महिला FIH हॉकी विश्व कप: जापान को करारी शिकस्त देकर भारत ने हासिल किया 9वां स्थान

राष्ट्रमंडल खेल 2022 से पहले भारतीय महिला टीम ने जोरदार प्रदर्शन करते हुए जापान को 3-1 से मात दी। जापान के शुरुआती बढ़त के बाद नवनीत कौर के दो गोल की बदौलत भारत ने एक आसान जीत दर्ज की।

लेखक रौशन प्रकाश वर्मा
फोटो क्रेडिट FIH

स्पेन के एस्टाडी ओलिंपिक डि टेरासा में चल रहे FIH हॉकी महिला विश्व कप 2022 में 9वें-12वें स्थान के प्ले-ऑफ मैच में भारत का मुकाबला जापान के खिलाफ हुआ। भारतीय महिला हॉकी टीम ने इस मुकाबले में शानदार प्रदर्शन करते हुए विश्व कप 2022 का अपना दूसरा मुकाबला जीता। विश्व कप के अपने आखिरी मुकाबले में भारतीय टीम ने जापान को 3-1 के अंतर से करारी शिकस्त देकर 9वां स्थान हासिल किया।

भारत की ओर से नवनीत कौर ने (30वें और 45वें मिनट में) दो गोल किए जबकि दीप ग्रेस एक्का (38वें मिनट में) ने एक गोल किया। वहीं, जापान की ओर से एकमात्र गोल यु एसाई (20वें मिनट) ने किया।

पहले हाफ के खेल की शुरुआत काफी धीमी रही लेकिन बाद में मुकाबले में भारतीय खिलाड़ियों का दबदबा रहा। दोनों ही टीमों ने एक-दूसरे पर लगातार दबाव बनाए रखा। हालांकि, पहली सफलता जापान को 20वें मिनट में मिली लेकिन 10 मिनट बाद ही भारत की नवनीत कौर ने रिवर्स हिट के माध्यम से एक बेहतरीन फील्ड गोल कर स्कोर को 1-1 से बराबर कर दिया।

पहले क्वार्टर में दोनों ही टीमों ने अटैक करने का प्रयास किया लेकिन कोई भी टीम गोल करने में नाकाम रही। हालांकि, इस बीच भारत को एक पेनल्टी कॉर्नर और एक फ्री हिट का मौका भी मिला जो गोल में तब्दील नहीं हो सके।

दूसरे क्वार्टर के शुरुआत में ही भारतीय टीम ने आक्रामकता दिखाते हुए जापानी गोलपोस्ट पर शॉट लगाया लेकिन वंदना कटारिया के शॉट को जापान के गोलकीपर ईका नाकामुरा ने रोक लिया।

इसके बाद जापान को एक पेनल्टी कॉर्नर का मौका मिला जिसे यु एसाई (20वें मिनट में) ने बिना कोई गलती किए गोल तक पहुंचा दिया और अपनी टीम को 1-0 की बढ़त दिला दी। इस बीच, टीम इंडिया को एक पेनल्टी कॉर्नर मिला जिसे गुरजीत कौर गोल तक पहुंचाने में नाकाम रहीं। इसके बाद भारत ने जापान पर लगातार दबाव बनाते हुए दो और पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया।

भारत को पहली सफलता नवनीत कौर ने पहले हाफ के खत्म होने से ठीक 34 सेकेंड पहले दिलाई। लालरेम्सियामी और ज्योति ने मिलकर गोल के लिए जगह बनाने का प्रयास किया और इस मौके का फायदा उठाते हुए 30वें मिनट में एक शानदार रिवर्स हिट की मदद से नवनीत ने भारत को 1-1 की बराबरी पर पहुंचा दिया।

तीसरा क्वार्टर पूरी तरह से भारतीय टीम के नाम रहा। इस दौरान सविता ब्रिगेड ने जापान को कोई भी मौका नहीं दिया और अपना वर्चस्व कायम रखा। भारत को इस आक्रामक रवैये का फायदा भी मिला और दीप ग्रेस एक्का (38वें मिनट में) ने पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील कर अपनी टीम को एक महत्वपूर्ण बढ़त दिला दी। इसके बाद नवनीत कौर (45वें मिनट में) ने मुकाबले में अपना दूसरा गोल दागते हुए टीम को 3-1 की मजबूत बढ़त दिला दी।

भारतीय महिला टीम ने चौथे क्वार्टर की शुरुआत भी आक्रामक रवैये का साथ की। वहीं, जापान की टीम मुकाबले में अपनी वापसी के लिए लगातार संघर्ष करती रही। हालांकि, चौथे क्वार्टर में भी भारतीय टीम ने जापान को कोई मौका नहीं दिया और 3-1 से मुकाबले को अपने नाम कर महिला FIH हॉकी विश्व कप में अपनी दूसरी जीत दर्ज की।

बता दें कि जापान के खिलाफ पिछले चार मुकाबलों में भारतीय महिला टीम की यह तीसरी जीत है।

इससे पहले FIH महिला हॉकी विश्व कप के अपने पहले क्वालिफिकेशन मैच में भारत ने कनाडा को शूटआउट में 3-2 से हराकर अपनी पहली जीत दर्ज की थी।

अभियान के अपने पहले चार मैचों में हार के कारण भारत की क्वार्टर फाइनल तक पहुंचने की उम्मीदें धूमिल हो गईं। हालांकि, कनाडा के खिलाफ शूटआउट से जीत और जापान के खिलाफ मिली सफलता के कारण भारतीय हॉकी टीम ने अपने विश्व कप अभियान को सकारात्मक रूप से समाप्त किया।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स