डेविस कप टाई मुकाबले से पहले भारत के नंबर 1 प्रजनेश गुणेश्वरन ने कहा- 'सीजन के उलटफेर की उम्मीद'

गुणेश्वरन कलाई की चोटों से वापस करने के बाद फिनलैंड के खिलाफ भारतीय चुनौती का नेतृत्व करने के लिए उत्सुक हैं।  

लेखक दिनेश चंद शर्मा

सीज़न के दौरान कलाई की चोट से जूझने के बाद भारत के नंबर 1 प्रजनेश गुणेश्वरन (Prajnesh Gunneswaran) उम्मीद कर रहे हैं कि डेविस कप वीकेंड किस्मत में बदलाव लाएगा। भारत 17-18 सितंबर को एस्पू मेट्रो एरिना में वर्ल्ड ग्रुप I के मुकाबले में फिनलैंड से भिड़ेगा। 

31 वर्षीय गुणेश्वरन शुक्रवार को फिनलैंड के नंबर 2 ओटो वर्तानेन (Otto Virtanen) के खिलाफ टाई का पहला मैच खेलेंगे। वहीं, रामकुमार रामनाथन (Ramkumar Ramanathan) इसी दिन के दूसरे एकल में दुनिया के 66वें नंबर के खिलाड़ी एमिल रुसुवुरी (Emil Russuvuori) से भिड़ेंगे। 

गुणेश्वरन ने Olympics.com को बताया, "इस साल मुझे बहुत सारी शारीरिक समस्याएं हुई हैं। कलाई की परेशानी बार-बार होती है। लेकिन, यह खेल का हिस्सा है। आपको बस यह पता लगाना है कि कैसे इससे निपटना है। कभी-कभी इससे छुटकारा पाने के लिए ब्रेक लेना होता है। मैं अब अच्छा महसूस कर रहा हूं और इस टाई मुकाबले का इंतजार कर रहा हूं।" 

पूर्व में शीर्ष-100 में रहे गुणेश्वरन का इस सीज़न में 14-22 का रिकॉर्ड है और वह दुनिया में 165वें स्थान पर आ गए हैं। उन्होंने पिछले महिने सर्वश्रेष्ठ परिणाम हासिल किया, जब उन्होंने वाशिंगटन में ATP 500 स्पर्धा के लिए क्वालीफाई किया। हालांकि, वह फ़िनलैंड के नंबर 1 रुसुवुरी से 6-2, 1-6, 1-6 से हार गए, जिससे उन्हें शनिवार को रिवर्स सिंगल्स में सामना करना है। 

गुणेश्वरन ने कहा, “चोटों के कारण मेरा सीज़न योजना के अनुसार आगे नहीं बढ़ा और मुझे वह परिणाम नहीं मिला, जो मैं चाहता था। मैं इसे बदलने के लिए उत्सुक हूं।”

"मैंने हाल ही में रुसुवुरी के खिलाफ मुकाबला किया है, यह एक अच्छा मैच था। पहला सेट मैंने अच्छा खेला और फिर मेरा प्रदर्शन कमजोर पड़ने लगा और वह ऊपर उठने लगा और मैच पर कब्जा जमा लिया। अगर, मैं मैच के पहले सेट में जो किया, उसे बरकरार रख पाता, तो मेरे पास अच्छा मौका था।" 

भारत के डेविस कप कोच जीशान अली (Zeeshan Ali)का मानना है कि बांए हाथ के खिलाड़ी गुणेश्वरन एस्पू में कम उछाल वाले, मध्यम गति वाले इनडोर हार्ड कोर्ट पर अभ्यास सत्र में बेहतर नजर आए। 

अली ने कहा, "कुछ हफ़्ते पहले एक डर था, जब उन्होंने मुझे बताया कि उसकी कलाई उसे परेशान कर रही है और वह रिहेव करवाने के लिए चेन्नई वापस गया। लेकिन, यहां आकर वह गेंद को अच्छी तरह से मार रहा है। वह अच्छी तरह से चल-फिर रहे हैं। रफ्तार और हर मामले में कोर्ट भी उन को पर सूट करता नजर आ रहा है। मैंने उन्हें खेलते हुए देखा है यह सबसे अच्छा है।” 

गुरुवार को भारत के पास ड्रॉ की किस्मत थी। क्योंकि, गुणेश्वरन को शुरुआती मैच खेलने के लिए चुना गया। 

भारत के गैर खिलाड़ी कप्तान रोहित राजपाल (Rohit Rajpal) ने टाई की पूर्व संध्या पर कहा, "हम खुश हैं कि हमारा नंबर 1 पहले नंबर पर मुकाबला करेगा। अगर, वह क्षमता के अनुसार खेलता है और प्रदर्शन करता है, तो हम 1-0 से आगे आ सकते हैं, फिर विपक्षी टीम के नंबर 1 खिलाड़ी पर राम को हराने का दबाव होगा।" 

विश्व में 187वें स्थान पर काबिज रामकुमार डेविस कप में मौके पर आगे बढ़ने के लिए जाने जाते हैं। 26 वर्षीय, अपने पहले मेजर में पहुंचने के करीब आ गए, जब वह 2021 विंबलडन में क्वालीफाइंग के अंतिम दौर में पहुंचे, लेकिन ऑस्ट्रेलिया के मार्क पोलमैन (Marc Polmans) से पांच सेटों में हार गए। 

उन्होंने पिछले सप्ताह के अंत में फ्रांस के कैसिस में ATP चैलेंजर इवेंट में युगल खिताब जीतकर और एकल क्वार्टर फाइनल में जगह बनाकर कप टाई में जाने के लिए कुछ लय हासिल की। 

रामकुमार ने कहा, “युगल खिताब जीतना हमेशा अच्छा होता है। मैंने कुछ अच्छे एकल मैच भी खेले हैं, इसलिए कैसिस में मेरे लिए कुल मिलाकर एक अच्छा सप्ताह था। मुझे लगता है कि हम एक अच्छी टीम के खिलाफ खेल रहे हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हमारे पास मौका नहीं है। हमें मैचों में काफी मौके मिलेंगे, इसलिए हमें अपनी ताकत पर कायम रहना होगा।” 

भारत को पांच मैचों के टाई में तीन जीत हासिल करने के लिए कम से कम एक अंक जीतने के लिए रामकुमार की आवश्यकता हो सकती है। डबल्स में रोहन बोपन्ना (Rohan Bopanna) और दिविज शरण (Divij Sharan) का सामना हैरी हेलियोवरा (Harri Heliovarra) और हेनरी कोंटिनेन (Henri Kontinen) से होगा। 

डेविस कप टाई का विजेता विश्व ग्रुप क्वालीफायर में आगे बढ़ेगा और अगले साल 18 टीमों के डेविस कप फाइनल में जगह बनाने का मौका मिलेगा।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स