दिल्ली हाफ मैराथन 2022: विश्व रिकॉर्ड धारक जैकब किप्लिमो शीर्ष एथलेटिक्स इवेंट में लेंगे हिस्सा

युगांडा के जैकब किप्लिमो ने पिछले साल लिस्बन में 57:31 मिनट में दौड़ को समाप्त करते हुए हाफ मैराथन विश्व रिकॉर्ड तोड़ा था। अब उनकी नजर 16 अक्टूबर को दिल्ली में मीट रिकॉर्ड बनाने पर होगी।

लेखक रितेश जायसवाल
फोटो क्रेडिट Getty Images

पुरुषों की हाफ मैराथन के विश्व रिकॉर्ड धारक युगांडा के जैकब किप्लिमो 16 अक्टूबर को दिल्ली हाफ मैराथन 2022 में प्रतिस्पर्धा करने के लिए भारत आएंगे।

वर्ल्ड एथलेटिक्स एलीट लेबल इवेंट, दिल्ली हाफ मैराथन साल 2005 से चल रहा है और आगामी इवेंट इसका 17वां संस्करण होगा।

जैकब किप्लिमो मौजूदा विश्व हाफ मैराथन चैंपियन हैं, उन्होंने 2020 में विश्व एथलेटिक्स हाफ मैराथन चैंपियनशिप का खिताब जीता था। पिछले साल उन्होंने लिस्बन में 57:31 समय में अपनी दौड़ को समाप्त करते हुए केन्या के किबिवोट कैंडी द्वारा बनाए गए हाफ मैराथन विश्व रिकॉर्ड को 1 सेकेंड से तोड़ा था। 

21 वर्षीय किप्लिमो एक शानदार ट्रैक धावक हैं, जिन्होंने 2020 में टोक्यो ओलंपिक में 10,000 मीटर और इस साल की शुरुआत में ओरेगन में विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2022 में कांस्य पदक जीता है।

किप्लिमो ने पिछले महीने बर्मिंघम में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में पुरुषों की 5,000 मीटर और 10,000 मीटर दोनों में स्वर्ण पदक जीता था।

जैकब किप्लिमो 2022 में भी ट्रैक पर शानदार प्रदर्शन करते हुए नजर आए हैं। फरवरी में उन्होंने संयुक्त अरब अमीरात के रास अल खैमाह (यूएई) में 57:56 मिनट में पूरी दुनिया में सबसे कम समय में दौड़ को समाप्त करते हुए RAK हाफ मैराथन जीती थी। इसके बाद पिछले रविवार को इंग्लैंड में ग्रेट नॉर्थ रन हाफ मैराथन में उन्होंने पोडियम पर शीर्ष स्थान हासिल किया था।

इथियोपिया के अम्डेबर्क वालेलेग्न, जिन्होंने 2020 में दिल्ली हाफ मैराथन के अंतिम संस्करण में यह शीर्ष स्तर की रेस जीती थी, उनके नाम वर्तमान में 58:53 समय का मीट और कोर्स रिकॉर्ड दर्ज है।

हालांकि, किप्लिमो का मानना ​​है कि भारत में अपनी पहली यात्रा के दौरान वह इस धरती पर सबसे तेज हाफ मैराथन दौड़ सकते हैं।

जैकब किप्लिमो ने कहा, “मुझे बताया गया है कि दिल्ली हाफ मैराथन कोर्स काफी अच्छा और तेज है। रिकॉर्ड बताते हैं कि आप वहां तेजी से दौड़ सकते हैं। आप जो करने जा रहे हैं उसके बारे में भविष्यवाणी करना हमेशा खतरनाक होता है, लेकिन मैं जो कह सकता हूं वह यह है कि इस रेस में हिस्सा लेने में अभी एक महीना बाकी होने के साथ मैं अच्छी स्थिति में हूं, और मैं अगले कुछ सप्ताह खासतौर पर दौड़ की तैयारी पर ध्यान केंद्रित करूंगा।”

उन्होंने कहा, "मैंने इस साल बहुत ज्यादा दौड़ नहीं लगाई है, इसलिए मैं अभी भी काफी अच्छा महसूस कर रहा हूं और मैं दिल्ली और भारत के लोगों को दिखाना चाहता हूं कि मैं क्या करने में सक्षम हूं।"

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स