौर

भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान राजपाल सिंह और निशानेबाज अवनीत कौर साल 2011 में शादी के बंधन में बंध गए थे। राजपाल सिंह साल 2001 में हुए यूथ एशिया कप में प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट चुने गए थे। उनकी कप्तानी में भारत साल 2010 में सुल्तान अजलान शाह कप में संयुक्त विजेता रहा था। जबकि उन्हीं के नेतृत्व में भारत एशियाई मेंस हॉकी चैंपियंश ट्रॉफी 2011 का विजेता बना था। 

वहीं अवनीत कौर ने साल 2006 के कॉमनवेल्थ गेम्स में 10 मीटर डबल्स राइफल में तेजस्वीनी सावंत के साथ मिलकर गोल्ड मेडल और सिंगल्स में सिल्वर मेडल जीता था। साल 2008 के ओलंपिक में वह भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली पंजाब की पहली महिला निशानेबाज बनीं थीं।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स