FIH महिला हॉकी विश्व कप 2022: भारत और इंग्लैंड के बीच मुकाबला 1-1 से ड्रॉ, वंदना कटारिया ने किया गोल

राष्ट्रमंडल खेलों से पहले आयोजित विश्व कप में भारत ने अपने अभियान की शुरुआत ड्रॉ के साथ की। शुरुआती दौर में पिछड़ने के बाद वंदना कटारिया के गोल की मदद से भारत ने मैच को ड्रॉ किया।

लेखक रौशन प्रकाश वर्मा
फोटो क्रेडिट FIH

स्पेन और नीदरलैंड में जारी FIH महिला हॉकी विश्व कप 2022 में भारतीय महिला हॉकी टीम ने रविवार को अपने अभियान का आगाज इंग्लैंड के खिलाफ ड्रॉ के साथ किया। विश्व हॉकी रैंकिंग में आठवें स्थान पर काबिज भारतीय टीम ने रविवार को नीदरलैंड के एम्सटेलवीन के वैगनर स्टेडियम में इंग्लैंड के खिलाफ विश्व कप 2022 का पहला मैच 1-1 से ड्रॉ खेला।

हालांकि, भारतीय टीम ने पेनल्टी कॉर्नर के कई मौके गंवाए, वे सभी अगर गोल में तब्दील हो जाते तो भारतीय टीम एक शानदार जीत दर्ज कर सकती थी।

दोनों ही टीमों की तरफ से एक-एक गोल किया गया। भारत की ओर से वंदना कटारिया (28वें मिनट में) और इंग्लैंड की तरफ से इसाबेल पीटर (9वें मिनट में) ने गोल किया।

पहले क्वार्टर के दौरान भारतीय महिला टीम ने विश्व रैंकिंग में चौथे स्थान पर काबिज इंग्लैंड को कड़ी टक्कर दी। हालांकि भारत तीन में से एक भी पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील नहीं कर सका। वहीं, दूसरी तरफ इंग्लैंड की टीम भी कई बार भारतीय गोलपोस्ट के करीब आई लेकिन उनकी ओर से एक शानदार गोल देखने को मिला। पहले क्वार्टर के बाद भारतीय टीम 1-0 से पीछे थी।

दोनों टीमों के द्वारा लगातार बढ़त बनाने के संघर्ष के बीच पहली सफलता इंग्लैंड को नौवें मिनट में मिली। इंग्लैंड की ओर से ओर से इसाबेल पीटर (9वें मिनट में) ने पहला गोल दागकर इंग्लैंड को एक महत्वपूर्ण बढ़त दिला दी।

मैच के दूसरे क्वार्टर में भारतीय टीम पहले से अधिक आक्रामक दिखी और उन्हें इसका बेहतर परिणाम भी मिला। भारत ने मुकाबले के 28वें मिनट में स्कोर को 1-1 से बराबर करते हुए मैच के रोमांच को चरम पर पहुंचा दिया।

दूसरे क्वार्टर के 17वें मिनट में एक बार फिर से भारत के पास गोल करने का मौका था। गुरजीत कौर ने एक अच्छा ड्रैग फ्लिक किया लेकिन उसे गोल तक पहुंचाने के लिए वहां कोई भी भारतीय खिलाड़ी मौजूद नहीं थी और गेंद गोलपोस्ट से काफी दूर चली गई। इस तरह भारत ने चौथा पेनल्टी कॉर्नर भी बिना गोल किए गंवा दिया।

मैच के 23वें मिनट में भारतीय टीम ने शानदार सूझ-बूझ दिखाते हुए एक सफल रिव्यू लिया। दरअसल, सर्कल के अंदर भारत की ओर से एक खराब टैकल के परिणामस्वरूप इंग्लैंड को एक पेनल्टी कॉर्नर मिला। लेकिन, भारतीय टीम ने इसके रिव्यू के लिए अपील की और वे सही साबित हुए। इंग्लैंड ने फ्री हिट लेने से पहले गेंद को रोका नहीं था और इसलिए उन्हें इस पेनल्टी कॉर्नर से हाथ धोना पड़ा।

इससे पहले 20वें मिनट में गोलकीपर कप्तान सविता पूनिया ने शानदार बचाव करते हुए इंग्लैंड को एक और गोल करने से रोका। हालांकि, वे इंग्लिश खिलाड़ियों से घिरी हुईं थीं लेकिन उन्होंने सेंटर से लगाए गए शॉट को रोककर भारतीय टीम को दबाव में आने से बचा लिया।

मैच का हाफ टाइम होने से ठीक पहले (30वें मिनट में) भारत को एक और पेनल्टी कॉर्नर मिला लेकिन इंग्लैंड की गोलकीपर मैडी हिंच ने इसे गोल में तब्दील नहीं होने दिया। पहले हाफ के खत्म होने के बाद दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर थीं।

दूसरे हाफ में दोनों ही टीमें एक गोल कर अपनी बढ़त को मजबूत करने के इरादे से मैदान पर उतरी। 33वें मिनट में भारत की ओर से सलीमा टेटे का प्रयास असफल रहा तो वहीं 35वें मिनट में इंग्लैंड के द्वरा भी बाएं तरफ से गोल करने का प्रयास नाकाम रहा। इसके बाद दोनों टीमें लगातार एक गोल हासिल करने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगाती दिखीं।

तीसरे क्वार्टर के अंतिम पलों में नेहा ने रिबाउंड के बाद एक ताकत भरे शॉट के साथ गोल का प्रयास किया लेकिन मैडी हिंच ने उन्हें नाकामयाब करते हुए भारत को बढ़त हासिल करने से रोका।

58वें मिनट में भारत ने पेनल्टी कॉर्नर का एक और मौका गंवाया। वहीं, 59वें मिनट में इंग्लैंड को भी एक पेनल्टी कॉर्नर का मौका मिला लेकिन भारतीय टीम ने एक बार फिर से अच्छा रिव्यू लिया और जिसके बाद उन्हें इस पीसी से वंचित होना पड़ा।

अंतिम और निर्णायक क्वार्टर में भारत को दो झटके लगे जब नवजोत कौर (49वें मिनट में) और गुरजती कौर (51वें मिनट में) को ग्रीन कार्ड मिला। हालांकि, दोनों ही टीमें अंतिम क्वार्टर में भी कोई गोल नहीं कर सकीं और महिला हॉकी विश्व कप 2022 में भारत का पहला मुकाबला 1-1 के स्कोर के साथ ड्रॉ पर खत्म हुआ।

भारतीय टीम मंगलवार (5 जुलाई) को हॉकी रैंकिंग में 13वें स्थान पर मौजूद चीन के खिलाफ FIH महिला हॉकी विश्व कप 2022 का अपना दूसरा मुकाबला खेलेगी।

बता दें, भारत और इंग्लैंड की टीम का आखिरी बार टोक्यो 2020 ओलंपिक के दौरान कांस्य पदक के लिए आमना-सामना हुआ था, जहां भारतीय टीम को 4-3 के अंतर से हार का सामना करना पड़ा था।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स