KT Irfan को टोक्यो 2020 में अतीत की बुरी यादों को मिटाने की उम्मीद

Irfan अपने दूसरे ओलंपिक में सफलता की उम्मीद कर रहे हैं। 

लंदन 2012 से टोक्यो 2020 तक की यात्रा भारतीय रेसवॉकर KT Irfan के लिए काफी मुश्किल रही है। लेकिन, 31 वर्षीय एथलीट 23 जुलाई से शुरू होने वाले टोक्यो खेलों में अतीत की बुरी यादों को मिटाने की उम्मीद कर रहे हैं।

Irfan ने लंदन ओलंपिक खेलों में पदार्पण पर सभी को प्रभावित किया था। वह 20 किमी पुरुषों की रेसवॉक में 1:20:21 के भारतीय राष्ट्रीय रिकॉर्ड समय के साथ 10वें स्थान पर रहे थे। बड़ी सफलता के लिए सहारा मिलने के बजाय उन्हें चोटों और दुर्भाग्य ने घेरे रखा।

भले ही उन्होंने रियो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर लिया, लेकिन 2016 में स्ट्रेस फ्रैक्चर के कारण वे यात्रा नहीं कर सके। दो साल बाद, उन्हें राष्ट्रमंडल खेलों को छोड़ना पड़ा और 2018 में एशियाई खेलों में उन्हें तकनीकी रूप से अयोग्य घोषित कर दिया गया।

लेकिन, आखिरकार केरल के मालापुरम के एथलीट चल पड़ें है। वह टोक्यो 2020 के लिए स्थान पक्का करने वाले पहले भारतीय एथलीट थे।

Irfan ने जापान में 2019 एशियन रेस वॉकिंग चैंपियनशिप में 1:20:57 का समय लेकर क्वालीफाइंग मार्क को पार किया था।

Irfan ने एशियन रेस वॉकिंग चैंपियनशिप में चौथा स्थान हासिल करने के बाद न्यू इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “पिछले दो वर्षों में, बहुत सी चीजें गलत हुईं। मैंने उन परिस्थितियों का सामना किया, जिनका मैं आदी नहीं था। यह आसान नहीं था, लेकिन मैं धीरे-धीरे अपने पुराने स्तर पर पहुंच रहा हूं। अधिक मेहनत और उचित आराम के साथ मैं इसे बेहतर कर सकता हूं।"

उसके पास न केवल मुकाबलों के घावों के निशान हैं, बल्कि अनुभव भी है। Irfan का मानना है कि अगर उन्हें टोक्यो खेलों में पदक की दौड़ में रहना है, तो तकनीक महत्वपूर्ण होगी।

उन्होंने अप्रैल 2020 में द टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, "रेस वॉकिंग एक बहुत ही तकनीकी आयोजन है। आपकी तकनीक ही है, जो पदक जीतने में मदद करती है।"

उन्होंने कहा, "जब मैं लंदन ओलंपिक में गया था, तो मैं 15 किलोमीटर तक चौथे और 5वें स्थान पर था, लेकिन अंतिम पांच किलोमीटर में (तकनीक और फिटनेस) में कमी रही थी।"

“मुझे लंदन में सीखने का अच्छा अनुभव था और मैंने इस अवधि में खुद को तैयार किया है और अपनी गलतियों से सीखा है। पदक मुझसे ज्यादा दूर नहीं था।”

रियो में Wang Zhen ने पुरुषों की 20 किमी रेसवॉक में 1:19:14 के समय के साथ स्वर्ण पदक जीता, जबकि ऑस्ट्रेलिया के Dane Bird-Smith ने 1:19:37 समय के साथ कांस्य पदक जीता। अगर Irfan को टोक्यो में पोडियम पर पहुंचना है, तो उन्हें अपने व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ में एक मिनट से ज्यादा का समय बचाना होगा।

अनुभवी भारतीय रेसवॉकर बेंगलुरु में भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) के उत्कृष्टता केंद्र में प्रशिक्षण ले रहे हैं।

उन्होंने कहा, "मेरा लक्ष्य 1:19 के समय को छूना है और मुझे यकीन है कि मैं ऐसा करूंगा।"

टोक्यो 2020 में कब एक्शन में नजर आएंगे KT Irfan ?

KT Irfan गुरुवार 5 अगस्त को पुरुषों की 20 किमी रेसवॉक में मुकाबला करेंगे।