ओलम्पिक की तैयारी में जान: ओलंपियन माना पटेल ने अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप अपने डाइट प्लान में किया बदलाव 

ओलंपिक में स्थान पाने वाली पहली भारतीय महिला तैराक ने टोक्यो 2020 के बाद अपने संशोधित डाइट प्लान के बारे में बात की। 

लेखक दिनेश चंद शर्मा
फोटो क्रेडिट Swimming Federation of India

माना पटेल (Maana Patel) ने टोक्यो 2020 में ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा करने वाली पहली महिला तैराक बनकर भारतीय तैराकी में एक नया अध्याय शुरू किया। उन्हें विश्वव्यापकता कोटा के तहत ओलंपिक में खेलने के लिए एक स्थान दिया गया था। 

लेकिन ओलंपिक खेलों में वह ज्यादा समय नहीं टिक पाई थी। क्योंकि, वह 1 हीट में तीन तैराकों में से दूसरे स्थान पर रहने के बाद महिलाओं की 100 मीटर बैकस्ट्रोक स्पर्धा के सेमीफाइनल के लिए क्वालीफाई करने में विफल रहीं। 

हालांकि, पहले ओलंपिक अनुभव ने 21 वर्षीय को यह समझने में मदद की है कि अपने करियर की शुरुआत में उस स्तर पर प्रतिस्पर्धा करने के लिए क्या करना पड़ता है। उनका मानना है कि ओलंपियन का टैग न केवल उनके अनुशासन में बल्कि, जीवन के कई पहलुओं में उनकी प्रगति में मदद करेगा। 

पटेल ने Olympics.com को बताया, "यह (ओलंपिक) बहुत थकाऊ और मानसिक रूप से भार डालने वाला है। लोग समझते हैं कि ओलंपिक में जाना अद्भुत है, लेकिन उन्हें इस बात का एहसास नहीं है कि इसमें कितनी कोशिश और मेहनत लगती है। इसने मुझे बहुत थका दिया है। इसने वहां मेरा सब कुछ (मानसिक और शारीरिक रूप से) प्रभावित किया।"  

उन्होंने कहा, "मैं ओलंपिक से बहुत अच्छे अहसास के साथ वापस आई। अहमदाबाद (उनका गृहनगर) जश्न मना रहा था, मेरे होर्डिंग लगे थे, लोग बधाई दे रहे थे, लेकिन मैंने इतना अकेलापन कभी महसूस नहीं किया।" 

लेकिन, अब उनका मुख्य ध्यान अपने आहार और प्रशिक्षण कार्यक्रम में बदलाव करके अंतरराष्ट्रीय मानकों पर खरा उतरने पर है। 

पटेल ने कहा, "अंतरराष्ट्रीय मानकों से मेल खाने के लिए आपको अन्य अंतरराष्ट्रीय तैराकों की तरह बड़ा और मजबूत बनने के लिए अपने भोजन और कसरत में बदलाव करना होगा। अब मैं एक उचित आहार और जिम योजना का पालन कर रही हूं।"

*टोक्यो 2020 के बाद क्या है माना पटेल का संशोधित डाइट प्लान ? *

पटेल ने टोक्यो 2020 के बाद बैंगलोर में चल रही 74वीं सीनियर नेशनल एक्वाटिक चैंपियनशिप 2021 में फिर से प्रतिस्पर्धा शुरू की है। वह महिलाओं की 100 मीटर बैकस्ट्रोक स्पर्धा में 1:05:31 के समय के साथ कर्नाटक की रिधिमा कुमार (Ridhima Kumar) (1:04:40) के बाद दूसरे स्थान पर रहीं। 

दो बार की दक्षिण एशियाई स्वर्ण पदक विजेता ने कहा, "मेरे पोषण विशेषज्ञ ने हाल ही में मुझे अधिक खाने की सलाह दी है, क्योंकि मैं मुश्किल से रोजाना 1200 कैलोरी लेती हूं, जो कि खराब है। इसलिए मैं उस पर काम कर रही हूं। पहले मैं बिना भोजन के सुबह खाली पेट तैराकी करती थी। लेकिन, अब मैं तैरने से पहले एक गिलास स्मूदी लेती हूं।" 

वहीं, पटेल को भारतीय और कॉन्टिनेंटल खाना पसंद है। वह दोपहर के खाने में भारतीय भोजन लेना पसंद करती हैं, लेकिन रात के खाने में मैक्सिकन या इटेलियन व्यंजन पसंद करती हैं। 

कई नेशनल रिकॉर्ड धारक ने कहा, "इसके बाद मैं आमतौर पर प्रोटीन शेक और तले हुए अंडे लेती हूं। दोपहर के खाने में सामान्य भारतीय भोजन जैसे सब्जी और रोटी या दाल और चावल होता है।"  

उन्होंने कहा, "शाम को तैरने से पहले मैं एक सैंडविच या चुकंदर का ज्यूस लेती हूं। तैरने के बाद का आहार सुबह जैसा ही रहता है। रात के खाने में एक बर्टिटो बाउल या पास्ता होता है।"

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स