डेनमार्क ओपन बैडमिंटन 2021 के क्वार्टर-फाइनल में पहुंचीं पीवी सिंधु

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी ने अपने दूसरे राउंड के मुकाबले में थाईलैंड की बुसानन ओंगबामरुंगफान को 21-16, 12-21, 21-15 से हराया।

लेखक लक्ष्य शर्मा
फोटो क्रेडिट Badmintonphoto | Courtesy of BWF

भारतीय बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु (PV Sindhu) ने गुरुवार को थाईलैंड की बुसानन ओंगबामरुंगफान (Busanan Ongbamrungphan) पर 21-16, 12-21, 21-15 से जीत के साथ डेनमार्क ओपन 2021 के वूमेंस सिंगल्स के क्वार्टर-फाइनल में जगह बना ली है।

अपने थाई प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ 12-1 से जीत-हार के एक शानदार रिकॉर्ड के साथ इस मैच में उतरी पीवी सिंधु ने अच्छी शुरुआत की और अपने प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ कुछ अच्छे शाट्स लगाए। इसकी बदौलत पहले गेम के हाफ टाइम तक उन्होंने 11-2 की बढ़त बना ली। 

हालांकि ओंगबामरुंगफान ने ब्रेक के बाद पीवी सिंधु को पूरी टक्कर दी लेकिन दो बार की ओलंपिक पदक विजेता ने मैच में 1-0 की बढ़त बनाकर ही दम लिया।

दूसरे गेम में थाई शटलर ने आक्रामक शॉट्स का सहारा लेकर पीवी सिंधु को काफी परेशान किया।

ओंगबामरुंगफान को उनकी इस अप्रोच का फायदा भी मिला और उन्होंने मिड गेम ब्रेक तक 11-5 की बढ़त हासिल कर ली। जिसके बाद उन्हें गेम जीतने में ज्यादा समय नहीं लगा।

अब मैच निर्णायक मोड़ पर पहुंच गया था। फाइनल गेम में पीवी सिंधु अपनी विरोधी के खिलाफ भारी पड़ी। फाइनल में सिंधु ने ओंगबामरुंगफान को मौका ही नहीं दिया और 21-15 से ना केवल तीसरा गेम जीता बल्कि मैच भी अपने नाम कर लिया

पीवी सिंधु सेमीफाइनल में दक्षिण कोरिया की एएन सेयॉन्ग (AN Seyoung) से भिड़ेंगी, जो मौजूदा विश्व नंबर 8 हैं।

इससे पहले किदांबी श्रीकांत विश्व के नंबर एक जापान के केंटो मोमोटा (Kento Momota) से 23-21, 21-9 से हारकर मेंस सिंगल्स इवेंट से बाहर हो गए थे। जापानी शटलर के खिलाफ श्रीकांत की यह लगातार 10वीं हार थी।

पिछले पांच साल से जापानी खिलाड़ी के खिलाफ जीत हासिल करने में असफल रहे किदांबी श्रीकांत मोमोटा के बाद इस टूर्नामेंट में जीत के दावेदार भी माने जा रहे थे।

हालांकि, भारतीय शटलर ने पॉजीटिव शुरुआत की। भारतीय खिलाड़ी ने केंटो मोमोटा के कमजोर बैकहैंड का फायदा उठाया और जल्दी ही उन्होंने 9-2 की बढ़त बना ली।

किदांबी श्रीकांत ने एक समय 15-8 की बढ़त बना ली थी लेकिन जल्दी ही उनकी छोटी-छोटी गलतियां उन्हें भारी पड़ीं। जापानी खिलाड़ी ने इसके बाद शानदार प्रदर्शन करते हुए 1-0 की बढ़त बना ली।

पहले गेम के उलट केंटो मोमोटा ने अपने प्रतिद्वंद्वी को दूसरे गेम में कोई मौका ही नहीं दिया। उन्होंने 43 मिनट में मैच को खत्म कर किदांबी का सफर रोक दिया।

ध्रुव कपिला (Dhruv Kapila) और एन सिक्की रेड्डी (N Sikki Reddy) की भारतीय मिश्रित युगल जोड़ी भी हांगकांग के चुन मान तांग (Chun Man Tang) और यिंग सुएत (Ying Suet Tse) त्से से 21-17, 19-21, 21-11 से हार के बाद क्वार्टर-फाइनल में जगह बनाने में विफल रही।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स
यहां साइन अप करें यहां साइन अप करें