‘ओलंपिक की हार ने मुझे एक बेहतर खिलाड़ी बनने में मदद की’- जी साथियान 

भारतीय पैडलर टोक्यो 2020 के बाद अपने जीवन की अच्छी फॉर्म में हैं। 

लेखक दिनेश चंद शर्मा
फोटो क्रेडिट 2018 Getty Images

टोक्यो 2020 के दूसरे राउंड में निराशाजनक हार के बाद वापसी करने वाले ज्ञानशेखरन साथियान (Gnanasekaran Sathiyan) तब से अजेय रहे हैं। ओलंपिक में वह लाम सियु हांग (Siu Hang Lam) के खिलाफ 3-1 से आगे थे, लेकिन लगातार चार गेम हार कर अपने पहले ओलंपिक से बाहर हो गए। 

उस हार ने उन्हें अपने खेल का विश्लेषण करने के लिए सोचने पर मजबूर कर दिया। तब से उन्होंने एक विश्व टूर मिश्रित युगल खिताब, एक विश्व टूर पुरुष युगल खिताब, एक ITTF पुरुष एकल खिताब और दोहा में एशियाई चैम्पियनशिप में दो कांस्य पदक जीते हैं। सफलता की सूची लंबी हो सकती है, लेकिन साथियान ने अभी अपने कारनामों के साथ शुरुआत की है। 

उन्होंने Olympics.com से कहा, "ओलंपिक के बाद यह शानदार प्रदर्शन रहा है। मैं ज्यादा फुर्तीला हूं और ज्यादा आक्रामक तरीके से खेल रहा हूं।" 

"ओलंपिक के बाद, हमने खेल का विस्तृत विश्लेषण किया और वास्तव में उन हारों ने मुझे मजबूत बना दिया। हमारे पास बहुत सारा डेटा था और अपने कोच के साथ मैंने अपने खेल के तकनीकी हिस्से और छोटे विवरणों को शामिल किया, जिनमें मैं सुधार कर सकता था। इससे अब हमें अच्छे परिणाम मिल रहे हैं। अपनी फॉर्म से बेहद खुश हूं और अब मुझे इस लय को विश्व चैंपियनशिप और 2022 में होने वाले बड़े टूर्नामेंट के लिए बनाए रखने की जरूरत है।" 

वह पहले से कहीं ज्यादा फिट और काफी तेज खिलाड़ी नजर आ रहे हैं।

उन्होंने कहा, "मैं अपने खेल में और अधिक गतिशीलता चाहता था। मैं कोर्ट में बेहतर फुटवर्क करना चाहता था। क्योंकि, गति मेरी ताकत है। निश्चित रूप से, ताकत महत्वपूर्ण है। लेकिन, मैं अपनी ताकत का पूरा उपयोग करना चाहता हूं। इसलिए, हमने अपने मूवमेंट पर काम किया और सर्विस पर बहुत कुछ करके और गेम हासिल करते हैं।"  

पिछले महीने ट्यूनिस में WTT कंटेंडर में साथियान और हरमीत देसाई (Harmeet Desai) ने सेमीफाइनल में हंगरी के नंदोर एक्सेकी (Nandor Ecseki) और एडम ज़ुदी (Adam Szudi) की वर्ल्ड नंबर 7 जोड़ी को हराया था। भारतीय जोड़ी शुरू से ही दबाव में थी, लेकिन उन्होंने 0-2 से पिछड़ने के बाद 8-11 12-14 11-9 11-8 11-9 से जीत दर्ज की। 

अपने सर्विस स्टॉक से हटकर, उन्होंने हंगेरियन के खिलाफ बनाना सर्विस का विकल्प चुना और एक समय के बाद, इसके बेहतर परिणाम सामने आए।

उन्होंने समझाया, "हंगरी TT में युगल विशेषज्ञ की तरह है। इसलिए, हराने के लिए यह एक मुश्किल जोड़ी थी। बाएं हाथ का नंदोर अपनी ताकत के साथ घातक था, लेकिन हमने खेल में बने रहने की कोशिश की। एक ऐसी रणनीति तैयार करने की कोशिश की, जो उसे हाथ स्विंग करने और स्पेस का कम करने नहीं देगी। मैं हरमीत की इतना अच्छा खेलने और योजना पर टिके रहने के लिए तारीफ करता हूं। तीसरे गेम में ओपनिंग मिलने के बाद, हमारे लिए चीजें बदल गईं। हमने उन्हें बीच से निशाना बनाना शुरू किया और इससे हमें कई अंक हासिल करने में मदद मिली।"  

हालांकि, वह हरमीत के साथ पुरुष युगल में चमक चुके हैं, लेकिन वह 23 नवंबर को अमेरिका में शुरू होने वाली विश्व चैंपियनशिप के लिए अनुभवी शरत कमल के साथ जोड़ी बनाने की योजना बना रहे हैं। भारतीय तिकड़ी अगले कुछ टूर्नामेंटों में मिक्स एंड मैच करेगी, ताकि देश को 2022 में राष्ट्रमंडल खेलों और एशियाई खेलों में टीम स्पर्धाओं के लिए एक और युगल जोड़ी मिले। 

उन्होंने अंत में कहा, "विश्व चैंपियनशिप में मेरी और शरत की जोड़ी बनाने की संभावना है। हम अलग-अलग भागीदारों के साथ खेलने का प्रयास कर रहे हैं। क्योंकि, मैं और शरत टीम स्पर्धाओं में एक साथ नहीं खेल सकते हैं। क्योंकि, दो मजबूत एकल दावेदार भी होने चाहिए। इसलिए, हमें डबल जोड़ी चुनने के लिए अधिक लचीला होना होगा। हरमीत और शरत भविष्य में भी एक साथ दिखाई दे सकते हैं। अभी, मेरा ध्यान मिश्रित और एकल पर है। लेकिन, भविष्य में मैं और हरमीत एक बार फिर जोड़ी बना सकते हैं।"

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स